Search Icon
Nav Arrow

UPSC CSE Mains की तैयारी के दौरान इन 6 बातों का रखा ध्यान, तो आ सकते हैं अच्छे मार्क्स

UPSC की परीक्षा पास कर चुके अभिजीत यादव ने बताया कि उम्मीदवार, परीक्षा के दौरान कौन सी सामान्य गलतियां करते हैं और कैसे इसे सुधार कर अधिक अंक हासिल कर सकते है?

अभिजीत यादव ने अपने जीवन के पांच साल संघ लोक सेवा आयोग की सिविल सेवा परीक्षा ((UPSC CSE Mains) की तैयारी करने और उसमें बैठने में बिताए हैं। उनके अनुसार, कई बार उम्मीदवार मेन्स परीक्षा के समय कुछ सामान्य गलतियां करते हैं, जिन पर ध्यान दिए जाने की जरूरत है। क्या हैं वे गलतियां और कैसे उनमें सुधार किया जा सकता है? यू-ट्यूब पर अपने एक वीडियो में अभिजीत ने इसके बारे में विस्तार से बात करते हुए कुछ बेहद कारगर सुझाव दिए हैःं-

1. सामग्री की कमी

अगर कोई उम्मीदवार किसी प्रश्न का बहुत ही सामान्य ढंग से उत्तर लिखता है, तो ऐसे में अंक भी औसत ही मिलेंगे। अभिजीत कहते हैं, “परीक्षा (UPSC CSE Mains) के दौरान, एक सामान्य उत्तर, जिसमें आप कुछ भी नई जानकारी या उदाहरण नहीं देते हैं, वे सिर्फ सामान्य अंक ही दिला सकता हैं। कई बार तो ऐसे जवाब के लिए औसत से भी कम अंक मिलते हैं। मेन्स परीक्षा के हर उत्तर को बेहतर बनाने के लिए, सवाल से जुड़े उदाहरणों के साथ जवाब लिखना चाहिए। विषय की पूरी जानकारी और प्रासंगिक उदाहरण आपके जवाब को वज़नदार व प्रभावशाली बना देते हैं।”

उदाहरण के साथ उत्तर लिखने से परीक्षक को विषय पर आपकी पकड़ को समझने में मदद मिलती है। साथ ही यह आपके विचार की स्पष्टता को भी प्रदर्शित करता है। वह कहते हैं, “रटने के बजाय, जवाब लिखने के लिए अपनी सरल भाषा में खुद का कंटेंट तैयार करें।” अभिजीत, ने उम्मीदवारों को सलाह देते हुए कहा कि पहले पढ़ें, समझें, उसे अपनी सुविध के हिसाब से ऑर्गेनाइज़ करें और फिर नोट्स बनाएं।

Advertisement

2. नियमित लेखन अभ्यास न करना

किसी विशेष विषय के बारे में जानकारी होना और उसे उत्तर के रूप में सही तरह से प्रस्तुत कर पाना, दो अलग-अलग स्किल्स हैं। अभिजीत कहते हैं, “परीक्षा (UPSC CSE Mains) में एक असरदार और सही तरह से उत्तर लिखने के लिए, आपको पहले से लिखने का अभ्यास करना बहुत जरुरी है। यह एक ऐसी स्किल है, जिस पर काम करने की जरूरत है। किसी भी विशेष विषय पर आपकी पकड़ चाहे कितनी भी मजबूत क्यों न हो, लेकिन अगर आपने उसे लिखने का अभ्यास नहीं किया, तो आप उसका सटीक जवाब नहीं लिख पाएंगे।”

एक ही प्रश्न को कई बार और कई तरीके से लिखने से आप इस स्किल में पारंगत हो जाएंगे। ऐसा करने से उम्मीदवार को विषय से संबंधित कई दृष्टिकोणों को समझने और उसे कई तरीके से लिखने का मौका मिलता है। 

उन्होंने आगे कहा, “उम्मीदवारों को इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि उनके दिमाग में प्रश्न का जो जवाब चल रहा है, उसे वह पूरी तरह से लिखकर प्रस्तुत कर पा रहा है या नहीं और यह केवल लगातार लिखने के अभ्यास से ही हो सकता है। बिना प्रैक्टिस के परीक्षा (UPSC CSE Mains) के समय सटीक और बेहतर जवाब लिख पाना संभव नहीं होगा। आप कई तरीकों से सवालों के जवाब दे सकते हैं, जैसे- सारणीबद्ध रूप में,  पक्ष और विपक्ष सभी पहलुओं के साथ और अगर जरूरत पड़े तो माइंड मैप का भी इस्तेमाल करें।”

Advertisement

3. दृष्टिकोण की कमी

Abhijeet Yadav gave tips for UPSC CSE
Abhijeet Yadav

कई UPSC CSE टॉपर्स ने बताया है कि यह परीक्षा आपके विस्तृत ज्ञान का परीक्षण करती है, न कि इसकी गहराई का। शब्दों की संख्या सीमा को देखते हुए, उम्मीदवारों को उस विषय के बारे में अपनी समझ दिखाने की जरूरत होती है न कि विषय की गहराई में जाकर सवाल से भटक जाने की।

दरअसल, विषय के सकारात्मक-नकारात्मक, उसके प्रभाव-दुष्प्रभाव जैसे कई पहलू होते हैं, जिन्हें ध्यान में रखकर जवाब तैयार किया जाना चाहिए। अभिजीत कहते हैं, “UPSC CSE Mains में अपना उत्तर लिखते समय, उसमें कई दृष्टिकोणों को शामिल करें। एक उत्तर के सकारात्मक और नकारात्मक दोनों पहलू हो सकते हैं और यह जरूरी है कि आप दोनों के बारे लिखें।”

परीक्षक के सामने एक सवाल को अलग-अलग नज़रिए के साथ प्रस्तुत करने से, निश्चित रूप से आपको अधिक अंक मिल सकते हैं। एक उदाहरण देते हुए, अभिजीत कहते हैं, “मान लो कि प्रश्न भारत-अमेरिका संबंधों के बारे में है, तो जवाब में इससे जुड़े सभी पहलुओं को शामिल किया जाना चाहिए। इसके अलावा, लिखते समय कुछ नकारात्मक पहलू और समस्याओं के संभावित समाधान भी शामिल करें।”

Advertisement

4. प्रश्न का सीधा जवाब ना लिखना

उत्तर लिखने की हड़बड़ी में, उम्मीदवार कभी-कभी पूछे गए प्रश्न का जवाब पूरी तरह देने से चूक जाते हैं। अभिजीत कहते हैं, “कई बार उम्मीदवार, प्रश्न में दिए गए एक महत्वपूर्ण शब्द को चुनते हैं और उसी पर उनका पूरा उत्तर आधारित होता है। प्रश्न को देखने का यह बिल्कुल भी सही तरीका नहीं है। पूछे गए प्रश्न को अच्छे से पढ़ने और समझने के बाद ही जवाब लिखना शुरू करें।”

समय की कमी को देखते हुए, लिखने से पहले उम्मीदवारों के लिए यह जानना और भी महत्वपूर्ण हो जाता है कि उनसे क्या पूछा जा रहा है। अभिजीत ने कहा, “आपसे जो पूछा गया है, उसका सीधा जवाब लिखें। सबसे पहले आप पूछे गए सवाल से जुड़ा स्पष्ट परिचय दें, इसके बाद विषय से संबंधित जवाब लिखें और आखिर में वे फॉरवर्ड जरुर लिखें।” वे फॉरवर्ड लिखने से पता चलता है कि उम्मीदवार ने सिर्फ सवाल तक खुद को सीमित नहीं रका है, बल्कि एक कदम आगे बढ़ते हुए उसने समाधान भी दिया है। 

5. संरचना का अभाव

लिखते समय उम्मीदवार कभी-कभी एक अच्छी संरचना, यानी सवाल का जवाब कैसे दिया जाए, इसके महत्व को भूल जाते हैं। एक उत्तर में सिर्फ सभी ज़रूरी बिंदुओं के बारे में लिखना ही काफी नहीं है, बल्कि आप उसकी संरचना कैसे करते हैं, यह भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। अभिजीत कहते हैं, “आपको लिखने की शुरुआत, सवाल के सबसे खास हिस्से से करनी चाहिए। ऐसा करने से परीक्षक पर भी अच्छा प्रभाव पड़ता है। सवाल का सबसे अहम बिंदु क्या है, यह तय करना बेहद जरूरी है और इसके लिए उम्मीदवार को पहले से तैयारी करनी होगी।”

Advertisement

बेहतर और सटीक तरह से जवाब लिखने में सक्षम होने के लिए अच्छे नोट्स बनाने की आदत डालनी चाहिए। महत्वपूर्ण बिंदुओं को प्राथमिकता देना, अभ्यास के साथ एक आदत बन जाएगी। परीक्षा (UPSC CSE Mains) देते समय नोट्स बनाने की स्किल काम आएगी, इसलिए इस पर ध्यान दें। 

6. आत्मनिरीक्षण न करना 

केवल मॉक पेपर हल करना ही नहीं, बल्कि अपने लिखे गए जवाब और गलतियों का विश्लेषण करना भी जरूरी है। उम्मीदवारों के लिए गलतियों से सीखते रहना महत्वपूर्ण है। अभिजीत कहते हैं, “जवाब देते समय डेटा प्वाईंट व डायग्राम का इस्तेमाल करना और जानकारी को व्यवस्थित रूप में लिखना आपके उत्तर को वज़नदार बना देता है। अंत में, प्वाईंट्स बनाकर संक्षेप में अपना उत्तर लिखें।”

प्वाईंट्स में संक्षिप्त उत्तर लिखने की आदत बनाने के लिए, अपने स्टडी प्लान में इसे जगह दें। अभिजीत अंत में कहते हैं, “यूपीएससी सीएसई (UPSC CSE Mains) में आपकी सफलता के लिए आत्मनिरीक्षण बेहद जरुरी है, इस पर भी समय लगाएं।” 

Advertisement

यहां देखें वीडियो

मूल लेखः विद्या राजा

संपादनः अर्चना दुबे

Advertisement

यह भी पढ़ेंः Stress Reliever Plants: घर में इन 10 पौधों को लगाएं, माहौल रहेगा खुशनुमा

यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें।

close-icon
_tbi-social-media__share-icon