ऑफर सिर्फ पाठकों के लिए: पाएं रू. 200 की अतिरिक्त छूट ' द बेटर होम ' पावरफुल नेचुरल क्लीनर्स पे।अभी खरीदें
X
अश्वगंधा! औषधीय गुणों से भरपूर इस पौधे को इस तरह लगाएं और बढ़ाएं इम्यूनिटी

अश्वगंधा! औषधीय गुणों से भरपूर इस पौधे को इस तरह लगाएं और बढ़ाएं इम्यूनिटी

अपनी इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए, आपने अश्वगंधा का इस्तेमाल तो जरूर किया होगा, पर क्या आप इस गुणकारी पौधे को उगाना भी चाहते हैं? तो पढ़ें, वडोदरा में आयुर्वेदिक खेती से जुड़े परषोत्तम हिरापरा के बताये, अश्वगंधा उगाने के कुछ सही और आसान तरीके।

कोरोना महामारी ने हमें अपने स्वास्थ्य के प्रति गंभीर होना सिखा दिया है। शरीर में प्राकृतिक इम्युनिटी होना कितना ज़रूरी है, इस बात का एहसास अब हम सभी को हो गया है। शायद इसीलिए लोग अब अपने घरों में औषधीय गुणों वाले पौधे भी लगाने लगे हैं, जैसे तुलसी, पुदीना, मेथी, धनिया, गिलोय, नीम, लेमन ग्रास, करी पत्ता आदि। ऐसा ही एक औषधीय पौधा है ‘अश्वगंधा’, जिसका वैज्ञानिक नाम ‘Withania somnifera’ है।

अश्वगंधा में एंटीऑक्सीडेंट, एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटी-बैक्टीरियल गुणों के साथ, और भी कई पोषक तत्व होते हैं,  जो शरीर को स्वस्थ रखने में मदद करते हैं। इसके अलावा, इसमें एंटी-स्ट्रेस गुण भी होते हैं, जिससे डिप्रेशन को कम करने में मदद मिलती है। अश्वगंधा में मौजूद ऑक्सीडेंट, आपके इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाने का काम करते हैं। साथ ही, यह तुलसी और पुदीना आदि की तरह ही, आसानी से अपने घर पर गमले में उगाई जा सकती है।

अश्वगंधा
अश्वगंधा का पौधा

वडोदरा की एक आयुर्वेदिक फार्मेसी ‘Parivar Lifecare’ के फाउंडर, परषोत्तम हिरापरा एक किसान भी हैं। वह पिछले कई सालों से ब्राह्मी, गिलोय, अश्वगंधा जैसे कई औषधीय पौधों की खेती से जुड़े हुए हैं। वडोदरा के पास ही उनका एक खेत है, जहां आपको अश्वगंधा के कई पौधे दिख जाएंगे। वह आसपास के किसानों को भी, औषधीय पौधों की खेती करने में मदद करते हैं। साथ ही, वह कहते हैं कि कुछ औषधीय पौधों को आसानी से घर पर भी उगाया जा सकता है। 

अश्वगंधा उगाएं
परषोत्तम हिरापरा

द बेटर इंडिया से बात करते हुए उन्होंने बताया, “अश्वगंधा की पत्तियों और जड़ो में औषधीय गुण मौजूद होते हैं, जो आपके दिल, दिमाग और आँखों के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं। अश्वगंधा का पौधा ज्यादा बड़ा नहीं होता, इसलिए इसे कम जगह में भी आराम से उगाया जा सकता है। यह 20 से 38 डिग्री सेल्सियस तापमान में अच्छी तरह से विकसित हो जाता है।” परषोत्तम कहते हैं कि इस पौधे को ज्यादा देखभाल या खाद आदि की जरूरत नहीं होती है। वह हमें अश्वगंधा के पौधे को उगाने का बिल्कुल आसान तरीका बता रहे हैं। 

बीज से उगा सकते हैं अश्वगंधा

अश्वगंधा का पौधा, इसके बीजों से लगाया जाता है। अगर आप पहली बार यह पौधा लगा रहे हैं, तो आपको इसके बीज बाजार से खरीदने होंगे। आप Amazon पर भी, इन बीजों को आसानी से ऑनलाइन खरीद सकते हैं। 

seed of ashwagandha
अश्वगंधा के बीज

बीज से कैसे उगाएं अश्वगंधा:

  • सबसे पहले, आपको गमले या ग्रो बैग में वर्मीकम्पोस्ट और मिट्टी से, पॉटिंग मिक्स तैयार करना होगा। इसके लिए, आप कोकोपीट का इस्तेमाल भी कर सकते हैं। वहीं, अश्वगंधा के पौधे सामान्य रेत और वर्मीकम्पोस्ट के मिश्रण में भी उग जाते हैं। 
  • पॉटिंग मिक्स से भरे गमले या ग्रो बैग में, अश्वगंधा के बीज डालें। 
  • फिर, इसके ऊपर पॉटिंग मिक्स की एक पतली परत चढ़ाएं। याद रखें, बीजों के ऊपर ज्यादा मिट्टी या पॉटिंग मिक्स न हो। 
  • इसके बाद, थोड़ा सा पानी डाल कर छोड़ दें। 
  • एक-एक दिन छोड़कर, इनमें थोड़ा-थोड़ा पानी डालें। 
  • तक़रीबन 10 से 12 दिनों के बाद, अश्वगंधा के बीज अंकुरति हो जाते हैं। 
  • गमले को किसी ऐसी जगह रखें, जहां सूरज की तेज धूप न पड़ती हो। 
  • पौधे को बढ़ने में एक महीना लगता है। 
  • इसके बाद, आप सभी छोटे-छोटे पौधों को अलग-अलग गमलो में डालकर, उगा सकते हैं। इससे पौधे की जड़ें अच्छे से विकसित होती हैं।  
  • पौधों को अलग-अलग गमलों में लगाने के बाद, आप इन्हें धूप में रख सकते हैं।
  • अश्वगंधा के पौधों को उगाने में काफी कम पानी की जरूरत होती है, इसलिए पानी थोड़ा-थोड़ा ही डालें। 
  • इनमें किसी केमिकल खाद का इस्तेमाल न करें, क्योंकि इसकी जड़ें तथा पत्ते, दोनों ही इस्तेमाल में लिए जाते हैं। 
  • अश्वगंधा के पौधों को पूरी तरह से विकसित होने में, छ्ह महीने लगते हैं। ये पौधे लगभग डेढ़ से दो फ़ीट लंबे होते हैं। 
  • लगभग छह महीने बाद, पौधे में लाल रंग के चेरी जैसे फल उगने लगते हैं, जिन्हें विंटर चेरी भी कहा जाता है। 
अश्वगंधा

अश्वगंधा का इस्तेमाल कैसे करें:

परषोत्तम कहते हैं, “अश्वगंधा के पत्तों का इस्तेमाल, काढ़े के रूप में किया जा सकता है। यह वजन घटाने के साथ, इम्यूनिटी बढ़ाने में भी मदद करता है। काढ़ा बनाने के लिए, आप पत्तों को पानी के साथ उबालकर पी सकते हैं।” अश्वगंधा की जड़ें, गाजर या मूली के समान छह-सात इंच लंबी होती हैं, इससे आप अपने घर पर भी, अश्वगंधा पाउडर बना सकते हैं। इसके लिए आपको, पौधे को जड़ सहित निकालना होगा। जड़ को पौधे से अलग करके सुखा दें। फिर सूखी हुई जड़ को पीसकर, आप पाउडर बना सकते हैं। इस पाउडर को आप दूध के साथ मिलाकर पी सकते हैं। 

औषधीय पौधे हमारे स्वास्थ्य के लिए काफी लाभकारी होते हैं। साथ ही, इन्हें लगाना भी काफी आसान होता है। आप अपने परिवार के लिए, बिना किसी ज्यादा खर्च और मेहनत के, इन पौधों को घर पर लगा सकते हैं। आशा है, आप भी अपने घर पर अश्वगंधा का एक पौधा तो जरूर लगाएंगे।

हैपी गार्डनिंग

संपादन – प्रीति महावर

यह भी पढ़ें – Grow Giloy: घर पर ही इस तरह उगा सकते हैं गिलोय और बढ़ा सकते हैं इम्युनिटी

यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें।

Let’s be friends :)
सब्सक्राइब करिए और पाइए ये मुफ्त उपहार
  • देश भर से जुड़ी अच्छी ख़बरें सीधे आपके ईमेल में
  • देश में हो रहे अच्छे बदलावों की खबर सबसे पहले आप तक पहुंचेगी
  • जुड़िए उन हज़ारों भारतीयों से, जो रख रहे हैं बदलाव की नींव