Search Icon
Nav Arrow

5 ऑनलाइन शॉप, जहाँ से खरीद सकते हैं Gardening Kit!

मिट्टी, खाद, गमला, बीज, बागवानी के लिए ज़रूरी हर ज़रूरी चीज़ होगी इस किट में। जानिए किन ऑनलाइन शॉप से खरीद सकते हैं ये gardening kit.

Advertisement

कोरोना महामारी के कारण देश में लगे लॉकडाउन के दौरान, बहुत से लोगों का रुझान ‘होम-गार्डनिंग’ की तरफ बढ़ा। ऐसा नहीं है कि पहले लोग अपने घरों में बागवानी नहीं करते थे। लेकिन लॉकडाउन के दौरान मिले खाली समय में, ज्यादा लोग इसके प्रति जागरूक हुए। खासकर कि शहरों में लोग अपनी बालकनी, छत या आँगन में उपलब्ध थोड़ी बहुत जगहों को भी गार्डनिंग के लिए इस्तेमाल में लेने लगे। और अब तो कई लोग, अपने बच्चों को भी गार्डनिंग सीखाने लगे हैं। आजकल सोशल मीडिया पर लोग अपने घरों में उगाई सब्जियां, माइक्रोग्रीन्स की तस्वीरें साझा करते रहते हैं। गार्डनिंग के प्रति बढ़े रुझान के कारण, बाजार में गार्डनिंग किट (Gardening Kit) का प्रचलन भी बढ़ा है। ये गार्डनिंग किट खासतौर पर शहर में रहने वालों के लिए हैं, जिन्हें अपने आसपास मिट्टी-बालू जैसी चीजों की व्यवस्था करने में परेशानी होती है। साथ ही, बहुत से लोगों के पास इतना समय भी नहीं होता कि वे अलग-अलग जगहों से, पहले चीजें इकट्ठा करें और फिर गार्डनिंग की शुरुआत करें। इसलिए Gardening Kit एक बेहतर विकल्प है, क्योंकि इसमें पहले से ही सभी जरूरी चीजें मौजूद रहती हैं। 

आज हम आपको ऐसी 5 ऑनलाइन स्टोर्स के बारे में बता रहे हैं, जो बच्चों से लेकर बड़ों तक के लिए, अलग-अलग तरह के Gardening Kit उपलब्ध करा रहे हैं। 

1. Sow and Grow

Gardening Kit

गुरुग्राम में रहने वाली 38 वर्षीया नेहा सहारण ने लगभग तीन साल पहले, अपने स्टार्टअप ‘Sow and Grow’ की शुरुआत की थी। वह बताती हैं कि उन्होंने Gardening Kit की शुरुआत बच्चों को ध्यान में रखकर की थी। लेकिन पिछले एक साल में, न सिर्फ बच्चे बल्कि हर उम्र के लोगों ने उनसे Gardening Kit खरीदे हैं। उन्होंने बताया, “मैं काफी समय से बच्चों के जन्मदिन, इवेंट और गिफ्टिंग बिज़नेस से जुड़ी हुई हूँ। पहले हम बच्चों के उपहार के लिए पौधे उपलब्ध कराते थे। लेकिन, फिर लगा कि बच्चों को ऐसा कुछ देना चाहिए, जिससे वे खुद बीज लगाने और पौधे के बड़े होने की प्रक्रिया का अनुभव ले सकें। इसलिए, हमने बीजों को बहुत ही आसानी से उगाने वाली Gardening Kit बनाना शुरू किया।” 

Sow and Grow‘ से आप फूलों, औषधीय पौधों, सब्जियों और माइक्रोग्रीन्स के Gardening Kit खरीद सकते हैं। अलग-अलग Gardening Kit के अलावा, उनसे आप ‘सीड बॉल’ और ‘प्लांटेबल’ स्टेशनरी भी खरीद सकते हैं। नेहा ने बताया कि उनके Gardening Kit में बीज, एक बायोडिग्रेडेबल गमला, चार कोको कॉइन (कोकोपीट को सिक्कों का रूप देकर रखा गया है), केंचुआ खाद और एक ‘मार्कर स्टिक’ होता है। मार्कर स्टिक पर आप उस सब्जी या फूल का नाम लिखकर गमले में लगा सकते हैं, जिसके बीज आपने गमले में बोये हैं। साथ ही, इस पर बीज लगाने की तारीख भी लिखिए, ताकि आपके लिए पौधों के विकास को नोटिस करना आसान रहे। 

उनका ‘माइक्रोग्रीन किट’ भी काफी खास है। नेहा कहती हैं कि कई जगह माइक्रोग्रीन किट के साथ सिंगल यूज प्लास्टिक कंटेनर आता है, लेकिन वह अपने किट में बीज, केंचुआ खाद, कोकोपीट के साथ रीयूजेबल (बार-बार इस्तेमाल में आने वाला) कंटेनर और स्प्रे बोतल देती हैं। इससे ग्राहकों को पूरे किट के लिए, सिर्फ एक बार पैसे खर्च करने होंगे। इसके बाद, उन्हें सिर्फ बीज खरीदने होंगे और वे पुराने कंटेनर और स्प्रे बोतल को ही इस्तेमाल में ले सकते हैं। 

उनके सभी उत्पाद देखने या खरीदने के लिए यहाँ क्लिक करें। 

2. Bombay Green

DIY Gardening Kit

मुंबई में रहने वाली दंपति तन्वी और अंकुर अग्रवाल ने अपने स्टार्टअप की शुरुआत 2020 में लॉकडाउन के दौरान ही की। काफी समय से अपनी छत पर ही गार्डनिंग करने वाले, तन्वी और अंकुर के किचन की लगभग 90% जरूरत गार्डन से पूरी हो जाती है। खासकर, लॉकडाउन में उन्हें अपने गार्डन से काफी मदद मिली और इसकी तस्वीरें वे सोशल मीडिया पर साझा करने लगे। इन तस्वीरों को देखकर सैकड़ों लोगों ने उनसे सोशल मीडिया पर यह पूछने के लिए संपर्क किया कि वे भी अपने घर में सब्जियां कैसे उगा सकते हैं। 

सबको अलग-अलग जवाब देने के दौरान, इस दंपति को आईडिया आया कि क्यों न लोगों के लिए Gardening Kit बनाई जाए, जिससे लोग आसानी से अपने घरों में सब्जियां उगा सकें। तन्वी बताती हैं कि उनके ग्रो किट में तीन अलग-अलग किस्म के बीज, कोकोपीट, जैविक खाद और तीन छोटे गमले होते हैं। इसके साथ ही, वे लोगों की सुविधा के लिए एक दिशा-निर्देश मैन्युअल भी किट में डालते हैं। आप उनसे फूलों, सब्जियों, औषधीय पौधों के साथ-साथ, हरी पत्तेदार सलाद किट और हर्बल टी किट भी खरीद सकते हैं। 

अपने हर किट में, वे तीन अलग-अलग किस्म के पौधों के बीज देते हैं, जैसे- हर्बल टी किट में आपको कैममाइल (chamomile), रोज़ैल (roselle) और बटरफ्लाई पी (butterfly pea) के बीज मिलेंगे, तो एक अन्य किट में ब्रोकली, जुकीनी और बैंगनी पत्तागोभी के बीज मिलेंगे। ग्राहक अपनी इच्छानुसार उनके यहाँ से किट खरीद सकते हैं। 

उनसे गार्डनिंग किट खरीदने के लिए आप यहाँ क्लिक करें। 

3. Upaj Farm:

Gardening Kit upaj farm

गुजरात के वडोदरा में रहने वाली, अवनी जैन ने कई सालों तक, बतौर आर्किटेक्ट काम करने के बाद 2009 में खेती शुरू की। धीरे-धीरे उन्होंने जैविक खेती और बागवानी की अच्छी जानकारी हासिल कर ली और फिर अपने इस ज्ञान को दूसरे लोगों से भी साझा करने पर विचार किया। इसके बाद, उन्होंने ‘उपज फार्म’ की शुरुआत की और अपने ब्रांड के अंतर्गत उन्होंने शहरी लोगों के लिए, Gardening Kit किट की भी शुरुआत की। वह बताती हैं कि शुद्ध और स्वस्थ खाने को लेकर लोगों में बढ़ती जागरुकता के कारण, अब बहुत से लोग जैविक तरीकों से उगे हुए फल-सब्जियां खाना चाहते हैं। 

लेकिन, हर जगह आपको बाजार में जैविक फल और सब्जियां नहीं मिलती हैं। इसलिए, सबसे अच्छा तरीका है कि लोग खुद अपने घरों में किचन गार्डनिंग करें। इसलिए, उन्होंने अपना किट तैयार किया। ग्राहक उनसे फल, सब्जियों, फूलों और औषधीय पौधों के गार्डनिंग किट खरीद सकते हैं। 

Advertisement

उनके Gardening Kit में बायोडिग्रेडेबल गमला, बीज, पॉटिंग मिक्स, जैविक खाद, मार्कर स्टिक के साथ, गार्डनिंग मैन्युअल (बीज को लगाने के तरीके और दिशा-निर्देश) और ऑब्जरवेशन शीट होती है। उस शीट पर आप बीज लगाने की तारीख, अंकुरित होने की तारीख और पानी व खाद आदि देने का समय लिख सकते हैं। 

उनके गार्डनिंग किट देखने और खरीदने के लिए यहाँ क्लिक करें

4. Sangita’s Green Gallery:

Gardening Kit by Sangita

महाराष्ट्र के नासिक में रहने वाली संगीता पोरवाल, पिछले कई सालों से गार्डनिंग कर रही हैं। इसके साथ ही, वह अपने घर से ही नर्सरी भी चला रही हैं, जिसका नाम ‘Sangita’s Green Gallery’ है। गार्डनिंग पर ऑनलाइन वर्कशॉप करने के साथ-साथ, वह लोगों को तरह-तरह के पेड़-पौधे भी उपलब्ध कराती हैं। इसी के साथ, उन्होंने 2020 में Gardening Kit भी तैयार करना शुरू किया। 

वह कहती हैं, “मुझे नासिक के बाहर से ही बहुत से ऑर्डर मिलते हैं। लेकिन, बहुत ज्यादा दूर के ऑर्डर मैं नहीं ले पाती हूँ, क्योंकि मेरा सेटअप बड़े स्तर पर नहीं है। मेरे पास इतने साधन नहीं है कि मैं दूर शहरों में, लोगों के लिए पौधे भेज सकूं। इसलिए मैंने Gardening Kit तैयार करने के बारे में सोचा। इनके जरिये, मैं ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुँच सकती हूँ।”

उनसे आप फूल, सब्जियों के अलावा, माइक्रोग्रीन किट भी खरीद सकते हैं। उनके पास अलग-अलग किट मौजूद हैं, जैसे- किसी किट में आपको सिर्फ एक ही तरह के बीज मिलेंगे, तो किसी किट में आपको कई तरह के बीज मिलेंगे। बीजों के अलावा, किट में बायोडिग्रेडेबल गमला, पॉटिंग मिक्स, कोकोपीट, जैविक खाद, मार्कर स्टिक और गार्डनिंग मैन्युअल होता है। उनके माइक्रोग्रीन किट में चार तरह के बीज, ग्रो ट्रे, पॉटिंग मिक्स, स्प्रे बोतल, मार्कर स्टिक के साथ, बीज लगाने के दिशा-निर्देश भी हैं। 

संगीता से गार्डनिंग किट की जानकारी लेने या खरीदने के लिए, आप उन्हें 9323392546 पर व्हाट्सऐप मैसेज कर सकते हैं या फिर इंस्टाग्राम पर भी संपर्क कर सकते हैं। 

5. The Organic Farm:

organic farm

चेन्नई में रहने वाले अल्लादी महादेवन ने 1995 में ‘The Organic Farm‘ शुरू किया था, ताकि वह लोगों को शुद्ध और रसायन मुक्त खाना खिला सकें। लेकिन पिछले साल, लॉकडाउन के दौरान बहुत से लोगों ने उनसे Gardening Kit के लिए भी संपर्क किया। इसलिए, उन्होंने एक खास तरह का गार्डनिंग किट तैयार किया। 

उन्होंने बताया कि उन्होंने ‘जीरो प्लास्टिक कॉन्सेप्ट’ के साथ अपना किट तैयार किया है। इस किट में पाँच तरह के बीजों के अलावा, केले के तने से बने ग्रो बैग, और पॉटिंग मिक्स हैं। वह कहते हैं कि यह एक सम्पूर्ण Gardening Kit है। इस किट को खरीदने के बाद ग्राहकों को किसी और चीज के लिए, इधर-उधर भटकने की जरूरत नहीं पड़ेगी। उनके ग्रो बैग को बार-बार इस्तेमाल किया जा सकता है और बीजों की मात्रा भी ज्यादा रहती है, ताकि ग्राहक कम से कम तीन बार पौधे उगा सके। उनके गार्डनिंग किट खरीदने के लिए यहाँ क्लिक करें। 

तो देर किस बात की! आज ही ऑनलाइन ऑर्डर करें अपने पसंद के Gardening Kit और शुरू करें अपना गार्डनिंग का सफर। आप अपने बच्चों के लिए भी Gardening Kit खरीद सकते हैं, ताकि उन्हें बचपन से ही प्रकृति से जोड़ा जा सके। 

हैपी गार्डनिंग। 

संपादन- जी एन झा

यह भी पढ़ें: आम के आम, गुठलियों के दाम! सिर्फ 6 स्टेप्स में गुठली से उगाएं आम का पेड़

यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें।

Advertisement
close-icon
_tbi-social-media__share-icon