Search Icon
Nav Arrow
Bounce Infinity E1, E Scooter

न होगी बैटरी, न करना पड़ेगा चार्ज! भारत का पहला बिना बैटरी वाला E-Scooter

बेंगलुरु के इलेक्ट्रिक मोबिलिटी स्टार्टअप ‘बाउंस’ ने हाल ही में इलेक्ट्रिक स्कूटर इन्फिनिटी ई 1 लॉन्च की है। यह एक यूनीक ‘बैटरी एज ए सर्विस’ फीचर के साथ आता है। जाने इसकी और भी बहुत सी खासियतें।

इस महीने की शुरुआत में, बेंगलुरु स्थित इलेक्ट्रिक मोबिलिटी स्टार्टअप, ‘बाउंस’ ने अपना पहला इलेक्ट्रिक स्कूटर, ‘बाउंस इन्फिनिटी ई 1 (Bounce Infinity E1)’ लॉन्च किया है। यह भारत का पहला ऐसा ई-स्कूटर है, जो बिना बैटरी के आ रहा है और इसे चार्ज करने की भी जरूरत नहीं है। बाउंस ने इस ई-स्कूटर को ‘ बैटरी ऐज ए सर्विस’ विकल्प के साथ पेश किया है।

इसे 45,099 रुपये (दिल्ली एक्स-शोरूम) में खरीदा जा सकता है। ग्राहक केवल 499 रुपये की शुरुआती पेमेंट (पूरी तरह से रिफंडेबल) कर इसे प्री-बुक कर सकते हैं। डिलीवरी डीलरशिप नेटवर्क और इसके ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के जरिए अगले मार्च के अंत तक होने की उम्मीद है। 

क्या है ‘बैटरी ऐज ए सर्विस’?

‘सर्विस के तौर पर बैटरी’ विकल्प आखिर क्या है? हमने इस अनूठी विशेषता को समझने के लिए बाउंस के सीईओ और सह-संस्थापक विवेकानंद हालकेरे से बात की।

विवेकानंद ने बताया, “हाल ही में लॉन्च किया गया बाउंस इन्फिनिटी ई1 (Bounce Infinity E1), भारतीय बाजार में अपनी तरह का पहला ई-स्कूटर है, जो ‘बैटरी ऐज ए सर्विस’ विकल्प के साथ आ रहा है। बिना बैटरी वाले इस स्कूटर की चार्जिंग को लेकर ग्राहकों को परेशान होने की जरूरत नहीं होगी। इसके लिए कंपनी अपनी ओर से बैटरी स्वैपिंग की सुविधा उपलब्ध करा रही है। जब भी ग्राहक, बाउंस के स्वैपिंग नेटवर्क से खाली बैटरी को पूरी तरह चार्ज बैटरी से स्वैप करेगा, उसे भुगतान करना होगा। यह पारंपरिक पेट्रोल स्कूटरों की तुलना में लागत को 40 प्रतिशत तक कम कर देता है।” 

इस स्टार्टअप का दावा है कि दिल्ली-एनसीआर और बेंगलुरु जैसे प्रमुख भारतीय शहरों में उसके बैटरी-स्वैपिंग स्टेशन नेटवर्क से करीब 200 स्टेशन जुड़ चुके हैं। साथ ही वे अब तक 5 लाख से ज्यादा बैटरी स्वैप कर, 2 करोड़ से ज्यादा किलोमीटर के सफर को पूरा कर चुके हैं। 

विवेकानंद के अनुसार, “आने वाले अगले 12 महीनों में बाउंस, ई-स्कूटर के निर्माण और बैटरी स्वैपिंग इंफ्रास्ट्रक्चर का विस्तार करने के लिए 100 मिलियन अमरीकी डालर से अधिक का निवेश करने के लिए तैयार है। हम प्रमुख साझेदारों के साथ मिलकर एक विस्तृत बैटरी-स्वैपिंग नेटवर्क स्थापित कर रहे हैं। यह रिटेल कस्टमर और इसके सफल राइड-शेयरिंग बिजनेस दोनों के लिए काम करेगा।”

बैटरी स्वैपिंग इंफ्रास्ट्रक्चर का विस्तार 

During the launch of the Bounce Infinity E1
During the launch of the Bounce Infinity E1

विवेकानंद ने बताया, “हमारा उद्देश्य है कि हम भारत के वातावरण को स्वच्छ बनाए रखने में सहयोग करें और दुनिया का सबसे बड़ा और विस्तृत ‘बैटरी स्वैपिंग प्लेटफॉर्म’ बनाएं। ताकि हम अपने ग्राहकों के लिए हर एक किलोमीटर की दूरी पर एक स्वैपिंग सुविधा दे पाएं।” 

स्टार्टअप ने नोब्रोकर, पार्क+, रेडीसिस्ट, हेलोवर्ल्ड, किचन@, गुडबॉक्स आदि जैसे कई ब्रांड्स के साथ साझेदारी की है। इस स्टार्टअप का मकसद है कि देशभर में ‘इलेक्ट्रिक मोबिलिटी इकोसिस्टम’ को मजबूत करने के लिए 10 शहरों में 3,500 से अधिक बैटरी स्वैपिंग स्टेशन बनाए जाएं। 

उन्होंने बताया, “ये ‘स्मार्ट बैटरी स्वैपिंग स्टेशन’, ग्राहक के आस-पास के एरिया, जैसे-आवासीय सोसायटी, पार्किंग, मॉल, कॉर्पोरेट ऑफिस आदि जगहों पर होंगे। ग्राहक, बाउंस एप की मदद से आसानी से अपने नजदीकी स्टेशन को खोज सकते हैं। ‘बैटरी ऐज ए सर्विस’ विकल्प का सबसे अच्छा हिस्सा यह है कि कोई भी हमारे साथ साझेदारी कर सकता है और बैटरी स्वैपिंग में भागीदार बन सकता है।”

उनका कहना है, “एक छोटे से स्टोर या फिर अपने घर से, कुछ बैटरियों को रखकर आप इस बिजनेस के साथ जुड़ सकते हैं। अगर आप बैटरी नहीं रखना चाहते, तो भी इसमें बस निवेश कर सकते हैं। आप जो निवेश करेंगे उसपर एक निश्चित रिटर्न दिया जाएगा। हम इसे ‘बाउंस पावर’ कहते हैं, जो स्वच्छ वातावरण को बनाए रखने में आम आदमी की भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए उन्हें मजबूत बनाएगी।” 

Bounce Infinity E1 में और क्या हैं खुबियां?

आप चाहें, तो बाउंस इन्फिनिटी E1 (Bounce Infinity E1) को बैटरी के साथ भी खरीद सकते हैं। आप स्कूटर से इसकी बैटरी को निकाल सकते हैं। चाहें तो अपने घर या फिर ऑफिस, जहां भी सुविधाजनक हो इसे चार्ज कर सकते हैं। बैटरी और चार्जर के साथ इस स्कूटर की कीमत 68,999 रुपये (एक्स-शोरूम) है। Infinity E1 2kWh में रिमुवेबल लिथियम-आयन बैटरी पैक मिलता है, जो एक बार चार्ज करने पर 85 किलोमीटर तक चल सकता है। किसी भी नियमित बिजली के सॉकेट का उपयोग करते हुए यह बैटरी पूरी तरह से चार्ज होने में लगभग 4 से 5 घंटे का समय लेती है।

Bounce Infinity E1 में 65 किमी प्रति घंटे की टॉप स्पीड, 8 सेकेंड में 0-40 किमी प्रति घंटे की रफ्तार और 83 Nm का टॉर्क आउटपुट मिलता है। ग्राहक इस ई-स्कूटर को दो राइडिंग मोड- पावर और इको मोड में चला सकते हैं।

यह एक ट्यूबलर फ्रेम पर बनाया गया है और इसमें हाइड्रोलिक टेलीस्कोपिक फ्रंट सस्पेंशन और रियर में दो शॉक एब्जॉर्बर हैं। इसके अलावा, यह इलेक्ट्रॉनिक ब्रेकिंग सिस्टम के साथ दोनों सिरों पर डिस्क ब्रेक के साथ आता है और इसमें रीजनरेटिव ब्रेकिंग टेक्नोलॉजी फीचर भी है। यह ई-स्कूटर 3 साल तक 50,000 किमी तक की वारंटी भी देता है। 

EV में ही क्यों किया निवेश?

Swapping the old battery instead of charging
Battery swapping at Bounce station

बाउंस ने साल 2019 के अंत में ईवीएस और उसके स्वैपिंग नेटवर्क पर काम करना शुरू कर दिया था। पहले उन्होंने एक कान्ट्रेक्ट मैन्युफेक्चरर के साथ काम किया और मिलकर एक मॉडल तैयार किया। यह मॉडल इनके बेड़े में शामिल है। इसके बाद, 2021 की शुरुआत में, बाउंस ने एक EV OEM कंपनी का अधिग्रहण किया और दिसंबर तक आते-आते बाउंस इन्फिनिटी E1 (Bounce Infinity E1) लॉन्च की तैयारी शुरु कर दी। 

विवेकानंद बताते हैं, “हमने महसूस किया कि हमारे जैसे गाड़ी निर्माताओं को ही इस क्षेत्र में पहल करनी होगी। इससे हम ईवी में बेहतर इकॉनमी का लाभ उठा सकते हैं और साथ ही बुनियादी ढांचे का निर्माण कर उपभोक्ताओं तक इसे पहुंचा सकते हैं। बाउंस अपने मोबिलिटी बिजनेस को चलाने और फायदे के लिए ईवी की ओर बढ़ना चाहता था। एक निश्चित बैटरी (चार्जिंग) के साथ जुड़ी चिंता और डाउनटाइम हमारे जैसे फ्लीट ऑपरेटर के लिए उपयुक्त नहीं थी।” 

इसलिए, बाउंस ने इन-हाउस व्हिकल इंजीनियरिंग टीम के साथ, कुछ मौजूदा मॉडलों को संशोधित करने के लिए R&D में भारी निवेश किया और शुरुआत से एक नए मॉडल को डिजाइन और विकसित करने के लिए, रिमुवेबल बैटरी और स्वैपिंग नेटवर्क पर काम किया। भारत के लिए उपयुक्त फार्म फैक्टर पर निवेश करने और उसी के आधार पर डिजायन तैयार करने के बाद, इसे बाजार में अच्छे ईवी की तलाश कर रहे ग्राहकों के लिए बनाया गया।

चार्जिंग हमेशा से रही बड़ी समस्या

विवेकानंद ने बताया, “हमने भारत के हिसाब से इलेक्ट्रिक स्कूटर का निर्माण करने के लिए एक छोटे प्रोजेक्ट के साथ शुरुआत की थी और यह यात्रा हमें यहां तक ​​ले आई। हमने छोटे बैटरी स्टोर के साथ बैटरी स्वैपिंग स्टेशन पर 2 करोड़ किमी से अधिक का सफर तय किया है। कंपनी का दृढ़ विश्वास है कि भारत, ईवी क्रांति की शुरुआत में है और बाउंस, भारत को इलेक्ट्रिक मोबिलिटी अपनाने वालों के विश्व मानचित्र पर लाने के लिए सभी चुनौतियों का सामना करने के लिए तैयार है।”

भारत में अधिकांश दोपहिया मालिकों के पास अपना खुद का पार्किंग स्पेस नहीं है और जिनके पास यह स्पेस है, वहां चार्जिंग की सुविधा नहीं है। दोपहिया वाहन को चार्ज करने की पर्याप्त सुविधा न होना, भारत में ईवी अपनाने में सबसे बड़ी बाधा रही है।

विवेकानंद कहते हैं, “इन्फिनिटी ई1 (Bounce Infinity E1), भारत में पहला और एकमात्र स्कूटर है, जो बाउंस नेटवर्क से बैटरी स्वैप करने के साथ-साथ चार्ज-ऐट-होम का भी विकल्प देता है। इससे न केवल चार्जिंग की समस्या का समाधान होता है, बल्कि बैटरी में पैसे लगाने की जरूरत को भी कम करता है। ग्राहक को हर बार बैटरी स्वैप करने पर चार्ज देना होता है। इससे स्कूटर की रनिंग कॉस्ट काफी कम हो जाती है।”

Bounce Infinity E1 की कुछ खास विशेषताएं

विवेकानंद ने इन्फिनिटी ई1 की कुछ खास विशेषताओं के बारे में बतायाः

  • रिमोट एप्लिकेशन: इससे बैटरी चार्ज स्टेटस को ट्रैक किया जा सकता है।
  • ड्रैग मोडः यह मोड स्कूटर को पंचर होने पर धीमे-धीमे चलने में मदद करता है। 
  • रिवर्स मोडः इस मोड के जरिए तंग पार्किंग स्थलों से बाहर निकलने में आसानी के लिए स्कूटर को पीछे की ओर भी चलाया जा सकता है। 
  • क्रूज़ कंट्रोलः यह सुविधा स्कूटर को स्थिर गति से चलाते रहने में मदद करती है, चाहे रास्ते और इलाके कैसे भी हों।
  • एंटी थेफ्टः इन्फिनिटी E1 का यह खास फीचर इसे चोरी होने से बचा सकता है। पार्क करने के बाद अगर स्कूटर के साथ किसी भी तरह की छेड़-छाड़ की जा रही है, तो स्कूटर समझ जाएगा और फिर उसके पिछले पहियों को जाम कर देगा।
  • टो अलर्टः अगर आपके इन्फिनिटी ई1 को टो किया जा रहा है, तो यह आपको तुरंत अलर्ट कर देगा। ऐप पर मिली नोटिफिकेशन से इसे ट्रैक भी कर सकते हैं। 

अन्य ईवी निर्माताओं से अलग, बाउंस न केवल एक ई-व्हीकल लॉन्च किया है, बल्कि इसके साथ एक पूरा इको-सिस्टम भी तैयार कर रहा है। यह सफल होता है या नहीं, तो आने वाला समय ही बताएगा। लेकिन उनके प्रयासों को किसी भी नजरिए से कम करके नहीं आंका जा सकता है।

मूल लेखः रिनचेन नोर्बू वांगचुक 

संपादनः अर्चना दुबे

यह भी पढ़ेंः इस ई-स्कूटर को चलाने के लिए दिन का खर्च है 10 रुपए से भी कम

यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें।

close-icon
_tbi-social-media__share-icon