Search Icon
Nav Arrow

इस पर्यटक दिवस पर घुमे ताज महल और २०० अन्य जगहों पर मुफ्त !!!

Advertisement

पर्यटन सिर्फ मनोरंजन का ही साधन नहीं बल्कि यह किसी भी देश के सामाजिक, सांस्कृतिक, राजनैतिक एवं आर्थिक विकास में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाता है। पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए हर साल २७ सितम्बर को विश्व पर्यटन दिवस के रूप में मनाया जाता है।

भारत में इस वर्ष २७ सितम्बर को करीब २०० स्मारकों और संग्रहालयों में प्रवेश निःशुल्क कर दिया गया है।

taaj

picture source – You Tube

नवभारत टाइम्स में छपी एक खबर के अनुसार संस्कृती मंत्री, महेश शर्मा ने इसकी अनुमति दे दी है। प्रवेश निःशुल्क करने वाले स्मारको में विश्व धरोहर स्थल के अलावा सांस्कृतिक मंत्रालय के अंतर्गत आने वाले सारे संग्रहालय है।

जिन ११६ स्मारकों में  पर्यटकों को टिकट नहीं लगेगा उनमे ताज महल, आगरा का किला, विठ्ठल मंदिर- हम्पी, खजुराहो के स्मारक स्थल, बौद्ध स्मारक साँची, गोलकुंडा का किला, चारमिनार,  सासाराम में शेर शाह सूरी की समाधी, विक्रमशिला स्थल, कुम्हरार में मौर्या पैलेस स्थल, नालंदा के खोदाई स्थल और वैशाली स्थल प्रमुख हैं।

 
चारमिनार-हैदराबाद
Picture source- wikimedia

इसी के साथ करीब ३५ संग्रहालयो के अलावा संस्कृति मंत्रालय के प्रशासनिक नियंत्रण में आने वाले संग्रहालय हैं जैसे राष्ट्रीय संग्रहालय दिल्ली तथा सलार जंग संग्रहालय में भी टिकट नहीं लगेगा।

शेर शाह सूरी की समाधी
Picture source- wikimedia

पर्यटन दिवस के अवसर पर देश भर में कई गतिविधियों का आयोजन किया जा रहा है। इस दिन देश की राजधानी दिल्ली में सुबह मेहरोली के आर्कोलोजीकल पार्क से साईकिल रैली निकाली जायेगी। करीब सात किलोमीटर लंबी यह साइकिल रैली १०-१२ ऐतिहासिक स्थलों से होकर गुजरेगी।

Advertisement

इसी दिन दिल्ली हाट में  प्रवेश निःशुल्क होने क साथ ही पर्यटन मंत्री द्वारा फ्री वाई फाई की सेवा भी लांच की जायेगी जिसमे पहले २० मिनट की सेवा निःशुल्क रहेगी।

दिल्ली हाट
Picture source- wikimedia

इसके अलावा दिल्ली के सभी एअरपोर्ट पर पर्यटन विभाग के कर्मचारी एवं अधिकारी मौजूद रहेंगे तथा विदेश से आने वाले पर्यटकों को फूल माला पहना कर स्वागत किया जाएगा।

संयुक्त राष्ट्र संघ ने १९८० से हर वर्ष २७ सितम्बर को पर्यटन दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लिया। इसके पीछे का कारण था कि १९७० में इसी दिन विश्व पर्यटन दिवस का संविधान स्वीकार किया गया था। तभी से भारत के साथ साथ अन्य देश इस दिन पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन करते हैं।

 

 

Advertisement
close-icon
_tbi-social-media__share-icon