Search Icon
Nav Arrow
Petrol Pump Attendant's Daughter Arya Gets Admission In IIT Kanpur

पेट्रोल पंप अटेंडेंट की बेटी को मिला IIT कानपुर में दाखिला, बनेंगी पेट्रोलियम इंजीनियर

आर्या राजगोपाल के पिता पेट्रोल पंप में अटेंडेंट के तौर पर नौकरी करते हैं और आज उनकी बेटी IIT कानपुर से पेट्रोलियम इंजीनियरिंग करने जा रही हैं।

Advertisement

किस्मत और आपकी काबिलियत जन्म से तय नहीं होती और ना ही भगवान सबकुछ तय करके आपको धरती पर भेजते हैं। ये सब तय होता है आपकी मेहनत, आपकी कोशिशों और आपकी दृढ़ इच्छाशक्ति के आधार पर और इसे अक्षरशः सच साबित कर दिखाया है आर्या राजगोपाल ने।

आर्या ने IIT Kanpur में अपनी मेहनत के दम पर दाखिला हासिल कर लिया है। उन्हें IIT Kanpur में पोस्ट ग्रेजुएशन (पेट्रोलियम इंजीनियरिंग) में एडमिशन मिला है। यह दाखिला और भी खास इसलिए हो जाता है, क्योंकि आर्या के पिता खुद एक पेट्रोल पंप पर काम करते हैं।

इस खुशखबरी के बाद, इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड के चेयरमैन श्रीकांत माधव वैद्य ने अपने ट्विटर पर फोटो शेयर करते हुए लिखा, “मैं इंडियन ऑयल के पेट्रोल पंप पर काम करनेवाले राजागोपाल की बेटी आर्या की प्रेरक कहानी शेयर कर रहा हूं। आर्या ने IIT Kanpurमें प्रवेश पाकर, हमें गौरवान्वित किया है। आर्या को शुभकामनाएं।”

धैर्य, साहस और आत्मविश्वास की जीत

आर्या की सफलता महज उनकी शैक्षणिक योग्यता और ज्ञान की जीत नहीं है। यह जीत है उनके धैर्य की, साहस की और आत्मविश्वास की। पिछले 20 वर्षों से, उनके पिता ने पेट्रोल पंप पर लगातार काम किया है। ताकि उनकी बेटी का भविष्य उज्जवल हो। और आज, आर्य के देश के सबसे प्रतिष्ठित कॉलेजों में से एक में, एडमिशन की इस खबर से उनके पिता की मेहनत सार्थक हो गई।

इससे पहले, आर्या ने स्नातक की पढ़ाई राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान (NIT) से पूरी की, जो एक और प्रेरक उपलब्धि है। आर्या राजगोपाल की यह कहानी, देश के करोड़ों युवाओं के लिए प्रेरणा है।

इस खबर के आने के बाद से, सोशल मीडिया पर आर्या और उनके पिता की तस्वीर वायरल हो रही है। ऐसी ही एक वायरल ट्विटर पोस्ट में आर्या और उनके पिता की कहानी लिखते हुए यूज़र ने लिखा, ‘बेटी ने पिता को उपहार के तौर पर दी, कड़ी मेहनत से पढ़ाई।”

Advertisement

पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने भी दोनों की सफलता पर ट्वीट कर बधाई दी और लिखा, “यह देश के लिए कितना गर्व का क्षण है।”

यह भी पढ़ेंः छत को बनाया खेत, 10 सालों से बाजार से नहीं खरीदनी पड़ी सब्जियां

संपादन – मानबी कटोच

यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें।

Advertisement
close-icon
_tbi-social-media__share-icon