Search Icon
Nav Arrow
Peanuts jaggery benefits

सर्दियों में भारतीय परिवारों द्वारा खाई जाने वाली गुड़-मूंगफली है सुपर हेल्दी! जानें क्यों

मूंगफली-गुड़ की चिक्की का स्वाद इतना लाजवाब होता है कि कोई भी इसे बिना खाए नहीं रह सकता। सिर्फ स्वाद ही नहीं सर्दी के मौसम में मूंगफली और गुड़ का कॉम्बीनेशन सेहत को भी कई फायदे देता है।

क्या खाएं और क्या न खाएं! फिलहाल यह एक हॉट टॉपिक है, जिसपर हर कोई चर्चा कर रहा है। चाहे वह सोशल मीडिया साइट्स हों या फिर व्हाट्सऐप ग्रुप और हो भी क्यों न? सर्दियों का मौसम है ही कुछ ऐसा, जिसमें खाने के लिए बहुत कुछ होता है। अगर हम आपसे पूछें कि ऐसा क्या है, जिसे सदियों से शरीर को गर्म रखने के लिए बड़े शौक़ से खाया जाता रहा है, तो ज़बान पर बस एक ही नाम आएगा-गुड़ और मूंगफली (Peanut Jaggery benefits)।

यह सभी लोगों की पसंद है। इसका स्वाद, शायद ही कोई ऐसा हो जिसे न भाया हो। सेहत को लेकर इसके फायदे भी कम नहीं है। माइक्रो मिनरल्स, विटामिन, हेल्दी फैट, प्रोटीन और पॉलीफेनॉल्स से भरपूर, मूंगफली और गुड़ को सुपर हेल्दी (Peanuts Jaggery benefits) स्नैक्स में गिना जाता है। 

मूंगफली में होते हैं कई पोषक तत्व 

डाइटीशियन गरिमा गोयल ने मूंगफली खाने से होने वाले फायदों के बारे में हाल ही में अपने इंस्टाग्राम पोस्ट में लिखा, “बहुत से लोगों का मानना है कि मूंगफली उतनी पौष्टिक नहीं होती जितनी कि बादाम, अखरोट या काजू जैसे नट्स, यह सही नहीं है। मूंगफली में वे सभी पोषक तत्व होते हैं, जो किसी महंगे नट्स में आपको मिलेंगे। मूंगफली को पौष्टिक भोजन के रूप में अनदेखा नहीं किया जाना चाहिए।”

वह आगे कहती हैं, “हमारे शरीर को कई तरह के माइक्रो और मेक्रोन्युट्रिएंट्स की जरुरत होती है और मूंगफली में ये सभी पोषक तत्व भरपूर मात्रा में होते हैं। इसके अलावा, मूंगफली सस्ती भी होती है।”

जाहिर है जब भी बात मूंगफली और गुड़ (Peanuts Jaggery benefits) के खाने की हो, तो ज़हन में सबसे पहले ख्याल चिक्की का ही आता है। यह मीठे की ललक और भूख को शांत करने का एक प्रभावी तरीका है। लेकिन इससे पहले कि हम चिक्की की रेसिपी साझा करें, आपको बताते हैं कि इसे खाना क्यों इतना फायदेमंद है?

मूंगफली और गुड़ के फायदे

मूंगफली के दाने प्रोटीन, विटामिन और बायोटिन, कॉपर, नियासिन, फोलेट, मैंगनीज, फास्फोरस, मैग्नीशियम जैसे खनिजों का एक अच्छा स्रोत है, जो कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में मदद करते हैं।

एक रिपोर्ट के अनुसार, गुड़ में मौजूद एंटीऑक्सिडेंट्स, एक प्राकृतिक बॉडी क्लीन्ज़र के रूप में काम करते हैं। इसमें मौजूद आयरन, एनीमिया को नियंत्रित करने के लिए अच्छा होता है।

सेलिब्रिटी न्यूट्रिशनिस्ट और लेखक रुजुता दिवेकर के अनुसार, गुड़ को मूंगफली के साथ(Peanuts Jaggery benefits) मिलाकर खाना उसे एक ‘संपूर्ण भोजन’ बनाता है। इसे खाना सभी पसंद करते हैं और इसे बनाना भी कोई मुश्किल काम नहीं है। 

एक सोशल मीडिया पोस्ट में उन्होंने बताया, “गुड़-मूंगफली से बनी चिक्की (Peanuts Jaggery benefits) में माइक्रोन्युट्रिएंट्स, विटामिन और पॉलीफेनॉल्स होते हैं। इसमें मौजूद एसेंशियल फैट हार्ट और हड्डियों के स्वास्थ्य के लिए अच्छा होता है।”

फलों और सब्जियों का एक अच्छा विकल्प 

गुड़ और मूंगफली, उन फलों और सब्जियों का भी एक अच्छा विकल्प है, जिन्हें बच्चे नापसंद करते हैं। एंटीऑक्सिडेंट हमारे खाने से गायब पोषक तत्वों की कमी को पूरा करते हैं और रक्त को शुद्ध करने में भी मदद करते हैं।

एक रिपोर्ट के अनुसार, पाचन में सुधार के लिए फाइबर, मैग्नीशियम, जिंक, आयरन और पोटैशियम जैसे पोषक तत्वों की जरूरत होती है। गुड़ और मूंगफली की चिक्की (Peanuts Jaggery benefits) से आपको ये सबकुछ एक साथ मिल जाता है।

मूंगफली में सेलेनियम और गुड़ में मौजूद मैग्नीशियम व आयरन, मांसपेशियों को मजबूत बनाते हैं। साथ ही खनिज और विटामिन B, युवावस्था में पीरियड्स के दौरान होने वाले दर्द और ऐंठन को कम करने में मदद करते हैं।

तरला दलाल की रेसिपी: क्रश की हुई मूंगफली से कैसे बनाएं चिक्की?

सामग्री (छोटे आकार की17 चिक्की के लिए)

  • 1 कप कुटा हुआ गुड़
  • 1.5 कप कुटी और भुनी हुई मूंगफली

बनाने की विधि

  • एल्युमिनियम की कड़ाही में गुड़ को तब तक गर्म करें, जब तक कि इसमें झाग न बनने लगे और उसका रंग न बदल जाए। इसमें 4 से 5 मिनट का समय लगेगा। 
  • आंच बंद कर दें और गुड़ को चलाते रहें।
  • मूंगफली डालकर अच्छी तरह मिला लें।
  • इस मिश्रण को घी या तेल लगी हुई प्लेट पर डालें और चपटी करछी से एकसार फैला दें। 
  • मिश्रण के एक भाग को थपथपाकर बेलन की सहायता से बेल लें।
  • चाकू की सहायता से चौकोर आकार में काट लें, तैयार है आपकी हेल्दी और टेस्टी गुड़-मूंगफली की चिक्की (Peanuts Jaggery benefits)।

मूल लेखः गोपी करेलिया

संपादनः अर्चना दुबे

यह भी पढ़ेंः पंजाब: तीन तरह के गुड़ बना कमा रहे लाखों, बदली 300+ किसानों की जिंदगी

यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें।

close-icon
_tbi-social-media__share-icon