in

महाराष्ट्र: दफ्तर में ‘पान’ के धब्बों से चकित आईएएस अफसर ने खुद की दीवारें साफ़!

आईएएस अफसर आस्तिक कुमार पांडे

काफी समय से महाराष्ट्र के अकोला ज़िले में लोग लोक निर्माण विभाग (पीडब्ल्यूडी) के अधिकारीयों के काम और व्यवहार की लगातार शिकायतें कर रहे हैं।

ऐसे में ज़िले के कलेक्टर आस्तिक कुमार पांडे बिना किसी पूर्व सुचना के विभाग के दौरे पर जा पहुंचे। लेकिन वहां जाकर उन्होंने जो देखा उससे उन्हें समझ आ गया कि लोगों की शिकायतें बेबुनियाद नहीं हैं।

इस विभाग के कामकाज की जांच के लिए वे दौरे पर गए थे ताकि कोई समस्या है तो उसका पता लगाकर उसे हल करने की कोशिश करेंगें। हालांकि, जब उन्होंने इमारत में प्रवेश किया, तो वे स्तब्ध रह गए।

दरअसल, जब आस्तिक पीडब्ल्यूडी विभाग पहुंचे तो उन्होंने देखा कि बिल्डिंग में दीवारों पर पान के धब्बे हैं और मकड़ी के जाले लटके हुए हैं। वे समझ गए कि जो लोग अपना दफ्तर ही साफ़ नहीं रख सकते वे आम जन की समस्याएं कैसे सुलझाते होंगें।

इसलिए, आस्तिक ने निश्चय किया कि यदि इन अधिकारियों को यहां गंदगी नहीं दिखती तो वे उन्हें दिखाएंगे – बिल्कुल गाँधीगिरी के अंदाज में।

उन्होंने अपने अस्सिस्टेंट को एक बाल्टी में पानी और एक तौलिया लाने के लिए कहा।

एबीपी माझा

जिसके बाद, इस आईएएस अफसर ने अपने घुटनों पर बैठकर सबके सामने खुद दीवार पर पान के धब्बों को साफ करना शुरू कर दिया।

Promotion

इसे देखकर सभी पीडब्ल्यूडी के अधिकारीयों को शर्मिंदगी महसूस हुई क्योंकि दफ्तर को साफ़ रखना भी उनकी एक ज़िम्मेदारी है और सबसे पहले इस तरह बसे दफ्तर को गंदा किया ही नहीं जाना चाहिए।

एबीपी न्यूज की एक रिपोर्ट के मुताबिक, जब विभाग की महिला कर्मचारियों ने उनसे अनुरोध किया, केवल तब वे रुके। इसके बाद उन्होंने सभी अधिकरियों को समझाया और पूरे दफ्तर को दो दिनों के भीतर साफ करने का निर्देश दिया।

शायद इस आईएएस अधिकारी ने जो किया, उसके बारे में सबसे प्रेरणादायक बात यह थी कि उन्होंने कोई उपदेश नहीं दिया था बल्कि उनका एक कदम ही अधिकारियों के प्रति निराशा व्यक्त करने के लिए काफी था। वैसे तो अब विभाग को दो दिन में साफ़ हो जाना चाहिए, लेकिन फिर भी आस्तिक ने जो मूल पाठ इन लोगों को पढ़ाया वह इन्हें जीवन भर याद रहेगा।

कवर फोटो


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर भेज सकते हैं।

शेयर करे

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है. निशा की कविताएँ आप https://kahakasha.blogspot.com/ पर पढ़ सकते हैं!

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

लगभग 20 सालों से मुफ्त में बीमारों को अस्पताल पहुंचा रहे हैं ‘एम्बुलेंस दादा’!

कोलकाता ब्रिज हादसा: एक बार फिर मदद के लिए आगे आया सिख समुदाय!