in ,

केरल: राहत कार्यों में निःस्वार्थ जुटे हैं पंजाब के ये 7 युवा छात्र!

केरल में जो आपदा आयी उससे उभरने के लिए दुनिया के सभी कोनों से मदद आ रही है। हर कोई किसी न किसी तरीके से केरल के लोगों के लिए राहत सामग्री जुटाने में मदद कर रहा है। द बेटर इंडिया पर आप केरल की बाढ़ से जुडी ऐसी कई दिल छु जाने वाली सच्ची कहानियां पढ़ सकते हैं।

ऐसी ही कहानी फिर से सामने आयी है। द इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, पंजाब से 7 युवाओं का एक समूह केरल में बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए पहुंचा हुआ है। ये सभी युवा कॉलेज छात्र हैं और इनके ग्रुप का नाम है ‘इनिशिएटर्स ऑफ़ चेंज’!

केरल के ज़िले अलप्पुज़हा में 29 अगस्त से ये सभी युवक स्कूलों व लोगों के घरों को साफ़ कर रहे हैं। इसके अलावा एमपी शशि थरूर से सम्पर्क कर इन्होने राहत सामग्री का भी बंदोबस्त कराया है।

‘इनिशिएटर्स ऑफ़ चेंज’ के फाउंडर गौरवदीप सिंह (22 वर्षीय) ने बताया कि अब तक उन्होंने ज़िले के छह घरों व दो स्कूलों की साफ़-सफाई की है और साथ ही लगभग 100 घरों में राहत का सामान पहुंचाया है।

इस संगठन की शुरुआत गौरवदीप ने साल 2015 में की थी और तब से ही वे युवाओं के साथ मिलके पंजाब में कई सामाजिक मुद्दों पर काम कर रहे हैं। उनके काम के लिए उन्हें जनवरी, 2018 के नेशनल युथ फेस्टिवल में सम्मानित भी किया गया था।

गौरवदीप ने कहा, “हमने क्राउडफंडिंग करके लगभग तीन ट्रक राहत सामग्री इकट्ठा की। लेकिन सबसे मुश्किल था इसे केरल तक पहुंचाना। ऐसे में हमने एमपी शशि थरूर के ऑफिस से सम्पर्क किया जिन्होंने दिल्ली में केरल हाउस की मदद से ट्रेन द्वारा राहत सामग्री को पहुंचाने की व्यवस्था की। हम सात स्वयंसेवक यहां 29 अगस्त को आये। हम सभी छात्र हैं इसलिए अपने से जो कुछ कर सकते थे, वही कर रहे हैं। हम बस यहां आकर किसी भी तरह केरल के लोगों की मदद करना चाहते थे।”

एक प्राइवेट एयर कंपनी ने उनकी केरल आने की टिकट स्पॉन्सर की है। हालांकि, अपने रहने व खाने की व्यवस्था वे स्वयं कर रहे हैं। इनके मिशन में एक और छोटा सा संगठन ‘यंगरूट्स’ भी सहायता कर रहा है।

स्त्रोत: फेसबुक

पिछले पांच दिनों से ये स्वयंसेवक युवा लगातार केरल में लोगों की मदद कर रहे हैं। कुट्टानाड में दो स्कूल, चिन्मया उच्चतर वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय और सरकारी स्कूल की साफ़-सफाई की गयी है ताकि बच्चों की शिक्षा जल्द से जल्द शुरू हो सके। इन दोनों स्कूलों को बाढ़ के दौरान राहत शिविरों में तब्दील किया गया था।

गौरवदीप के अलावा उनकी टीम में लुधियाना के करण अनेजा, कार्तिक नारंग, यशस्वी गोस्वामी, दीपक राजक व पटियाला से नीतीश सैनी और मेहुल नारंग हैं।

राहत कार्यों में मदद करने के साथ-साथ ये युवा फेसबुक के माध्यम से और राहत राशि जुटाने के प्रयास भी कर रहे हैं।

संपादन – मानबी कटोच


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर भेज सकते हैं।

शेयर करे

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है. निशा की कविताएँ आप https://kahakasha.blogspot.com/ पर पढ़ सकते हैं!

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

गर्व का क्षण: जब डीसीपी पिता ने किया बेटी को सैल्यूट!

19 साल की मौसमी खातून को मिली मेडिकल पढ़ाई में स्कॉलरशिप, कभी बनाती थीं बीड़ी!