Search Icon
Nav Arrow
soil preparation for home garden

इन 7 जैविक चीजों से तैयार करें मिट्टी, गमले में लगेंगी अच्छी सब्जियां

दिल्ली की गार्डनिंग एक्सपर्ट, अतिथि पोपली बता रही हैं, घर पर बागवानी के लिए पोषणयुक्त और उच्च गुणवत्ता की मिट्टी तैयार करने का तरीका।

बड़े शहरों में अपने घरों में बागवानी के इच्छुक लोगों को जगह की समस्या आती है। खासकर फ्लैट्स में रहने वाले लोग, जिनकी बालकनी या छत पर सीमित जगह होती है। ऐसे में, सबसे अच्छा तरीका है कि आप गमलों या कंटेनर में पेड़-पौधे लगाएं। लेकिन बहुत से लोगों को लगता है कि गमलों या कंटेनर में औषधीय पौधे, सब्जियां या फलों के पौधे विकसित नहीं होते हैं। जबकि यह बात सही नहीं है। आप बेहद आसान तरीके से गमलों में साग -सब्जी से लेकर औषधीय पौधे उगा सकते हैं। इसके लिए सबसे जरूरी है ,गमले के लिए मिट्टी की तैयारी। आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि किस तरह आसानी से आप अपने गमले के लिए पोषक मिट्टी तैयार कर सकते हैं। 

दिल्ली में विकासपुरी की रहनेवाली 48 वर्षीया अतिथि पोपली, पिछले सात वर्षों से मौसमी सब्जियां उगा रही हैं। अपने घर में बागवानी करने के साथ-साथ, वह दूसरे लोगों को बागवानी सिखाती भी हैं। अतिथि पेंटिंग भी करती हैं और साथ ही, जैविक बागवानी और खेती से भी जुड़ी हुई हैं। अपने घर में लौकी, पेठा, टिंडे, खीरा, टमाटर जैसी मौसमी सब्जियां उगानेवाली, अतिथि कहती हैं कि गमलों में भी आप सब्जियों का अच्छा उत्पादन ले सकते हैं, अगर आप सही तरीकों से शुरुआत करें तो। 

अतिथि ने द बेटर इंडिया को बताया, “अक्सर लोग नर्सरी से गमले, मिट्टी, खाद, और फ़र्टिलाइज़र खरीद लाते हैं और माली को इन्हें तैयार करके पौधे लगाने का काम सौंप देते हैं। फिर कुछ समय बाद देखते हैं कि पौधे खराब हो रहे हैं और इन्हें बचाने के लिए वे मिट्टी बदलते हैं। जबकि मिट्टी ऐसी चीज है, जो खराब नहीं होती है, बल्कि आपको इसमें सही और जैविक चीजें मिलाकर इसमें पोषण और गुणवत्ता बढ़ाने की जरूरत होती है। सबसे अच्छी बात यह है कि आपको इस काम के लिए बाजार से कुछ खरीदने की जरूरत नहीं है, बल्कि आप थोड़ी-सी मेहनत करके सभी चीजें खुद इकट्ठा कर सकते हैं।”  

Soil Preparation For Home Garden
Atithi Popali

घर में बागवानी करने के शौक़ीन लोगों के लि,ए अतिथि बता रही हैं कि कैसे सही तरीकों से मिट्टी तैयार करके, गमलों में भी साग-सब्जियों का अच्छा उत्पादन लिया जा सकता है। 

क्या-क्या चाहिए 

1. सामान्य मिट्टी: 

अतिथि कहती हैं कि आपके इलाके में अगर किसी के यहां बोरवेल हो रहा हो या अन्य किसी काम के लिए मिट्टी की खुदाई जारी हो, तो आप वहां से मिट्टी ला सकते हैं। इसके अलावा, आप नर्सरी से भी मिट्टी खरीद सकते हैं। 

2. जैविक खाद: 

कोशिश करें कि आप अपने घर की रसोई से निकलने वाले फल -सब्जियों के छिलके या अन्य जैविक कचरे को फेंकने की बजाय घर में ही इससे खाद बना लें। अगर आपके पास घर की खाद उपलब्ध नहीं है, तो आप नर्सरी से जैविक खाद ले सकते हैं। 

3. कोकोपीट: 

अगर आप चाहें, तो कोकोपीट ऑनलाइन खरीद सकते हैं। लेकिन अगर आपके आसपास कोई नारियल बेचता है, तो आप उनसे नारियल के छिलके (जटाएं) ले आएं और इनका उपयोग करें। 

Soil Preparation For Home Garden
Soil, Compost, Cocopeat, Dried Leaves, Neem Cake/Neem Leaves, Small stones and Liquid Compost (Rep Image)

4. सूखे पत्ते: 

आपको किसी भी सार्वजनिक पार्क में सूखे पत्ते मिल जायेंगे या फिर सड़क किनारे लगे पेड़ों से भी बहुत से पत्ते गिरते हैं। इन्हें आप इकट्ठा करके रख लें क्योंकि सूखे पत्ते बागवानी में बहुत काम आते हैं। 

5. नीमखली: 

अतिथि कहती हैं कि जरूरी नहीं कि आप नीमखली बाजार से ही खरीदें। अगर आपके आसपास कोई नीम का पेड़ है, तो आप इस पेड़ से गिरने वाले पत्तों, निम्बोली और टहनियों को इकट्ठा करके इस्तेमाल में ले सकते हैं। अगर किसी के घर में नीम का पेड़ नहीं है, तो आप अपने शहर के सार्वजनिक स्थान, जैसे सरकारी अस्पताल, स्कूल या अन्य कोई सरकारी दफ्तर के परिसर में चेक करें, वहां पर एक न एक नीम का पेड़ आपको जरूर मिल जाएगा। 

6. छोटे पत्थर या बजरी: 

गमले या कंटेनर में छोटे पत्थरों या बजरी की एक परत बिछाकर, तले के छेद को ढकना चाहिए। ऐसा करने से पानी गमले में ठहरता नहीं है और पौधे की जड़ें स्वस्थ रहती हैं। याद रहे कि आप इस्तेमाल से पहले पत्थरों या बजरी को अच्छे से धो लें। 

7. जैविक तरल खाद: 

आप प्याज और केले के छिलकों को कुछ दिन पानी में भिगोकर रखें। अब इस पानी को छान लें। आपकी तरल खाद तैयार है, जिसे आप सामान्य पानी में मिलाकर इस्तेमाल कर सकते हैं। 

ऐसे तैयार करें घर पर बागवानी के लिए मिट्टी: 

अतिथि बताती हैं कि आप जो भी गमला लें, उसके तले में ड्रेनेज के लिए छेद अवश्य होना चाहिए। 

1. अब सबसे पहले आप गमले में छोटे पत्थरों या बजरी से दो इंच की परत इस प्रकार बिछाएं कि छेद में से एक्स्ट्रा पानी निकल जाए। 

2. दूसरी परत, सूखे पत्तों की बनाएं। 

3. अब मिट्टी, जैविक खाद और कोकोपीट को बराबर मात्रा में मिलाएं। इस मिश्रण में आप नीमखली भी मिला लें। अच्छे से मिलाने के बाद तैयार मिश्रण को सूखे पत्तों की परत के ऊपर डालें और गमले को भर दें। 

4. मिट्टी से गमले को भरने के बाद, इसके ऊपर आप फिर से एक परत सूखे पत्तों की बिछाएं। 

5. अब इस गमलें में तैयार मिट्टी पर ऊपर से आप जैविक तरल खाद का छिड़काव करें, जो आप प्याज या केले के छिलकों को एक हफ्ते तक पानी में भिगोकर तैयार कर सकते हैं। 

6. अब 4-5 दिन तक इस गमले को अलग रख दें। 

Soil Preparation For Home Garden
Soil Mix

लगभग पांच दिन बाद, आपका गमला बीज बोने के लिए एकदम तैयार हो जाता है। अतिथि कहती हैं कि इस तरह से मिट्टी तैयार करके पौधे लगाने पर आपको अलग से कोई रासायनिक खाद या स्प्रे करने की जरूरत नहीं पड़ेगी। इससे आप गमलों में भी अच्छे से पौधे लगा सकते हैं। यह मिट्टी लगभग सभी तरह के पेड़-पौधों के लिए उपयुक्त है। 

बागवानी के साथ-साथ, अतिथि अब जैविक खेती भी शुरू करने जा रही हैं। उनका उद्देश्य ज्यादा से ज्यादा लोगों, खासकर कि युवाओं को जैविक और गौ-आधारित खेती से जोड़ना है। 

तो देर किस बात की, आज से ही शुरू करें मिट्टी तैयार करना ताकि बारिश के मौसम में आप गमलों में आसानी से उगा सकें ढेर सारे पेड़-पौधे। 

संपादन- जी एन झा

यह भी पढ़ें: एक्सपर्ट से सीखें, केले के छिलके से बेहतरीन खाद बनाना

यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें।

close-icon
_tbi-social-media__share-icon