in

IGNOU ने शुरू किया आर टी आइ (RTI) में डिप्लोमा और सर्टिफिकेट कोर्स !

क्या आप भी उनमे से है जो ये जानते है कि, RTI यांनी की सुचना का अधिकार भारत के हर नागरिक को दिया गया है; लेकिन ये नहीं जानते कि उसका इस्तेमाल किस तरह करे; तो हमारे पास आपके लिए एक अच्छी खबर है।

इन्दिरा गांधी मुक्त विश्वविद्यालय (IGNOU) शीघ्र ही सूचना का अधिकार (RTI) में डिप्लोमा एवम् सर्टिफिकेट कोर्स प्रारंभ करने जा रहा है। यह कोर्स जुलाई २०१६ एवम् जनवरी २०१७ में शुरू हो जाएंगे एवम् सभी केन्द्रीय सरकारी कर्मचारियों के लिए अनिवार्य होंगे।
इग्नू, दिल्ली नए नए सामाजिक सरोकारों से सम्बंधित कोर्स प्रारंभ करने में सदैव अग्रणी रहा है। जेल के कैदियों को डिग्री देने से लेकर सुरक्षा अधिकारियों के लिए कोर्स कराने तक में इग्नू सदैव  शिक्षा के क्षेत्र में अन्वेषक रहा है।

इसी कड़ी में एक और कदम उठाते हुए इग्नू , सुचना के अधिकार में सर्टिफिकेट एवम् डिप्लोमा कोर्स प्रारम्भ कर रहा है।

rti1

देश में ऐसे कई लोग हैं जो इस अधिकार का इस्तेमाल करना चाहते हैं लेकिन उन्हें इसकी तकनीकी जानकारी नहीं होती, जैसे इसकी प्रक्रिया क्या है, प्रश्न किस तरह तैयार किये जाएं, कैसे और कहाँ अपील करनी है, इत्यादि। इग्नू के कोर्स इस कमी को पूरा करेंगे।

फ़िलहाल ये कोर्स केंद्रीय सूचना आयोग की सहायता से प्रक्रिया में हैं।

इग्नू के सामाजिक विज्ञान के विद्यालय के लोक प्रशासन की शिक्षकमण्डली एवम् केंद्रीय सूचना आयोग के विशेषज्ञ इस कोर्स का पाठ्यक्रम तैयार करने में लगे हैं। सर्टिफिकेट कोर्स जुलाई २०१६ तक प्रारम्भ होने की सम्भावना है। इसके बाद जनवरी २०१७ में डिप्लोमा कोर्स भी शुरू हो जाएंगे।

यूनिवर्सिटी ने सूचना के अधिकार में पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा कोर्स की रुपरेखा तैयार कर ली है और फिलहाल सर्टिफिकेट कोर्स पर काम कर रही है।

ignou

Photo: ignouist.hpage.com

PGDRTI एक ३६ क्रेडिट का प्रोग्राम होगा जिसमे ४ इलेक्टिव कोर्स एवम् एक फील्ड बेस्ड प्रोजेक्ट होगा।

 

यह कोर्स सभी सरकारी कर्मचारियों के लिए अनिवार्य होगा।

मूल लेख – श्रेया पारीक 

शेयर करे

Written by प्रीति पराशर

प्रीति पेशे से फ़िज़ियोथेरेपिस्ट है और सामाजिक समस्याओं के लिए आवाज उठाने की अपनी मुहिम की शुरुआत लिखने से कर चुकी है| भविष्य में भी वह सामाजिक सरोकारों के लिए कार्य करने की इच्छुक है| प्रीती पराशर को आप ट्विटर पर @Preetiparashar8 पर फॉलो कर सकते है|

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

डॉक्टरो का कहना था कि वह सिर्फ सौ घंटे जी सकेगी! आज 16 साल की मुस्कान सबके लिए एक मिसाल है!

कर्नाटक की पहली महिला टैक्सी ड्राईवर, ‘सेल्वी’ का यहाँ तक का सफ़र नहीं था आसान !