in

“मैं और मेरी दादी सबसे अच्छे दोस्त हैं”!

“मेरी दादी और मैं सबसे अच्छे दोस्त हैं। वे बताती हैं कि जब मेरा जन्म हुआ था तब हम चौल में रहते थे। और मैं हमेशा उनके कमरे में सोता था। जब वे मुझे गाने गाकर सुनाती तभी मैं सोता था। मुझे मेरी दादी ने ही पाला है। मुझे याद है कि अक्सर जब भी वे मुझे स्कूल से लेकर आती थीं तो रास्ते में आईसक्रीम और दोसा खिलातीं थीं। उस समय मुझे ये सब बहुत पसंद था। हमारा रिश्ता अभी भी वैसा ही है। जब भी मैं काम के बाद घर आता हूँ, तो हम रात में 2 बजे तक म्यूजिक सुनते हैं। मैं उनसे कभी भी किसी भी चीज़ के बारे में बात कर सकता हूँ और उनके पास हमेशा सबसे अच्छी सलाह होती है! सबसे अच्छी बात यह है कि दिल से वे अभी भी बच्चों के जैसी हैं। उन्हें आईसक्रीम खाना बहुत पसंद है- यहाँ तक कि मेरे मम्मी-पापा उन्हें मना करते हैं क्योंकि 83 साल की उम्र में यह उनकी सेहत के लिए अच्छा नहीं, पर वे उनकी एक नहीं सुनती। जब भी घर में कोई नहीं होता तो हम अक्सर एक साथ बैठकर आईसक्रीम खाते हैं- मुझे लगता है हम दोनों अभी भी बच्चे हैं और बिल्कुल भी बड़े नहीं हो रहे हैं!”

“My grandmother and I are best friends. She tells me that when I was born, we were living in a chawl system and I’d…

Promotion
Banner

Posted by Humans of Bombay on Wednesday, November 14, 2018


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर भेज सकते हैं।

Promotion
Banner

देश में हो रही हर अच्छी ख़बर को द बेटर इंडिया आप तक पहुँचाना चाहता है। सकारात्मक पत्रकारिता के ज़रिए हम भारत को बेहतर बनाना चाहते हैं, जो आपके साथ के बिना मुमकिन नहीं है। यदि आप द बेटर इंडिया पर छपी इन अच्छी ख़बरों को पढ़ते हैं, पसंद करते हैं और इन्हें पढ़कर अपने देश पर गर्व महसूस करते हैं, तो इस मुहिम को आगे बढ़ाने में हमारा साथ दें। नीचे दिए बटन पर क्लिक करें -

₹   999 ₹   2999

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है.

‘मलकानगिरी का गाँधी’ जिससे डरकर, अंग्रेज़ों ने दे दी थी फाँसी!

सखाराम गणेश देउस्कर: ‘बंगाल का तिलक,’ जिसकी किताब पर अंग्रेज़ों ने लगा दी थी पाबंदी!