in ,

92 से 60 किलोग्राम! फिटनेस के प्रति जागरूकता ने बनाया मुंबई पुलिस के इस कांस्टेबल को ‘आयरनमैन’!

‘आयरनमैन रेस’ विश्व के सबसे ज्यादा मशहूर इवेंट्स में से एक है। इस रेस के लिए प्रतिभागियों को 3.8 किलोमीटर तैरना होता है, फिर 180.2 किलोमीटर तक साइकिल चलानी होती है और फिर 42.2 किलोमीटर तक दौड़ना होता है। इसे पूरा करने के लिए निर्धारित समय है 17 घंटे और प्रतिभागियों को बिना कोई ब्रेक लिए इसे पूरा करना होता है।

हाल ही में, मुंबई पुलिस के शंकर उथले ने इस रेस को 16 घंटे और 15 मिनट में पूरा किया और इसी के साथ वे मुंबई पुलिस फाॅर्स के पहले कांस्टेबल ‘आयरनमैन’ बन गये हैं।

‘आयरनमैन’ शंकर उथले

अगर एक साल पहले की बात करें तो कांस्टेबल शंकर का वजन 92 किलो था और उनकी गिनती फाॅर्स के सबसे अनफिट सिपाहियों में होती थी। लेकिन शंकर ने ठाना कि उन्हें अपना वजन कम करना है और उन्होंने इसके लिए जी-तोड़ मेहनत करना शुरू किया।

टाइम्स ऑफ़ इंडिया को उन्होंने बताया, “मुझे पता था कि मुझे दौड़ना होगा वरना मैं खुद पर और अपने काम पर बोझ बन जाऊंगा। मैंने सुबह 5 बजे उठकर दौड़ना शुरू किया।” एक बार शुरुआत करने के बाद उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा। धीरे-धीरे उन्होंने महाराष्ट्र में होने वाले अलग-अलग मैराथन  में भाग लेना शुरू कर दिया।

यह भी पढ़ें: बधीर होने के बावजूद यह कमांडो बना भारत का पहला दिव्यांग आयरन मैन!

Promotion

उन्होंने अपने रूटीन में और भी कई गतिविधियों को जोड़ना शुरू किया। मैराथन इवेंट्स में शंकर की मुलाकात फिटनेस उत्साही लोगों से हुई और साथ ही उन्हें आयरनमैन रेस जैसी प्रतियोगिताओं के बारे में पता चला।

साइकिलिंग करते कांस्टेबल शंकर उथले

उन्होंने कहा, “मेरे मैराथन के दौरान, मैंने आयरनमैन रेस के बारे में सुना था। मैंने इसके लिए तैयारी शुरू की। मैंने बारिश में साइकिल चलाना शुरू कर दिया। मैं सुबह 5:00 बजे से 10:00 बजे तक साइकिल चलाता था। मैंने तैराकी सीखी हुई थी, लेकिन फिर मैंने तकनीक पर ध्यान दिया।”

17 नवम्बर 2018 को उन्होंने मलेशिया में इस प्रतियोगिता में भाग लिया और इसे जीता भी।

इस साल की शुरुआत में, मेजर जनरल विक्रम डोगरा इस ट्रायथलॉन को पूरा करने वाले पहले भारतीय सेना अधिकारी बने। पूर्व समुद्री कमांडो और 26/11 सर्वाइवर प्रवीण तेवतिया अप्रैल 2018 में देश के पहले दिव्यांग आयरनमैन बने थे। आईपीएस अधिकारी कृष्णा प्रकाश ने इस वर्ष मई में अल्ट्रामैन की दौड़ में भाग लिया और दौड़ समाप्त करने वाले पहले भारतीय सिविल सर्वेंट बने।

ये “आयरनमैन” निश्चित रूप से एक स्वस्थ और फिट इंडिया के लिए प्रेरणा हैं।

फोटो स्त्रोत


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर भेज सकते हैं।

शेयर करे

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है. निशा की कविताएँ आप https://kahakasha.blogspot.com/ पर पढ़ सकते हैं!

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

जानिए कौन हैं सुनील अरोड़ा; अगले महीने से संभालेंगें मुख्य चुनाव आयुक्त का पद!

गाँव में पानी न होने के चलते छोड़नी पड़ी थी खेती, आज किसानों के लिए बना रहे हैं कम लागत की मशीनें!