in

बेटे के मृत शरीर को लाने में परिवार ने जताई असमर्थता तो इन चार एम्बुलेंस चालकों ने दिखाई इंसानियत!

केरल में कुछ एम्बुलेंस चालकों ने मानवता की मिसाल कायम की है। उन्होंने मलप्पुरम में काम करने वाले एक प्रवासी मजदुर की मौत के बाद उसके शरीर को उसके परिवार के पास वाराणसी पहुँचाने की ज़िम्मेदारी उठाई है।

25 सितम्बर को एक सड़क दुर्घटना में 20 वर्षीय सिकन्दर की मौत हो गयी थी। जिसके बाद उसके परिवार वालों से सम्पर्क किया गया। लेकिन उसके परिवार वालों ने उसका शरीर लेने आने में असमर्थता दिखाई। ऐसे में चेम्मद के एम्बुलेंस चालकों ने निश्चय किया कि वे खुद सिकन्दर के पार्थिव शरीर को उसके घर पहुंचाएंगे।

ये चार एम्बुलेंस ड्राईवर हैं अब्दुल सत्तार, नजार, अब्दुल पथिरंगल और अब्दुल रहमान! इन्होंने 28 सितम्बर को सिकन्दर के पड़ोसी के साथ उसके घर, वाराणसी की यात्रा शुरू की। वे 2 अक्टूबर की दोपहर वाराणसी पहुंचे, जहाँ उन्होंने सिकन्दर के शरीर को वाराणसी पुलिस को सौंपा।

Promotion
Banner

बेशक, इन चारों द्वारा उठाया गया यह कदम काबिल-ए-तारीफ है। हम इन सभी लोगों की सराहना करते हैं।


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर भेज सकते हैं।

Promotion
Banner

देश में हो रही हर अच्छी ख़बर को द बेटर इंडिया आप तक पहुँचाना चाहता है। सकारात्मक पत्रकारिता के ज़रिए हम भारत को बेहतर बनाना चाहते हैं, जो आपके साथ के बिना मुमकिन नहीं है। यदि आप द बेटर इंडिया पर छपी इन अच्छी ख़बरों को पढ़ते हैं, पसंद करते हैं और इन्हें पढ़कर अपने देश पर गर्व महसूस करते हैं, तो इस मुहिम को आगे बढ़ाने में हमारा साथ दें। नीचे दिए बटन पर क्लिक करें -

₹   999 ₹   2999

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है.

दो दशक पहले सबरीमाला मंदिर में जाने वाली पहली महिला थी यह आइएएस अफ़सर!

विले पार्ले कुआं हादसा: बिना अपनी परवाह किये दो युवकों ने बचाई औरतों और बच्चों की जान!