Search Icon
Nav Arrow

‘द ग्रोइंग जिराफ़’ एक माँ की, बच्चों के लिए हेल्दी फूड बनाने की सक्सेस स्टोरी

मुंबई की रुक्मिणी ने 2018 में अपने फ़ूड स्टार्टअप ‘द ग्रोइंग जिराफ़’ की शुरुआत बच्चों के पोषण को ध्यान में रख कर की थी। आज, उनके बनाये रागी, पीनट बटर जैसे सुपर फूड से बनी कुकीज़ और बार, बच्चों के साथ-साथ, बड़ो की भी पसंद बन चुके हैं।

हर माँ चाहती है कि, उसका बच्चा स्वस्थ खाना खाए। लेकिन, जब बात नाश्ते की आती है, तो चिप्स और बिस्किट ही याद आते हैं। ऐसी ही फ़िक्र के साथ मुंबई की रुक्मिणी बनर्जी (37) ने healthy cookies और न्यूट्रिशन बार बनाना सीखा। कोलकाता में पली-बढ़ी और पेशे से वकील, रुक्मिणी ने बाद में इसे अपना व्यवसाय बना लिया। ‘द ग्रोइंग जिराफ़’ (TGG) नाम का यह स्टार्टअप, आज बच्चों के साथ-साथ बड़ो की भी पसंद बन चुका है।   

रुक्मिणी ने अपने स्टार्टअप की शुरुआत साल 2018 में की थी।  द बेटर इंडिया से बात करते हुए, उन्होंने इस व्यवसाय को अपने जीवन का एक इत्तेफाक बताया। रुक्मिणी ने पुणे से अपनी लॉ की डिग्री हासिल की थी। इसके बाद, उन्होंने कोलकाता वापस जाने और अपने परिवार के साथ समय बिताने का फैसला किया। उन्होंने कुछ दिनों तक एक लॉ फर्म के साथ काम किया और बाद में, यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन (UCL) से बैंकिंग और फाइनेंस में मास्टर डिग्री हासिल करने के लिए लंदन चली गयी। वह कहती हैं, ” कोर्स पूरा करने के बाद, मैं भारत आकर मुंबई में बस गई।”

स्टार्टअप के पीछे की सोच  

रुक्मिणी लेन-देन संबंधी कानून के क्षेत्र में काम करना चाहती थीं। इस दौरान, उन्होंने मुंबई में एक बुटीक लॉ फर्म में काम करना शुरू किया और करीबन 10 साल तक कई और लॉ फर्म्स में भी काम किया। लेकिन, माँ बनने के बाद साल 2017 में अपनी मैटरनिटी ब्रेक के दौरान, उन्हें बच्चों के लिए स्वस्थ खाना बनाने का ख्याल आया। 

माँ बनने के बाद, अपने पहले वाले काम पर लौटने का विचार रुक्मिणी के लिए काफी कठिन था।

यह पूछे जाने पर कि उन्होंने बच्चों के लिए, स्वस्थ स्नैक्स बनाने के लिए यह ब्रांड क्यों शुरू किया, इस पर वह कहती हैं, “मैं अक्सर अपने आसपास के लोगों को बीमार होते हुए देखती रहती हूँ। मुझे ऐसा याद नहीं है कि बचपन में मैं कभी ज्यादा बीमार पड़ती थी। ऐसा सिर्फ इसलिए होता था, क्योंकि मैं स्वस्थ खाना खाती थी। इसलिए, मैं अपने बेटे आरव को भी सही पोषक तत्वों से भरपूर स्वस्थ आहार ही देती हूँ, जो उसे अच्छे से बढ़ने और इम्यूनिटी बनाये रखने में मदद करता है।”

अपने बेटे को स्वस्थ स्नैक्स देने की चाह में, उन्होंने अपने आसपास देखा कि ज्यादातर बच्चे, पोषण रहित खाना ज्यादा खाते हैं, जिसकी वजह से वे बीमार भी पड़ते है। बाज़ार में मिलने वाले ज्यादातर बिस्किट, अन्य खाद्य पदार्थ और स्नैक्स में चीनी और मैदे का इस्तेमाल अधिक मात्रा मे किया जाता है। ये खाद्य उत्पाद हेल्दी होने का दावा तो करते हैं, लेकिन इनके दावे तथा वास्तविकता में काफी अंतर होता है। वह इनमें से किसी भी खाद्य उत्पाद को अपने बच्चे को नहीं देना चाहती थीं। बच्चों को ऐसे स्नैक्स की जगह, कुछ अच्छा देने की चाह में उन्होंने The Growing Giraffe की शुरूआत की।  

healthy cookies
रागी कुकीज़

अपने वेंचर के बारे में बताते हुए वह कहती हैं, “एक माँ होने के नाते, हम सभी चाहती हैं कि हमारे बच्चें लंबे हों और ऐसा सोचते हुए, मेरे दिमाग में सबसे पहले एक जिराफ की छवि सामने आई।

व्यवसाय में चुनौतियां

बच्चों को पौष्टिक स्नैक्स और भोजन उपलब्ध कराने के लिए, उन्होंने यह होम किचन बिज़नेस शुरू किया। पहले उन्होंने पोषक स्नैक्स और छोटे-छोटे मील का व्यवसाय शुरू किया। वह बताती हैं “शुरुआत में हमने सोचा था कि बच्चों के माता-पिता इन्हें ऑनलाइन ऑर्डर करेंगे और हम उन तक इन्हें पहुंचाएंगे। इसकी शुरुआत मैंने बीटरूट इडली, सब्जियों से बनाई गयी प्यूरी और अन्य हेल्दी मील्स को अपने मेन्यू में शामिल करके, किया था। लेकिन, बाद में हमें पता चला कि इन स्नैक्स की मांग, बाजार में काफी कम है। फिर, इन्हें हमने Zomato और Swiggy पर भी बेचा। हालांकि, इन ऑनलाइन प्लेटफॉर्म से हमे ऑर्डर्स तो मिल रहे थे, लेकिन मैं संतुष्ट नहीं थी। मुझे जल्दी ही समझ आ गया कि मुझे कुछ अलग करना चाहिए।”  

‘द ग्रोइंग जिराफ़’ की शुरुआत 

healthy cookies

स्वस्थ खाद्य उत्पादों को ध्यान मे रखते हुए, उन्होंने healthy cookies बनाना सीखा। जिसके लिए उन्होंने एक कोर्स भी किया। वह कहती हैं, “ये खाद्य उत्पाद स्वस्थ होने के साथ, स्वाद मे भी इतने अच्छे थे कि मैं उन्हें खाने से खुद को भी रोक नहीं पाती थी।”

फिर क्या था, मात्र दो लाख रुपये के शुरुआती निवेश के साथ, उन्होंने ‘द ग्रोइंग जिराफ़’ को शुरू कर दिया। वह कहती हैं, “इसमें ज्यादातर लागत कंपनी के लोगो डिज़ाइन करवाने और वेबसाइट बनवाने में आई।”

‘TGG’ की वन मैन आर्मी ‘रुक्मिणी’ ने अपने इस व्यवसाय को तक़रीबन एक साल दिया और 2019 में उन्होंने यह पाया कि ग्राहक उनके खाद्य उत्पाद की तरफ आकर्षित हो रहे हैं। उन्हें दोस्तों से फीडबैक भी मिलते रहते थे, जिससे उन्हें बहुत मदद मिली। वह कहती हैं कि किसी ने उन्हें बताया कि कुकीज़ (healthy cookies) को और सॉफ्ट करने की जरूरत है, तो कुछ ने मिठास के लिए गुड़ या शहद का उपयोग करने की सलाह दी।  

सोशल मीडिया का रोल 

आज के दौर में सोशल मीडिया, मार्केटिंग का सबसे अच्छा तरीका है। बिना किसी खर्च के अपने खाद्य उत्पाद को मार्केट में ग्राहकों तक पहुँचाने के लिए, रुक्मिणी ने भी सोशल मीडिया की मदद ली। इंस्टाग्राम में उनके ग्राहक, अपना फीडबैक और सुझाव आसानी से देते हैं, जिससे उन्हें अपने व्यवसाय को आगे बढ़ाने में काफी मदद मिलती है। रुक्मिणी बताती हैं, “इसके साथ ही, मैंने शहर में कुछ एग्ज़िबिशन/ पॉप-अप में भी भाग लिया। जिससे ब्रांड को अधिक पहचान मिलने में मदद मिली।” 

उन्होंने ‘द ग्रोइंग जिराफ’ ब्रांड नाम से एक बाजार में स्टॉल लगाया था, वहीं पर उन्हें एक पीआर प्रोफेशनल ने एक ‘बूट-कैंप’ ज्वाइन करने का प्रस्ताव दिया। रुक्मिणी का कहना हैं, “उस बूट कैंप से मुझे काफी कुछ सिखने को मिला। वह मेरे स्टार्टअप का शुरुआती दौर था, मुझे काफी चीजों पर काम करना था। चाहे वह प्रोडक्ट की पैकेजिंग हो या कुछ ऐसे बदलाव, जिससे ब्रांड व्यावसायिक तौर पर सफल हो सके। उनके व्यावसायिक सफ़र के शुरुआती दौर में मिलने वाले फीडबैक के कारण, वह अपनी गलतियों में सुधार कर जल्द आगे बढ़ने में सफल रहीं।

वह कहती हैं, “मुझे बच्चों की मम्मियों से जो फीडबैक मिलते थे, उनके कारण ब्रांड में सुधार करने और आगे बढ़ने में मुझे काफी मदद मिली।

इन सभी सुझावो और प्रयोगों के बाद, TGG को 24 दिसंबर 2020 में दो तरह के healthy cookies और दो हेल्थ-बार के साथ, फिर से लॉन्च किया गया। पिछली तिमाही में, TGG ने अमेज़ॉन पर बिक्री से करीब 1.35 लाख रुपये प्रति महीने राजस्व कमाया। हर महीने खाद्य उत्पादों के लगभग 150 यूनिट भेजे गये।

ग्राहकों की पसंद 

TGG के बारे मे बात करते हुए शौगर मर्चेंट (ग्राहक) बताती हैं, “मैं TGG की एक नियमित ग्राहक हूँ। मेरे पांच साल के बच्चे को ये healthy cookies काफी पसंद है। ये स्वास्थ्य के लिए अच्छे और फाइबर से भरपूर होने के साथ ही बेहद पौष्टिक भी हैं। मैं हमेशा इसे अपने पर्स में रखती हूँ। सच बोलूं, तो मेरे बेटे के साथ, मुझे भी इसका स्वाद बहुत पसंद है। ये बाजार में उपलब्ध चीनी से भरे स्नैक्स की तुलना में एक बहुत अच्छा विकल्प है।”

TGG के ग्राहकों में शिल्पा शेट्टी कुंद्रा, समीरा रेड्डी, सोहा अली खान, सीमा खान और मिनी माथुर जैसी बॉलीवुड की कई सेलेब्रिटी मॉम्स भी शामिल हैं।

रुक्मिणी बताती हैं, लॉकडाउन में उन्हें बहुत मैसेज आते थे, खास कर बच्चों की मम्मियों के। जो बताती थीं कि वे TGG स्नैक्स को खाना कितना याद कर रही हैं। रुक्मिणी इसे अपनी सबसे बड़ी उपलब्धि मानती हैं।

रागी कुकीज़ इनकी बेस्टसेलर healthy cookies हैं और कोको पीनट बटर बार की मांग भी काफी बढ़ रही है। कोको-बार बनाने के लिए, वह केरल से कोको मंगवाती हैं, जिसमें एंटीऑक्सिडेंट होते हैं। रुक्मिणी कहती हैं, “रागी कुकीज़ आठ महीने और उससे अधिक उम्र के बच्चों के लिए हैं। वहीं अन्य स्नैक्स, जिनमें शहद और नट्स शामिल हैं, उन्हें दो साल से बड़े बच्चे बहुत चाव से खा सकते हैं।”

‘The Growing Giraffe’ की इन healthy cookies को अपने या अपने बच्चों के लिए ऑर्डर करने के लिए, आप इनकी वेबसाइट या अमेज़ॉन पर लॉग-ऑन कर सकते हैं।

मूल लेख : विद्या राजा

संपादन – प्रीति महावर

यह भी पढ़े: जॉब गई तो माँ के साथ शुरू किया ‘Bengali Love Cafe’, दो लाख है हर महीने की कमाई

यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें।

_tbi-social-media__share-icon