in

मिलिए 102 साल के स्वतंत्रता सेनानी से, जिन्होंने देश के लिए अपना सारा जीवन अर्पित कर दिया!

प्रतीकात्मक तस्वीर

त्तर-प्रदेश के लखनऊ में रिवर बैंक कॉलोनी के सेवा सदन में रहने वाले शिवनारायण लाल गुप्त 102 साल के हो चुके हैं। शिवनारायण एक स्वतंत्रता सेनानी रह चुके हैं। उन्होंने अपना पूरा जीवन देश के लिए दे दिया।

मूल रूप से वे बहराइच से ताल्लुक रखते हैं। 14 साल की उम्र में उन्होंने आजादी के आंदोलन में भाग लिया और जेल भी गए। यहां तक कि उन्होंने कभी शादी नहीं की।

शिव नारायण लाल/ नवभारत टाइम्स

शिवनारायण बताते हैं कि साल 1930 में वे राष्ट्रीय आंदोलन में शामिल हुए। उन्हें सत्याग्रह का जिम्मा मिला। हड़ताल से बौखलाए अंग्रेज अफसरों ने उन्हें जेल में डाल दिया। शिव नारायण के पिता एक किसान थे और जब वे उनसे जेल में मिलने आये तो शिव नारायण ने उनसे आजीवन अविवाहित रहकर देश की सेवा करने की बात कही।

Promotion

साल 1942 में अंग्रेजो भारत छोड़ो आंदोलन में भी वे जेल गए। बाद में शिव नारायण कांग्रेस में शामिल हो गए। इसके बाद उन्होंने होम्योपैथिक और आयुर्वेद पद्धति का इलाज सीखा और लोगों को नि:शुल्क सेवा देने लगे।

आज़ादी के बाद उन्होंने अपनी पूरी सम्पत्ति आर्य समाज को दान दे दी। स्वतंत्रता सेनानियों के लिए मिलने वाली पेंशन भी उन्होंने दान कर दी। मौका मिलने पर शिव नारायण बहराइच में अपने गांव भी जाते हैं। बहराइच के हुजूरपुर ब्लॉक में स्वतंत्रता सेनानियों के शिलालेख पर उनका नाम भी अंकित है।

अभी वे शारीरिक तौर पर असमर्थ हैं, लेकिन देश के लिए उतना ही लगाव है, जितना आजादी के आंदोलन के वक्त था।

संपादन – मानबी कटोच 


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर भेज सकते हैं।

शेयर करे

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है. निशा की कविताएँ आप https://kahakasha.blogspot.com/ पर पढ़ सकते हैं!

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

तबेले में रहने से लेकर भारत के लिए मेडल जीतने का सफर, खुशबीर कौर एक प्रेरणा हैं!

अपने पिता के अंतिम संस्कार को छोड़ किया भारत का प्रतिनिधित्व, जूनियर हॉकी वर्ल्ड कप में भारत को बनाया चैंपियन!