in

अपने गाँव को खुला शौच मुक्त बनाने के लिए इस किसान ने बनवाए 35 दिनों में 780 शौचालय!

राजस्थान के बांसवाड़ा जिले के एक छोटे से गांव सावनिया से ताल्लुक रखने वाले 45 वर्षीय किसान मणिलाल राणा ने अपने गांव में 35 दिनों के अंदर लगभग 780 शौचालय बनवाये हैं। जिसके चलते मणिलाल स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत अपने गांव के स्वच्छगृही बन गए हैं।

उन्होंने अपने गांव से बाहर कई माहनगरों जैसे कि अहमदाबाद, मुंम्बई आदि की एक ट्रिप की थी। यहां उन्होंने देखा कि हर एक घर में शौचालय है और यहां शौचालय को कितना महत्व दिया जाता है। बस फिर उन्होंने भी ठान लिया कि वे भी अपने गांव को खुला- शौच मुक्त गांव बनायेंगें।

मणिलाल ने बताया, “जब हमने गांव में अभियान शुरू किया तो पता चला कि गांव में 280 शौचालय हैं लेकिन और 700 शौचालयों की जरूरत हैं।”

मणिलाल ने अपने अभियान से सबसे पहले युवाओं को जोड़ा क्योंकि उन्हें इसके बारे में समझाना और जागरूक करना थोड़ा आसान था। लेकिन गांव के बड़े-बुजुर्गों और अन्य लोगों को समझाकर मनाने में उन्हें वक़्त लगा। पर फिर भी गांव के युवाओं और यहां के जिला अधिकारी के साथ से मणिलाल अपने अभियान में कामयाब रहे।


उन्होंने गांववालों को समझाया कि खुले में शौच करना और गांव में बीमारियां फैलना, इन दो बातों का आपस में संबंध है। मणिलाल और युवाओं ने संबंधित उदाहरणों का सहारा लिया जैसे खुले में शौच जाने से कैसे मक्खियां पैदा होती हैं और फिर वही मक्खियां हमारे खाने और पेय जल को दूषित करती हैं।

धीरे-धीरे बात गांववालों की समझ में आने लगी। उन्होंने बताया, “फिर हर सुबह गांव के सरपंच और निगरानी समिति के सदस्य एक पुजारी के साथ हर घर का दौरा करते और शौचालय के लिए जगह को चिह्नित कर देते।”

चीज़ें तेजी से बदलने लगी, जब हर एक परिवार घर में शौचालय बनवाने के लिए तैयार हो गया। 35 दिनों में गांव सावनिया ने 780 शौचालयों का निर्माण किया और खुला शौच मुक्त (ओडीएफ) गांव होने का ख़िताब पाया। आज गांव में निगरानी समितियां हैं जो यह ख्याल रखती हैं कि खुला शौच मुक्त होने का गांव का यह सम्मान बरकरार रहे।

मणिलाल को अपने काम के लिए प्रधानमंत्री द्वारा भी सम्मानित किया गया है।


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर भेज सकते हैं।

Promotion
Banner

देश में हो रही हर अच्छी ख़बर को द बेटर इंडिया आप तक पहुँचाना चाहता है। सकारात्मक पत्रकारिता के ज़रिए हम भारत को बेहतर बनाना चाहते हैं, जो आपके साथ के बिना मुमकिन नहीं है। यदि आप द बेटर इंडिया पर छपी इन अच्छी ख़बरों को पढ़ते हैं, पसंद करते हैं और इन्हें पढ़कर अपने देश पर गर्व महसूस करते हैं, तो इस मुहिम को आगे बढ़ाने में हमारा साथ दें। नीचे दिए बटन पर क्लिक करें -

₹   999 ₹   2999

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है.

श्रद्धांजलि : भारत के लिए चार युद्धों में जान लड़ा देने वाले एयर मार्शल रणधीर सिंह!

7 साल की उम्र में स्केटिंग में जीते हैं 30 से भी ज्यादा मेडल, गिनीज़ बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकॉर्ड में शामिल है नाम!