in

“हर एक सूर्यास्त हमें याद दिलाता है कि सूर्य फिर से उदय होगा!”

साभार: Humans of Bombay

“हम एक साथ आगे बढ़ रहे हैं….. ये हमारी ज़िन्दगी की दूसरी पारी है। हम सब एक बुरे और भयानक अतीत से गुज़र कर आये है, लेकिन हम एक-दुसरे की उस अतीत से बाहर निकलने में मदद कर रहे हैं। हम एक बार फ़िर से पढ़ाई कर रहे हैं, नौकरियां ढूंड रहें हैं और जीवन का एक नया उद्देश्य भी। मैं एक पत्रकार बनना चाहती हूँ और इसके लिए कड़ी मेहनत कर रही हूँ। यहाँ ये सब मेरा पूरा साथ देती हैं — हम फिर से खुश होना सीख रहें हैं। जैसे आज एक बहुत अच्छा दिन था– हम पहली बार मुंबई आये हैं और सबसे अच्छा वडा पाव ढूंढ़ने के लिए हम हर जगह घूम आये! अब हम साथ में सूर्यास्त देखने जा रहे हैं- ज़िन्दगी अभी भी दिलकश और ख़ूबसूरत है… अपनी आँखें खोलो, यहाँ हर पल उम्मीद है। क्योंकि हर सूर्यास्त हमें याद दिलाता है कि सूर्य फिर से उदय होगा।”

Promotion

“We’re moving on together…this is the second phase of our life. We’ve all been through something horrible, but we’re…

Posted by Humans of Bombay on Saturday, November 10, 2018


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर भेज सकते हैं।

शेयर करे

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है. निशा की कविताएँ आप https://kahakasha.blogspot.com/ पर पढ़ सकते हैं!

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

भुला दिए गये नायक: बटुकेश्वर दत्त, वह स्वतंत्रता सेनानी जिसने आजादी के बाद जी गुमनामी की ज़िन्दगी!

कल्पना चावला : छोटी-सी मोंटो का तारों तक पहुँचने का सफ़र!