Placeholder canvas

iFellowship 2021: IIT दिल्ली और AIIMS फ़ेलोशिप, हर महीने स्टाइपेंड में मिलेंगे रु. 60,000

IIT दिल्ली और AIIMS द्वारा संचालित संस्थान, द स्कूल ऑफ़ इंटरनेशनल बायोडिज़ाइन ने एक साल की फ़ेलोशिप के लिए आवेदन आमंत्रित किए हैं!

स्कूल ऑफ इंटरनेशनल बॉयोडिजाइन (SiB)- अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) और भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT), दिल्ली द्वारा संयुक्त रूप से संचालित है। इस संस्थान द्वारा, हाल ही में एक साल की फेलोशिप- iFellowship 2021 के लिए आवेदन आमंत्रित किए गए हैं।

SiB एक नवाचार कार्यक्रम है जो विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय के जैव प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा नई दिल्ली के एम्स और आईआईटी-दिल्ली में कार्यान्वित किया जाता है।

संस्थान के इस प्रोग्राम का नाम आई-फेलोशिप 2021 (iFellowship 2021) है, इसके तहत चुने जाने वाले उम्मीदवार (फेलो) एम्स में रहकर वहाँ पर किन चीज़ों की ज़रूरत है, इस पर रिसर्च करेंगे। इसके बाद, वह इन समस्याओं के समाधान और चिकित्सा उपकरण नवाचारों को विकसित करने के लिए एक साथ काम करेंगे।

यह फ़ेलोशिप एक साल के लिए होगी और चयनित उम्मीदवारों का कार्यकाल मार्च 2021 से शुरू होगा। इसके अलावा, उम्मीदवार को प्रति माह 60,000 रुपये स्टाइपेंड मिलेगा, और साथ में, ट्रेवल और मेडिकल के लिए भी बजट मिलेगा।

iFellowship 2021
Rep Image

कौन आवेदन कर सकता है?

आधिकारिक अधिसूचना के अनुसार, जो उम्मीदवार उद्यमिता और नवाचार में रूचि रखते हैं और जो समाज में बदलाव लाने के लिए एक टीम में काम कर सकते हैं, वह इस फेलोशिप के लिए आवेदन कर सकते हैं। यह चिकित्सा, इंजीनियरिंग, व्यवसाय और डिजाइन पृष्ठभूमि के स्नातक और स्नातकोत्तर, दोनों उम्मीदवारों के लिए खुला है।

कैसे करें आवेदन:

आवेदन करने की आखिरी तारीख 25 जनवरी 2021 है। एप्लीकेशन फॉर्म के आधार पर शॉर्टलिस्ट होने वाले उम्मीदवारों को फरवरी में साक्षात्कार के लिए बुलाया जाएगा।

संपादन – जी. एन झा

यह भी पढ़ें: बिहार: State Health Society Recruitment 2021 के तहत 4102 रिक्तियाँ जारी

यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें।

We at The Better India want to showcase everything that is working in this country. By using the power of constructive journalism, we want to change India – one story at a time. If you read us, like us and want this positive movement to grow, then do consider supporting us via the following buttons:

Let us know how you felt

  • love
  • like
  • inspired
  • support
  • appreciate
X