in

केरल: भारतीय नौसेना की सामुदायिक रसोई से मिल रहा है हज़ारों बाढ़-पीड़ितों को खाना!

स्त्रोत: मनोरमा

केरल में बाढ़ के दौरान बचाव कार्यों के साथ-साथ भारतीय नौसेना राहत शिविर में रह रहे बाढ़ पीड़ितों के लिए खाना भी बना रही है। लेफ्टिनेंट कमांडेंट ओ. जयप्रकाश की देख-रेख में एक 15 सदस्यी नेवी टीम ने इस काम के लिए एक ‘सामुदायिक रसोई’ की शुरुआत की है।

यह रसोई कोचिन यूनिवर्सिटी ऑफ़ साइंस एंड टेक्नोलॉजी (सीयूएसएटी) के स्कूल ऑफ़ इंजीनियरिंग की सिविल लैब में चलायी जा रही है। यहां से शिविरों में रहने वाले लोगों के लिए खाना भिजवाया जा रहा है।

शुक्रवार से शुरू हुई यह रसोई, तब तक खुली रहेगी, जब तक कि राहत-शिविर खुले हुए हैं। इस रसोई से अब तक लगभग 7, 000 लोगों को खाना परोसा जा रहा है। कमांडेंट जयप्रकाश का कहना है कि इस रसोई से आने वाले दिनों में 11,000 लोगों का खाना बनेगा।


हालांकि इस रसोई को पहले यूसी कॉलेज में खोला जाना था। लेकिन कलामस्सेरी-अलुवा रोड के भी डूब जाने के बाद, इसे सीयूएसएटी में खोला गया है।

नौसेना के जवानों द्वारा बनाये गए खाने को शिक्षकों और विद्यार्थियों द्वारा लोगों तक पहुंचाया जा रहा है। नौसेना न केवल खाना पकाने बल्कि अन्य सामान जैसे चावल, सब्जियां आदि की भी आपूर्ति कर रही है।

संपादन – मानबी कटोच


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर भेज सकते हैं।

 

शेयर करे

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है. निशा की कविताएँ आप https://kahakasha.blogspot.com/ पर पढ़ सकते हैं!

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

#केरल_बाढ़: आपदा के बीच भी मानवता और हौंसलों की मिसाल हैं ये 11 सच्ची कहानियां!

मुंबई: 5 साल की लम्बी लड़ाई के बाद प्रिंसिपल ने दिलवाई यौन उत्पीड़न के दोषी शिक्षक को सजा!