in

महाराष्ट्र : आम नागरिक भी अब देख पाएंगे सरकारी फाईलें!

प्रतीकात्मक तस्वीर

हाल ही में, महाराष्ट्र सरकार ने आम नागरिकों के लिए एक बहुत ही अहम फ़ैसला लिया है। महाराष्ट्र सरकार ने एक सरकारी प्रस्ताव जारी किया है जिसमें नागरिकों को हर सोमवार को दो घंटे के लिए सूचना के अधिकार (आरटीआई) के तहत राज्य भर में जिला स्तर के कार्यालयों और स्थानीय निकायों में रिकॉर्ड का निरीक्षण करने की इजाजत दी गई है।

सामान्य प्रशासन विभाग (जीएडी) के अधिकारियों ने कहा कि इस कदम का उद्देश्य सरकार के कामकाज में पारदर्शिता लाने और आरटीआई आवेदनों और अपीलों को कम करने का है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया,

“नागरिकों को आरटीआई आवेदन दर्ज करने या किसी भी शुल्क का भुगतान करने की आवश्यकता नहीं होगी। वे सीधे कार्यालयों में जा सकते हैं और रिकॉर्ड का निरीक्षण कर सकते हैं।”

सभी जिला स्तरीय कार्यालयों और नगर निगमों और परिषदों, जिला परिषदों जैसे स्थानीय निकायों को हर सोमवार को 3 बजे से शाम 5 बजे तक निरीक्षण की अनुमति देने के लिए कहा गया है। यदि किसी सोमवार को कोई सरकारी छुट्टी हो तो उसके अगले दिन निरीक्षण की अनुमति दी जाएगी।

एक अधिकारी ने कहा कि आरटीआई के तहत फाइलों की जांच करने के लिए लोगों के लिए सरकारी कार्यालय खोलने का निर्णय, साल 2009 में पुणे नगर निगम के कमिश्नर महेश जागड़े द्वारा शुरू किए गए मॉडल पर आधारित है। जागड़े इसी साल मई में रिटायर हुए हैं।

उन्होंने पुणे मॉडल के बारे में बताया कि पुणे नागरिक निकाय में, लोग रिकॉर्ड्स का निरीक्षण कर सकते हैं और साथ ही, एक औपचारिक स्टैम्प के साथ फोटोकॉपी भी ले जा सकते हैं।

हम उम्मीद करते हैं कि महाराष्ट्र सरकार का यह मॉडल सरकार और आम नागरिकों के बीच पारदर्शिता को बढ़ावा देगा। साथ ही, यह मॉडल देश के अन्य राज्यों के लिए एक प्रेरणा है।


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर भेज सकते हैं।

शेयर करे

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है. निशा की कविताएँ आप https://kahakasha.blogspot.com/ पर पढ़ सकते हैं!

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

गुरुग्राम: पिता ने किडनैपर्स का पीछा कर बचाया बेटी को, आरोपियों को भेजा जेल!

महाराष्ट्र: पिछले 17 सालों से इस सरकारी अस्पताल में गरीबों को मिल रहा है मुफ़्त खाना और कपड़े!