Search Icon
Nav Arrow
This Diwali Gift for a Cause

इस दिवाली इन 11 प्रेरक हिरोज़ को दें दिलवाला उपहार, उत्सव के मौसम में करें इन लोगों की मदद

दिवाली वह त्योहार है, जो अपने साथ उल्लास, सुख-समृद्धि, प्रेम व प्रकाश लेकर आता है और द बेटर इंडिया आपको बता रहे है कि कैसे आप इस दिवाली, अपने घर के साथ-साथ कई और घर रोशन कर सकते हैं।

Advertisement

दिवाली वह त्योहार है, जो अपने साथ उल्लास, सुख-समृद्धि, प्रेम व प्रकाश लेकर आता है और द बेटर इंडिया आपको बता रहा है कि कैसे आप इस दिवाली, अपने घर के साथ-साथ कई और घरों को रोशन कर सकते हैं।

इस दिवाली, आप देशभर के चेंजमेकर्स को एक सही गिफ्ट दे सकते हैं और उन्हें गिफ्ट देने का कारण जानकर शायद आप भी खुद को रोक नहीं पाएंगे। हम उन गुमनाम नायकों को सलाम करते हैं, जो समाज की सेवा करने के लिए दिन-रात लगे रहते हैं- चाहे वह कुष्ठ रोगियों के लिए नए कपड़े ढूंढना हो, वंचित पृष्ठभूमि के बच्चों को पढ़ाई करने में मदद करना हो, या बेघर जानवरों के लिए चिकित्सा सहायता प्रदान करना। तो अब उनकी मदद करने की बारी हमारी है।

इनमें से हर व्यक्ति और संगठन सालों से अनुकरणीय कार्य कर रहे हैं और आपका गिफ्ट उनके बनाये अविश्वसनीय प्रभाव को बढ़ावा देने में मदद करेगा। तो सही दिवाली उपहार के लिए और इंतज़ार न करें- बस एक ऐसे रास्ते को चुने, एक ऐसा उपहार भेजें, जो आपके दिल को खुशी से और कइयों के जीवन को प्रकाश से भर देगा।

1. प्रेम इल्लम: खुद चलने में हैं असमर्थ, लेकिन 30 स्पेशल बच्चों के लिए उगाती हैं जैविक चावल और फल

Prem Illam: Unable To Walk Herself, She Grows Organic Rice & Fruits For 30 Special Kids
 Prem Illam

तमिलनाडु की डी इंद्रा केवल पांच महीने की थीं, जब उन्हें पोलियो का पता चला था, जिससे वह 90% विकलांग हो गई थीं। वह मुश्किल से चार साल की थीं, जब उन्हें मानसिक और शारीरिक रूप से दिव्यांग बच्चों वाले एक आश्रय गृह में भर्ती कराया गया था। उन्हें अपने माता-पिता और बड़ी बहन से केवल सप्ताह के आखिर में ही मिलने की अनुमति थी, इसलिए उन्हें जरूरत के समय में अपनों से दूर रहने का दर्द पता था।

आज, 36 साल की उम्र में इंद्रा, COVID-19 महामारी और उसके बाद हुए लॉकडाउन से परेशान लोगों की मदद कर रही हैं। सिरुनल्लूर गांव मे प्रेम इल्लम ‘प्रेमा वसम आश्रय गृह’ चलाती हैं, जो दिव्यांग बच्चों के लिए एक संगठन है। वह बच्चों के साथ-साथ अपने गांव के आसपास के लोगों के लिए जैविक भोजन भी उगाती हैं।

यह संगठन, पूरी तरह से दान पर चल रहा है और इंद्रा व उनकी टीम फिलहाल उन दानदाताओं की तलाश कर रही है, जो बच्चों के लिए बिस्तर का खर्च, पशु चारा के लिए सहायता और एक सौर संयंत्र के लिए मदद कर सकें। डी इंद्रा की इस पहल में उनकी मदद करने के लिए, आप यहां दान कर सकते हैं:

Account Number: 6893753941
Account Name: PREM ILLAM
Account type: Savings
IFSC code: IDIB000M072
Bank Name: Indian Bank, Madurantakam

2. आभा कुंज: एक लॉ प्रोफेसर, जो स्लम के बच्चों को शिक्षित कर, उन्हें नर्स और इंजीनियर बनने में करती हैं मदद

Abha Kunj: A Law Professor Who Tutors 5000 Slum Children, Helps Them Become Nurses & Engineers
Abha Kunj

एसोसिएट लॉ प्रोफेसर, डॉ. ललिता शर्मा साल 2009 में जब इंदौर के एक नए इलाके में गईं, तो उन्होंने कुछ किशोरों और बच्चों को पास की झुग्गी-झोपड़ी में जुआ खेलते, सड़क पर लड़ाई करते और बेवजह घूमते हुए देखा। 18 साल तक शिक्षिका रहने के बाद, बच्चों को इस तरह से अपने भविष्य के साथ छेड़छाड़ करते हुए देखकर उन्हें बहुत दुख हुआ।

आज, वह ‘आभा कुंज’ नाम से एक NGO चलाती हैं और सालाना लगभग 500 छात्रों को शिक्षित करती हैं। उन्होंने पिछले कुछ सालों में 200 स्वयंसेवकों की एक टीम बनाई है, जो इस मिशन में उनके साथ काम करते हैं। ललिता शर्मा के इस कदम का असर, असाधारण रहा है। उनके छात्रों ने नर्स, मार्केटिंग एक्जीक्यूटिव, इंजीनियर आदि बनने के लिए कई भावनात्मक और सामाजिक बाधाओं को पार किया है।

इतने सालों से इस मुहिम को चलाना, डॉ. ललिता के लिए आसान नहीं रहा। स्टेशनरी, स्कूल की फीस, यूनिफार्म जैसे खर्चे वह अपनी बचत से ही करती आ रही हैं। लेकिन अब, ‘आभा कुंज’ को अपना काम जारी रखने के लिए, आपकी मदद की ज़रूरत है। मदद के लिए आप उन्हें यहां दान कर सकते हैं:

Account Number: 64770100002315
Account Name: Abha Kunj Welfare Society
IFSC: BARB0VJVIIN
Bank Name: Bank of Baroda, Scheme number 54, Vijayanagar, Indore.

3. प्रोजेक्ट ड्रीम स्कूल: 30 बच्चों को उनकी शिक्षा पूरी करने में करें मदद

Project Dream School: Help 30 Children Complete Their Education
Project Dream School

द बेटर इंडिया ने वंचित परिवारों के बच्चों की शिक्षा में मदद करने के लिए जनवरी 2020 में एक अभियान शुरू किया -#ProjectDreamSchool, जिसके तहत हमने बेंगलुरु में ‘ड्रीम स्कूल फाउंडेशन’ में पढ़ रहे 30 बच्चों की एक कक्षा को गोद लिया और एक साल के लिए उनकी पढ़ाई को सपोर्ट करने के लिए धन जुटाया। इस साल भी, हम उनका साथ देना चाहते हैं, ताकि उन्हें वह शिक्षा मिल सके, जिसके वे हकदार हैं।

हालांकि, महामारी की वजह से हालात मुश्किल होते चले गए। इनमें से कई छात्र स्कूल छोड़ने की कगार पर पहुंच गए थे, क्योंकि उनके माता-पिता ने महामारी के कारण अपनी आजीविका खो दी थी। कई बच्चे तो इसलिए भी स्कूल छोड़ने के बारे में सोच रहे हैं, क्योंकि फ़ोन के बिना ऑनलाइन स्कूल अटेंड करना असंभव था और इस वजह से पढ़ाई का जो नुकसान हुआ, उसे कवर कैसे करेंगे?
शिक्षा और सपनों पर तो सबका अधिकार होता है, तो इन्हें इस अधिकार से वंचित कैसे रहने दें। इसलिए, आपसे अनुरोध है कि इनकी मदद करें। इस बारे में अधिक जानकारी या दान करने के लिए निचे दिए लिंक पर क्लिक करें –

https://milaap.org/fundraisers/support-students-at-dream-school-foundation

4. होप वेलफेयर ट्रस्ट

Hope Welfare Trust: Transforming Villages in UP one Volunteer at a Time
Hope Welfare Trust

होप वेलफेयर ट्रस्ट की शुरुआत सितंबर 2015 में वाराणसी में एक आंदोलन के रूप में हुई, जब विभिन्न विश्वविद्यालयों और कॉलेजों के छात्रों के एक समूह ने ग्रामीण विकास के लिए हाथ मिलाया। वे सोनभद्र/मिर्जापुर के सबसे पिछड़े गांवों के उत्थान के लिए पिछले छह वर्षों से पूर्वी यूपी के 150 से अधिक गांवों में काम कर रहे हैं। यह एक 100% स्वयंसेवी-आधारित एनजीओ हैं, यहां के आदिवासी और वनवासी लोग अत्यधिक गरीबी में रहते हैं।

होप वेलफेयर ट्रस्ट को दीवाली के अवसर पर कुष्ठ रोगियों और उनके बच्चों के लिए नए कपड़ों की व्यवस्था के लिए दान के साथ, आपकी मदद की जरूरत है। ये कुष्ठ रोगी अपने परिवार के साथ वाराणसी की कॉलोनियों, प्रयागराज की चार कॉलोनियों और अयोध्या की तीन कॉलोनियों में रह रहे हैं।

आप यहां दान कर सकते हैं:
Account Number: 50200013646960
Account Name: Hope Welfare Trust
IFSC: BDBL0001293
Bank Name: Bandhan Bank, Varanasi

5. स्नेहन: कभी बाल मज़दूर रहे अनुमुथु, सैकड़ों बेघरों को देखभाल और नौकरी दिलाने में मदद करते हैं

 Snehan : Once A Child Labourer, Anumuthu Helps Hundreds Of Homeless Get Care & Jobs, Donate For Good Cause
 Snehan

सात साल की उम्र में अपने पिता को खोने के बाद, अनुमुथु का बचपन गरीबी और बाल मजदूर के रूप में संघर्ष भरा रहा। खुद के अनुभवों से सीखते हुए, आज वह अपने एनजीओ स्नेहन के माध्यम से बेघरों को नौकरी, चिकित्सा, भोजन और कपड़ों के साथ-साथ, एक सम्मान भरा जीवन और देखभाल प्रदान कर रहे हैं।

अनुमुथु और उनकी टीम ने ज़रूरतमंद लोगों को कौशल प्रशिक्षण और बेघरों को चाय की दुकानों, होटलों और दुकानों में रोजगार दिया। उन्होंने उन लोगों के लिए साइकिल खरीदी जो सामान, सब्जियां या फल बेचना चाहते थे। गरीब समुदायों की महिलाओं के बनाए बैग बेचने में उनकी मदद की। अब बेघरों के लिए घर बनाने के लिए, उन्हें आपकी मदद की जरूरत है, जहां उन्हें भोजन, आश्रय, कपड़े और ऐसी अन्य सुविधाएं दी जाएंगी।

Account Number: 005601029727
Account Name: GOODWILL MISSION
IFSC Code: ICIC0000056
Bank Name: ICICI Bank. Pondicherry Branch.
VPA (virtual payment address): snehanpondicherry@icici

6. द टॉय बैंक: एक अनोखा बैंक, जो खिलौनों के साथ बांटता है खुशियां

Toy Bank: A Unique Bank Providing Toys & Spreading Joy, Donate For Good Cause
The Toy Bank

टॉय बैंक, जैसा कि नाम से पता चलता है, खिलौनों का बैंक है! यह खिलौनों को इकट्ठा कर, उन्हें रिस्टोर करता है और वंचित बच्चों में बांट देता है। सरकारी स्कूलों, आंगनवाड़ियों, आश्रयगृहों, बच्चों के अस्पतालों और झुग्गी-झोपड़ी व ग्रामीण क्षेत्रों में काम करने वाले अपने सहयोगियों के माध्यम से, यह बैंक देशभर के बच्चों के चेहरों पर मुस्कान लाने का काम कर रहा है।

विद्युत गोयल द्वारा शुरू किया गया, टॉय बैंक पूरे भारत में पांच लाख से अधिक वंचित बच्चों तक पहुंच गया है। इस संगठन ने भारत में कोरोनावायरस संकट से प्रभावित 1,500 बच्चों के लिए कोविड रिलीफ इनिशिएटिव: रीच एंड टीच प्रोग्राम भी शुरू किया है।

‘टॉय बैंक’ DIY – ऐक्टिविटी-आधारित शिक्षण किट वितरित करता है और ऑनलाइन शिक्षा के लिए ई-लर्निंग ऐक्टिविटी वर्कशीट को लागू करता है। इन चीज़ों से बच्चों को प्ले-वे मेथड से सीखने में मदद मिलती है।

उन्हें और ज़्यादा लोगों की मदद करने और एक बड़ा प्रभाव पैदा करने में आपकी सहायता की आवश्यकता है। आप नीचे दिए गए लिंक पर दान करके टॉय बैंक की मदद कर सकते हैं –

https://fundraisers.giveindia.org/fundraisers/support-children-during-coronavirus-crisis?ref=V5Yd1N14UD

Advertisement

7. पॉजिटिव वुमन नेटवर्क: 20 साल की विधवा और ससुराल से जबरन बाहर निकाल दी गई, HIV+ महिला ने बदल दी 30000 लोगों की जिंदगी

Positive Women Network: Widowed At 20 & Forced Out Of In-Laws’ Home, HIV+ Woman Transforms 30000 Lives
Positive Women Network

तमिलनाडु की कौसल्या पेरियासामी कथित तौर पर 1995 में HIV+ होने के बाद, खुलकर सामने आकर उसे स्वीकार करने वाली पहली भारतीय थीं। इस वजह से उन्होंने राष्ट्रीय सुर्खियां बटोरीं और कई एनजीओ और अन्य HIV+ महिलाएं उनके पास पहुंचीं। आज, वह सकारात्मक महिला नेटवर्क चलाती हैं। इस संगठन का उद्देश्य HIV+ माता-पिता के बच्चों को सस्ती चिकित्सा, परामर्श, नौकरियों के लिए व्यावसायिक प्रशिक्षण और गुणवत्तापूर्ण शिक्षा और देखभाल प्रदान करना है। यह संगठन, HIV+ महिलाओं की मदद के लिए कई मोर्चों पर काम कर रहा है और नीतिगत स्तरों पर बदलाव भी कर रहा है।

कौशल्या को HIV+ महिलाओं के लिए एक आपातकालीन चिकित्सा कोष खोलने के लिए आपकी मदद की जरूरत है।

उनकी मदद करने के लिए यहां दान करें:

Account Number: 014010100277433
Account Name: Positive Women Network of South India
IFSC: UTIB0000014
Bank Name: Axis Bank Ltd, T Nagar

8. प्रॉबेबली पैराडाइज़: 431 बचाए गए जानवरों के लिए रोक्सैन डावुर ने बनाया एक ‘स्वर्ग’

Probably Paradise: A ‘Paradise’ Created by Roxanne Davur for 431 Rescued Animals
 Probably Paradise

रोक्सैन डावर (69) बचाई गई जंगली बिल्लियों के आसपास पले-बढ़े हैं और आज कर्जत में कुत्तों, बिल्लियों, घोड़ों, गधों, गायों और सूअरों के लिए ‘प्रॉबेबली पैराडाइज़’ मान का आश्रय गृह चलाते हैं। कर्जत में 1.5 एकड़ के खेत में आज 431 जानवर हैं, जिनमें 250 कुत्ते, 162 बिल्लियाँ, आठ टट्टू, सात गधे, दो घोड़े, एक सुअर और एक गाय शामिल हैं। इनमें से ज़्यादातर जानवर, मुंबई और पुणे से लाए गए हैं, जहां वे घायल हो गए थे, छोड़ दिए गए थे या लंबे समय से बीमार पाए गए थे। इन बेघर जानवरों के लिए इस आश्रयगृह में उन्हें “मृत्यु के लिए सम्मानजनक स्थान” देने का अनूठा उद्देश्य है।

प्रॉबेबली पैराडाइज़ को जानवरों के आश्रय के लिए धन की आवश्यकता है और पशु बचाव के सभी आपातकालीन मामलों का समय पर इलाज सुनिश्चित करने के लिए चिकित्सा ब्लॉक शुरू करने की जरूरत है। अगर आप उनका समर्थन करना चाहते हैं, तो कृपया यहाँ दान करें:

Account Number: 006710110016986
Account Name: World for All Animal Care and Adoptions
IFSC Code: BKID0000067
Bank Name: Bank of India, Chakala Branch

9. उत्सव: 12 साल की उम्र में यौन शोषण के शिकार, असम के इस हीरो ने 500 से अधिक पुलिसकर्मियों को बाल अधिकारों का दिया प्रशिक्षण

Utsah : Sexually Abused at 12, This Assam Hero Has Trained Over 500 Cops in Child Rights
Utsah: Sexually Abused at 12, This Assam Hero Has Trained Over 500 Cops in Child Rights

बाल अधिकार कार्यकर्ता मिगुएल दास कुआह (34) गुवाहाटी स्थित गैर-लाभकारी संस्था UTSAH (सामाजिक कार्यवाई और सहायता के लिए यूनिवर्सल टीम) चलाते हैं, जो बच्चों के अधिकारों के लिए काम करती है, खासकर उन लोगों के लिए जो असम में यौन हिंसा से प्रभावित हैं।

उनके संगठन ने 300 चाइल्ड सर्वाइवर्स को एंड-टू-एंड मनोसामाजिक और कानूनी सहायता और असम में स्कूलों और समुदायों में दो लाख से अधिक बच्चों को बाल सुरक्षा प्रशिक्षण दिया है। मिगुएल ने बाल संरक्षण में 500 से ज़्यादा पुलिस कर्मियों को प्रशिक्षित और मेंटॉर किया है और असम पुलिस शिशु मित्र कार्यक्रम, एक बाल-सुलभ पुलिसिंग और पुलिस सुधार पहल को डिजाइन करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

मिगुएल को दिया दान, बलात्कार और यौन हमले के शिकार बच्चों की शैक्षिक, पोषण, कानूनी और सबसे ज़रूरी स्वास्थ्य संबंधी जरूरतों का समर्थन करने में मदद करेगा। उनकी मदद करने के लिए यहां दान करें:

Account Number: 20451450000041
Account Name: UTSAH
IFSC: HDFC0000631
Bank Name: HDFC, Chandmari

10. पालवी: जब किसी ने परवाह नहीं की, तब 69 वर्षीया ताई ने 125 HIV+ अनाथ बच्चों को दिया नया जीवन

Palawi : When No One Else Cared, 69-YO Gave 125 HIV+ Orphaned Kids a New Lease of Life, Donate For Good Cause
 Palawi: When No One Else Cared, 69-YO Gave 125 HIV+ Orphaned Kids a New Lease of Life

मंगलताई (69), उनकी बेटी डिंपल और नाती-पोते HIV से पीड़ित 125 अनाथ बच्चों के लिए देखभाल गृह का प्रबंधन करते हैं। ये बच्चे मुख्य रूप से पंढरपुर (महाराष्ट्र) के चार से 21 साल के बीच के हैं। मंगलताई की गैर-लाभकारी संस्था पालवी, प्रभा हीरा प्रतिष्ठान के तत्वावधान में संचालित महाराष्ट्र में अपनी तरह की पहली संस्था है।

पालवी को COVID-19 महामारी के प्रभाव को देखते हुए मदद की जरूरत है। बहुत सारी ज़िंदगियां, संगठन के सफल संचालन पर निर्भर करती हैं। आपकी मदद, मंगलाताई को एचआईवी से पीड़ित 110 बच्चों को प्यार और नया जीवन देने में अहम भुमिका निभाएगी।

यहां करें दानः

Account Number: 54010010004843
Account Name: Prabha Hira Pratishthan
IFSC: IBKL0000540
Bank Name: IDBI Bank, Pandharpur

11. एलुथेरोस क्रिश्चियन सोसाइटी: भाइयों की मृत्यु ने नागा रिफॉर्मर को 73 गांवों के स्वास्थ्य के उत्थान के लिए किया प्रेरित

Eleutheros Christian Society: Death of Brothers Inspires Naga Reformer to Uplift the Health of 73 Villages
Eleutheros Christian Society: Death of Brothers Inspires Naga Reformer to Uplift the Health of 73 Villages

पूर्व पादरी से समाज सुधारक बने चिंगमक केजोंग और उनकी पत्नी फूटोली शिखू अपने गैर-लाभकारी, एलुथेरोस क्रिश्चियन सोसाइटी (ECS) के माध्यम से आदिवासी समुदायों के साथ, हाथ मिलाकर काम करते हैं। उन्होंने म्यांमार की सीमा से लगे पूर्वी नागालैंड के सुदूर और पिछड़े जिले त्युएनसांग में रहने वाले समुदायों को 1990 के दशक में एचआईवी और हेरोइन महामारी से सफलतापूर्वक लड़ने में मदद कर, एक कार्यशील प्राथमिक स्वास्थ्य प्रणाली की स्थापना की है और स्वास्थ्य सेवा में अपने काम के साथ युद्धरत आदिवासी समुदायों को एक साथ लाया है।

चिंगमक, सीमा से महज पांच किलोमीटर दूर म्यांमार के पास एक बहुत ही सुदूर गांव में पीने का पानी उपलब्ध कराने के लिए, धन जुटाने की कोशिश कर रहे हैं। उन्हें लगभग 600 घरों में नौ किलोमीटर पानी का कनेक्शन देने के लिए मदद की जरूरत है। उन्हें अपने लक्ष्य तक पहुँचने में मदद करने के लिए ,आप नीचे दिए बैंक अकाउंट में दान कर सकते हैं:

Account Number: 36308732509
Account Name: ECS General Fund
IFSC: SBIN0001328
Bank Name: State Bank of India, Tuensang Main Branch

मूल लेखः सुवेणी वली

संपादन – मानबी कटोच

यह भी पढ़ेंः शौक के लिए नदी किनारे पड़े पत्थरों से बनाते थे क्रिएटिव चीजें, वही हुनर बना कमाई का जरिया

यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें।

Advertisement
close-icon
_tbi-social-media__share-icon