ऑफर सिर्फ पाठकों के लिए: पाएं रू. 200 की अतिरिक्त छूट ' द बेटर होम ' पावरफुल नेचुरल क्लीनर्स पे।अभी खरीदें
X
छत पर हैं अंजीर, रुद्राक्ष, अजवाइन, इंसुलिन समेत 1250 पेड़-पौधे, AC की नहीं पड़ती ज़रूरत

छत पर हैं अंजीर, रुद्राक्ष, अजवाइन, इंसुलिन समेत 1250 पेड़-पौधे, AC की नहीं पड़ती ज़रूरत

पटियाला, पंजाब के दलीप कुमार ने अपने घर की छत पर तरह-तरह के प्रजाति के लगभग 1250 पेड़-पौधे लगाए हैं।

पंजाब में पटियाला के रहने वाले 52 वर्षीय दलीप कुमार को बचपन से ही गार्डनिंग का शौक रहा है। पेड़-पौधों के प्रति उनका लगाव इतना ज्यादा था कि उन्होंने अपना करियर भी इसी क्षेत्र में बनाया। उन्होंने एमएससी हॉर्टिकल्चर की पढ़ाई की और वर्तमान में, वह पटियाला नगर निगम के हॉर्टिकल्चर डिपार्टमेंट में बतौर ‘एग्जीक्यूटिव इंजीनियर’ नियुक्त हैं। 

दलीप कहते हैं कि पेशेवर तौर पर उनका काम शहर के पार्क, चौक और बगीचों आदि के रखरखाव का है। इसके साथ ही, उन्होंने अपने घर की छत को भी बहुत ही सुंदर गार्डन का रूप दिया हुआ है। 

उनकी छत पर आपको तरह-तरह की प्रजाति के लगभग 1250 पेड़-पौधे मिलेंगे। दलीप कहते हैं कि इतने खूबसूरत गार्डन को बनाने में, उन्हें कई वर्षों का समय लगा है। वह सजावटी पौधों, सक्युलेंट, बेल से लेकर फल, फूल, जड़ी-बूटी और सब्जियां भी अपनी छत पर उगाते हैं। 

उनका कहना है कि उन्हें कोई रिकॉर्ड नहीं बनाना है कि उनके गार्डन में इतने किलो फल आए या इतनी ज्यादा सब्जियां उगाई गई। वह बस हर तरह के पेड़-पौधे लगाने का शौक रखते हैं और जी-जान से उनकी देखभाल करते हैं। उन्होंने अपने गार्डन को इस तरह तैयार किया है कि उनके घर का तापमान बाहर के तापमान से कम ही रहता है। 

द बेटर इंडिया से बात करते हुए दलीप ने अपने गार्डनिंग के सफर के बारे में बताया, “गार्डनिंग सिर्फ हरियाली नहीं बढ़ाती है बल्कि यह खुद को शांत और स्थिर रखने का भी एक अच्छा माध्यम है। अपनी छत पर कुछ पेड़-पौधे लगाइये और इनके साथ समय व्यतीत कीजिए। मैं हर दिन अपने गार्डन में बैठकर योग करता हूँ। यकीन मानिए, मुझ पर इसका काफी सकारात्मक प्रभाव पड़ता है।” 

Punjab Man Growing Plants
उनके गार्डन की एक झलक

पौधे लगाने के लिए नहीं करते मिट्टी का इस्तेमाल: 

दलीप बताते हैं कि बात अगर पेड़-पौधों की करें, तो ऑर्नामेंटल (सजावटी) पौधों में उनके यहाँ क्रोटोन, ड्रसीना रेड, ड्रसीना केदारनाथ, ज़िज़ी प्लांट, ब्लैक रबर प्लांट, हाइब्रिड कनेर, चांदनी, एरेका पाम, लिपस्टिक प्लांट, स्पाइडर प्लांट आदि हैं। इनके आलावा, उनके गार्डन में आपको रंगून, चमेली, मिनिएचर रोज जैसे फूलों की बेल भी दिख जायेंगी। 

फलों की बात की जाए, तो उन्होंने आम, चीकू, नींबू, बारहमासी नींबू, नारंगी, अंजीर, कीनू, अंगूर के पौधे लगाए हैं। इनके अलावा, वह मौसमी सब्जियां और तुलसी, हींग, लेमन ग्रास, स्टीविया, कपूर, रुद्राक्ष, इन्सुलिन प्लांट, अजवाइन, ओलिविया, एलोवेरा जैसे पेड़-पौधे भी उगा रहे हैं। 

उनकी गार्डनिंग की सबसे दिलचस्प बात यह है कि पौधों को लगाने के लिए, वह मिट्टी का इस्तेमाल नहीं करते हैं। उनके सभी पेड़-पौधे गीले कचरे से बनी खाद में पनप रहे हैं। वह अपने घर में ही सभी तरह के जैविक कचरे से खाद बनाते हैं। इसके अलावा, शहर के नगर निगम द्वारा इकट्ठे किए गए गीले और जैविक कचरे से भी खाद बनाई जाती है। दलीप बताते हैं कि निगम का हॉर्टिकल्चर डिपार्टमेंट इस खाद को लोगों को बेचता है, तो वह भी अपने गार्डन के लिए यह खाद खरीद लेते हैं। क्योंकि जैविक कचरे से बनी खाद, गार्डनिंग के लिए काफी फायदेमंद मानी जाती है।  

Punjab Man Growing Plants
खुद बनाते हैं खाद

साथ ही, खाद और कोकोपीट आदि का इस्तेमाल करने के कारण, छत पर वजन भी नहीं बढ़ता है। वह आगे कहते हैं कि अपने गार्डन की देखभाल का लगभग सभी काम वह खुद करते हैं। उन्होंने अपने बगीचे को इस तरह से तैयार किया है कि अगर कोई रात को गार्डन में सोना चाहे, तो सो भी सकता है। उन्होंने गार्डन के साथ ही एक केबिन बनवाया है, जिसमें गर्मी को नीचे जाने से रोकने के लिए ‘इंसुलेटर शीट’ लगाई हुई है। उन्होंने बताया, “मैंने गार्डन में ‘फॉगिंग सिस्टम’ भी लगवाया है। इसे दिन में एक बार चलाने से सारा गार्डन ठंडा हो जाता है और पेड़-पौधों पर ज्यादा गर्मी का असर नहीं पड़ता है।”

छत पर गार्डन होने के कारण, उनके घर के अंदर का तापमान एकदम कम रहता है। उनका कहना है कि उन्होंने आज तक घर में एसी (AC) नहीं लगवाया और इसकी वजह है, उनका गार्डन। अपने टेरेस गार्डन से उन्हें न सिर्फ ताजा फल-सब्जियां मिलती हैं बल्कि उनका रहन-सहन भी प्रकृति के अनुकूल हो गया है। इसलिए, वह कहते हैं कि अगर आप खुद को प्रकृति के करीब ले जाना चाहते हैं, तो अपनी छत पर गार्डनिंग करें। 

गार्डनिंग टिप्स: 

वह कहते हैं कि गार्डनिंग के लिए सबसे पहले, आप में दृढ निश्चय और धैर्य होना बहुत जरूरी है। इसके बाद, आप अपने घर में उपलब्ध जगह पर गौर करें। वहाँ आप किस किस्म के पेड़-पौधे लगा सकते है और उस जगह कितनी धूप आती है, इन बातों का ध्यान रखें। आप कुछ फूलों और आसान सब्जियों से, गार्डनिंग की शुरुआत कर सकते हैं। पहले ऐसे पौधे लगाएं, जिन्हें कम देखभाल और पानी की जरूरत होती है। 

Punjab Man Growing Plants
लगाए हैं फल-फूल, सब्जियां

  • पेड़-पौधे लगाने के लिए, बारिश का मौसम सबसे उपयुक्त रहता है। इसलिए, आप पहले से ही तैयारी कर लें कि आपको कौन से और कितने पेड़-पौधे लगाने हैं। 
  • छत को लीकेज से बचाने के लिए, आप छत पर वॉटरप्रूफ पेंट करा सकते हैं या पॉलिथीन भी बिछा सकते हैं। 
  • गार्डनिंग के लिए, घर में उपलब्ध चीजों का ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल करें। जैसे- गीले कचरे से खाद बना लें, रसोई में उपलब्ध धनिया, लाल सूखी मिर्च के दानों से आप पौधे लगा सकते हैं। सब्जियों के बीजों से भी आप नए पौधे लगा सकते हैं। घर में पड़े पुराने कांच-प्लास्टिक के डिब्बों, बोतलों, टब, पुरानी बाल्टी को प्लांटर की तरह इस्तेमाल करें। 
  • शुरुआत में आप मिट्टी में खाद मिलाकर ‘पॉटिंग मिक्स’ तैयार करें। लेकिन इसमें भी आप कम से कम मिट्टी की मात्रा रख सकते हैं और खाद और कोकोपीट ज्यादा मात्रा में रख सकते हैं ताकि छत पर वजन न बढ़े।
  • घर पर खाद बनाना बहुत ही आसान है। इससे आपके घर का जैविक कचरा भी बाहर नहीं जाता है।
  • गर्मियों में पौधों के लिए पानी का ख़ास ध्यान रखें। सुबह-शाम वक्त पर पौधों में पानी दें और कोशिश करें कि ‘शेडनेट’ लगवा लें। ताकि बहुत ज्यादा गर्मी होने पर, सूरज की धूप आपके पेड़-पौधों को जलाए नहीं। 

अंत में वह बस यही कहते हैं कि गार्डनिंग करते हुए, आप बहुत कुछ सीखते हैं। आपको कई नये पौधों तथा तकनीकों के बारे में पता चलता है। इसलिए, हर किसी को दो-चार ही सही, लेकिन पेड़-पौधे जरूर लगाने चाहिए। 

हैपी गार्डनिंग

संपादन- जी एन झा

यह भी पढ़ें: दिल्ली: बेकार पड़े डिब्बों में उगाएं 40+ फल-सब्जियां, पूरे परिवार के लिए है काफी

यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें।

निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है.
Let’s be friends :)
सब्सक्राइब करिए और पाइए ये मुफ्त उपहार
  • देश भर से जुड़ी अच्छी ख़बरें सीधे आपके ईमेल में
  • देश में हो रहे अच्छे बदलावों की खबर सबसे पहले आप तक पहुंचेगी
  • जुड़िए उन हज़ारों भारतीयों से, जो रख रहे हैं बदलाव की नींव