Search Icon
Nav Arrow
how to grow jade plant

Grow Jade Plant: जानें जेड प्लांट को उगाने का सबसे आसान तरीका

गार्डनिंग की शौक़ीन कोमल सिरोहिया बता रही हैं Jade Plant को लगाने और इसकी देखभाल से जुड़ी बातें।

Advertisement

अगर आपके घर में तीन से चार घंटे सूरज की रोशनी ठीक ढंग से आती है, तो आप आसानी से एक हैंगिंग पॉट में जेड प्लांट लगा सकते हैं। ऐसा माना जाता है कि जेड प्लांट को रखने वाले के साथ ‘गुड लक’ हमेशा रहता है। जेड प्लांट एक साउथ अफ्रिकन पौधा है। जिसे कई लोग एलिफेंट बुश भी कहते हैं। इस पौधे की सबसे बड़ी खासियत यह है कि इसे बहुत कम देखभाल की जरूरत होती है।

अगर आप पहली बार बोन्साई प्लांट बना रहे हैं, तो भी जेड प्लांट आपके लिए अच्छा विकल्प हो सकता है। इसकी पत्तियां छोटी और मोटी होती हैं, जो दिखने में बेहद सुंदर लगती हैं। जेड प्लांट, पौधों की उन प्रजातियों और सजावटी पौधों के तौर पर उपयोग में आते हैं, जो घर की हवा को शुद्ध करने में सहायक होते हैं।

सूरत में लंबे समय से टेरेस गार्डनिंग कर रहीं कोमल सिरोहिया ने द बेटर इंडिया को बताया, “जिसे गार्डनिंग की ज्यादा जानकारी न हो, वह भी जेड प्लांट का पौधा आराम से उगा सकता है। इस पौधे को आप दो इंच के छोटे गमले में भी लग सकते हैं। यह किसी भी गार्डन की शोभा बढ़ा देता है। इसलिए गार्डनिंग करने वाले ज्यादातर लोग गार्डन में तीन-चार जेड प्लांट जरूर लगाते हैं।”  

हालांकि, नर्सरी में यह पौधा काफी महंगा मिलता है, लेकिन अगर आपके किसी दोस्त के पास जेड प्लांट है, तो आप वहां से कटिंग लाकर इसे लगा सकते हैं। एक पौधे से कटिंग करके इसके कई पौधे तैयार किए जा सकते हैं साथ ही इसे पत्तियों से भी उगाया जा सकता है। 

growing jade plant
Jade Plant

कटिंग से जेड प्लांट लगाने का तरीका 

कटिंग से जेड प्लांट लगाने के तरीके के बारे में कोमल सिरोहिया बताती हैं कि सबसे पहले आप जेड प्लांट की ऐसी कटिंग का चुनाव करें, जिसकी डाली पुरानी और थोड़ी भूरे रंग की हो। नई डाली की कटिंग से पौधा उगाना मुश्किल होता है। 

  • तक़रीबन चार से पांच इंच की डाली की कटिंग करें। 
  • कटिंग से इसे उगाने के लिए मॉनसून का महीना सबसे अच्छा होता है। 
  • आप कटिंग के नीचे की ओर से पत्ती निकाल लें और रूटिंग हॉर्मोन पाउडर लगाकर इसे गमले में लगाएं।  
  • वैसे आप इसे बिना रूटिंग हॉर्मोन पाउडर लगाए भी उगा सकते हैं। 
  • पॉटिंग मिक्स बनाने के लिए 50 प्रतिशत सामान्य मिट्टी और 25 प्रतिशत नदी की रेत और 25 प्रतिशत कम्पोस्ट को मिलाएं। 
  • जिस भी गमले में आप पौधे को लगाएंगे उसका ड्रेनेज सिस्टम जरूर चेक कर लें। 
  • कटिंग से लगाने के बाद, इसे हफ्ते में एक बार ही पानी डालें। इनकी कटिंग से जड़ निकलने में तक़रीबन एक महीना लग जाता है। 

पत्ती से लगाने का तरीका 

पत्ती से जेड प्लांट लगाने के तरीके के बारे में कोमल सिरोहिया बताती हैं कि यह सक्यूलेंट प्रजाति का पौधा है। यही वजह है कि पत्तियों से इसका पौधा तैयार करना बहुत आसान है। 

komal serohiya gardening expert
Komal Sirohiya
  • सबसे पहले आप जेड प्लांट की पत्तियां लें और इन्हें एक-दो दिन छांव में सुखाएं।
  • अब किसी चौड़े कंटेनर को लें, जिसके तले में छेद हों। इसमें पॉटिंग मिक्स भर दें।  
  • कंटेनर में पॉटिंग मिक्स भरने से पहले, छेद पर आप कोई पत्थर रख सकते हैं।
  • पॉटिंग मिक्स भरने के बाद, आप पत्तियों को इसके ऊपर रख दें। 
  • इसके ऊपर से थोड़ा सा पानी स्प्रे कर दें।
  • कंटेनर को ऐसी जगह रखें, जहां सीधी धूप न पड़े, लेकिन रोशनी अच्छी आती हो।
  • पानी देते समय भी आपको ध्यान रखना है कि पानी बहुत ज्यादा न हो, क्योंकि ज्यादा पानी से पत्तियां गल जाएंगी।
  • पत्तियों को विकसित होने में 15 दिन से एक महीने तक का समय लग सकता है। 

देखभाल से जुड़ी टिप्स

propagate jade plant

जेड प्लांट को अच्छी धूप की जरूरत होती है, इसलिए इसे इंडोर में बिल्कुल न रखें। इसे किसी ऐसी जगह पर रखें, जहां तक़रीबन चार घंटे हल्की-हल्की धूप आती हो। 20 से 30 डिग्री का तापमान इस पौधे के लिए अच्छा रहता है।   

अगर इसकी पत्तियां झड़ रही हैं, तो ज्यादा पानी देना इसका एक कारण हो सकता है। इसके पौधे को ज्यादा पानी की जरूरत नहीं होती। आप हफ्ते में एक दिन पानी देंगे फिर भी यह पौधा अच्छा विकसित होगा। अगर पानी का ध्यान रखने के बाद भी पत्तियां गिर रही हैं, तो आप इसकी मिट्टी बदल दें।  

Advertisement

जेड प्लांट को दूसरे सक्यूलेंट की तरह ज्यादा खाद की जरूरत नहीं होती है। आप इसके पौधे में छह महीने में एक बार खाद दे सकते हैं। 

तो देखा आपने कितना आसान है जेड प्लांट को उगाना! तो देर किस बात की आप भी अपने गार्डन में एक जेड प्लांट का पौधा जरूर लगाएं।

हैप्पी गार्डनिंग!

संपादन- जी एन झा

यह भी पढ़ें: सबसे आसान इनडोर पौधा है Snake Plant, इस तरह लगाएं कटिंग से

यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें।

Advertisement
close-icon
_tbi-social-media__share-icon