Search Icon
Nav Arrow

हैदराबाद पुलिस !! गणपति का त्यौहार !! और छः अनाथालय !! जानिए कैसे जुड़े ये तीनो !

Advertisement

सन १८९३ में जब लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक ने देशवासियों को एकत्रित करने के लिए गणेशोत्सव को सार्वजानिक रूप से मनाने की सोची होगी, तब उन्होंने भी इस बात की कल्पना नहीं की होगी कि इस उत्सव का सदुपयोग कुछ इस प्रकार भी किया जा सकता है।

हर साल न जाने कितने त्योहारों में मंदिरों में चढ़ावे के रूप में ढेर सारे पैसे इकट्ठे होते हैं और त्यौहार खत्म होने पर उसका एक हिस्सा बचा रह जाता है, और इस वर्ष का गणेशोत्सव भी कुछ अलग नहीं था। लेकिन हैदराबाद के पंडाल समिति और पुलिस अधिकारियों ने कुछ अलग करने का सोचा।  उन पैसों से वे ६ अनाथालयों में रहने वाले करीबन २५०  बच्चों की मदद् करने चल पड़े।

वनस्थलीपुरम पुलिस ने स्थानीय पंडाल समितियों के साथ मिल कर गणेश चतुर्थी के बाद बचे पैसों को अनाथालयों के बच्चों की भलाई के लिए इस्तेमाल करने का सोचा।

Advertisement

हैदराबाद में स्थित इस इलाके में अधिकारीयों ने
छः अनाथालयों के २५० बच्चों के लिए कपड़े,किताबें,जूते, स्टेशनरी का सामान, खेलकूद का सामान और दूसरी जरूरी चीजें खरीदी।

2115525092_8038f0af6f_b
प्रतीकात्मक तस्वीर स्रोतःC.K. Koay/FLickr

पुलिस अधिकारीयों ने ३० पंडाल समितियों के साथ सितम्बर में मीटिंग की और पता लगाया की वह हर साल त्योहार के बाद बचे पैसों  का क्या करते हैं। इस साल भी लगभग २ लाख रूपये जमा हुए थे, और  उन पैसों से बच्चों के जरूरत का सामान खरीदा गया और शनिवार को बच्चों के बीच में बांटा गया।

इसके अलावा उनके लिए एक निःशुल्क स्वास्थ शिविर भी आयोजित किया गया।

जिन अनाथालयों को चन्दा दिया गया वे मातृश्री, सीरिया, गीतांजली, सिदुर, ग्रेसियस पैराडाइज और रे ऑफ होप हैं।

Advertisement
close-icon
_tbi-social-media__share-icon