in ,

भारतीय सैनिकों को दुश्मन की नज़र से बचाएगा आईआईटी कानपूर का यह आविष्कार!

प्रतीकात्मक तस्वीर (विकीमीडिया कॉमन्स)

हाल ही में, आईआईटी कानपूर के शोधकर्ताओं ने एक ऐसा ‘मेटामटेरियल’ बनाया है, जिसकी बनी वर्दी पहनने से या फिर जिसके बने कवर्स से अपनी जीप आदि ढकने से सेना के जवानों को कोई भी रडार या फिर सेंसर नहीं पकड़ पायेगा। दरअसल, यह मटेरियल रडार किरणों को अपने में अवशोषित करने की क्षमता रखता है, जिससे कोई भी दुश्मन जवानों का पता नहीं लगा सकता।

इस आविष्कार का प्रयोग करके किसी भी रडार, मोशन-डिटेक्टिंग ग्राउंड सेंसर और थर्मल इमेजिंग सिस्टम से बचा जा सकता है।

इस आविष्कार को रक्षा अनुसंधान विकास संगठन (डीआरडीओ) के विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग ने मंजूरी दी व फंड किया है। आईआईटी कानपूर के दो प्रोफेसरों ने मिलकर इसे बनाया है – इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग विभाग से प्रो.कुमार वैभव श्रीवास्तव और मैकेनिकल इंजीनियरिंग विभाग के जे रामकुमार।

साल 2010 से इस प्रोजेक्ट पर काम किया जा रहा था। इस मटेरियल की लैब-टेस्टिंग की जा चुकी है और अब यह फ़ील्ड टेस्टिंग के लिए तैयार है।

Promotion


सबसे अच्छी बात यह है कि यह तकनीक स्वदेशी है और अब इसके चलते भारत को किसी और देश से तकनीक के आयात-निर्यात पर निर्भर रहने की ज़रूरत नहीं पड़ेगी। सैनिकों की वर्दी और जीप आदि के लिए कवर के अलावा अब ये रिसर्चर और भी ऊँचे दर्ज़े का मटेरियल बनाने पर काम कर रहे हैं, ताकि इसे एयरक्राफ्ट में भी इस्तेमाल किया जा सके।

साथ ही, यह मटेरियल काफ़ी लचीला है और किसी भी तरह की मौसमी परिस्थितियों में इस्तेमाल किया जा सकता है।


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर भेज सकते हैं।

शेयर करे

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है. निशा की कविताएँ आप https://kahakasha.blogspot.com/ पर पढ़ सकते हैं!

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

गाँधीनगर में बैठे डॉक्टर ने किया अहमदाबाद में ऑपरेशन; जानिए कैसे!

इश्वर चंद्र विद्यासागर की देख-रेख में, इस साहसी महिला ने किया था भारत का पहला कानूनन विधवा-पुनर्विवाह!