in ,

तीन दिनों से लगातार केरल में बाढ़ पीड़ितों की सेवा में लगे हैं ये डॉक्टर पति-पत्नी!

स्त्रोत: मातृभूमि

केरल में बाढ़ पीड़ितों के लिए आज हर कोई आगे बढ़कर मदद कर रहा है। अधिकारी, नागरिक और यहां तक कि देश के बाहर से भी मदद मिल रही है।

हम लगातार ऐसे बहुत से लोगों के बारे में लिख रहे हैं, जिन्होंने इस आपदा की घड़ी में निःस्वार्थ मदद कर मानवता का परिचय दिया है।

यहां पढ़ें: #केरल_बाढ़: आपदा के बीच भी मानवता और हौंसलों की मिसाल हैं ये 11 सच्ची कहानियां!

ऐसे ही नि:स्वार्थ हीरो हैं अलुवा से ताल्लुक रखने वाले डॉ नसीमा और उनके पति डॉ नजीब। जब बाढ़ पीड़ितों के लिए अलुवा के यूसी कॉलेज में राहत-शिविर लगाया गया तो बिना किसी स्वार्थ के इन दोनों पति-पत्नी ने लोगों की मुफ्त में सेवा करने का फैसला किया।

पिछले तीन दिनों से खाने व पीने के लिए पानी के बिना भी वे लगातार लोगों का इलाज व देख-रेख कर रहे हैं। यहां तक कि वे बारी-बारी से केवल 3 घंटे के लिए सोते हैं।

इस राहत-शिविर में सैकड़ों लोग रह रहे हैं, जिन्होंने इस भयानक आपदा में अपना सब-कुछ खो दिया। लेकिन फिर भी डॉ. नजीब और डॉ. नसीमा जैसे लोग केरल में उम्मीद की किरण बने हुए हैं।

डॉ. नजीब बिनानीपुरम में ईएसआई डिस्पेंसरी में काम करते हैं और डॉ. नसीमा अंगमल्य के तालुका अस्पताल में काम करती हैं।

हम सलाम करते हैं इन लोगों को, जिनके हिम्मत और हौंसले के चलते केरल आज भी इस मुश्किल समय में अपना सिर उठाकर खड़ा है।

संपादन – मानबी कटोच


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर भेज सकते हैं।

 

 

शेयर करे

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है. निशा की कविताएँ आप https://kahakasha.blogspot.com/ पर पढ़ सकते हैं!

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

मुंबई: 5 साल की लम्बी लड़ाई के बाद प्रिंसिपल ने दिलवाई यौन उत्पीड़न के दोषी शिक्षक को सजा!

केरल: घर की छत से गर्भवती महिला को बचाने वाले नेवी पायलट को मिला अनोखे अंदाज में ‘थैंक यू’!