ऑफर सिर्फ पाठकों के लिए: पाएं रू. 200 की अतिरिक्त छूट ' द बेटर होम ' पावरफुल नेचुरल क्लीनर्स पे।अभी खरीदें
X
AIR 5 हासिल करने वाली IAS सृष्टि जयंत देशमुख से जानिए, कैसे करें UPSC प्रीलिम्स की तैयारी

AIR 5 हासिल करने वाली IAS सृष्टि जयंत देशमुख से जानिए, कैसे करें UPSC प्रीलिम्स की तैयारी

UPSC प्रीलिम्स परीक्षा देने वाले उम्मीदवारों की बेहतर तैयारी के लिए, कुछ जरूरी सुझाव और किताबों की सूची साझा कर रही हैं, 2018 की UPSC की परीक्षा में पाँचवीं रैंक प्राप्त करने वाली, IAS सृष्टि जयंत देशमुख।

यूपीएससी की प्रारंभिक परीक्षा (UPSC Prelims 2021) की तारीख आ चुकी है। इस परीक्षा को पास करना, बहुत से युवाओं का सपना होता है। जो इस सपने को पूरा कर लेते हैं, वे वाकई सबके लिए एक मिसाल बन जाते हैं। कुछ ऐसी ही कहानी है भोपाल की रहने वाली, IAS सृष्टि जयंत देशमुख की। उन्होंने साल 2018 में यूपीएससी की सिविल सर्विस परीक्षा पास की और पूरे भारत में पांचवीं रैंक हासिल की। अपनी स्कूल की पढ़ाई पूरी करने के बाद, उन्होंने भोपाल में लक्ष्मी नारायण इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी से केमिकल इंजीनियरिंग की थी। 

आज द बेटर इंडिया के माध्यम से सृष्टि जयंत देशमुख, यूपीएससी प्रारंभिक परीक्षा (UPSC Prelims) के भावी प्रतियोगियों के लिए, पढ़ाई के कुछ टिप्स साझा कर रही हैं। जिन्हें, उन्होंने खुद इस परीक्षा की तैयारी करते वक्त अपनाया था। साथ ही, वह कुछ किताबों के बारे में भी बता रही हैं, जिन्हें पढ़ कर छात्र इस परीक्षा के लिए, अच्छी तैयारी कर सकते हैं। 

प्रारंभिक परीक्षा के लिए कुछ सुझाव

अपनी आदतों पर करें गौर: 

इस बात का ध्यान रखें कि आप हर दिन, विभिन्न गतिविधियों में कितना समय बिताते हैं? सृष्टि कहतीं हैं कि दिन में वह अलग-अलग गतिविधियों में कितना समय बिताती थीं, इसका हिसाब रखने के लिए उन्होंने एक मोबाइल एप का इस्तेमाल किया। इससे उन बिंदुओं को पहचानने में मदद मिली, जिन्हें बदलने की जरूरत थी और उन्होंने उन बिन्दुओं पर काम किया। वह कहती हैं कि इससे उम्मीदवारों को एक शेड्यूल (कार्यक्रम) बनाने और ज्यादा से ज्यादा समय बचाने में मदद मिलेगी।

अपने आप को ज्यादा थकाएं:

उन गतिविधियों में न पड़ें, जो आपको शारीरिक और मानसिक रूप से थका देती हैं। ऐसा करने से, आपका पढ़ाई करने का समय कम हो जाएगा। वह कहती हैं कि थके हुए शरीर और मन से, आपकी कार्य करने की क्षमता कम हो जाती है। हालांकि ऐसी चीजें करना जरूरी है, जो आपके दिमाग और शरीर को आराम दें। लेकिन इसके लिए आप ऐसी गतिविधियां चुनें, जो थकान भरी न हों। 

नींव को बनाएं मजबूत:

सृष्टि कहती हैं, “हमेशा एनसीईआरटी (NCERT) की मानक टेक्स्ट-बुक्स से तैयारी शुरू करें। यह सुनिश्चित करें कि आपके पास तैयारी करते समय सीमित लेकिन, अच्छे और जरूरी संसाधन उपलब्ध हों।” उन्होंने एनसीईआरटी की किताबों से अपने मूलभूत सिद्धांतों को मजबूत किया और इनके साथ-साथ अन्य साधनों से भी पढ़ाई की। एनसीईआरटी की किताबों से प्रारंभिक परीक्षा में, सीधे प्रश्न आ भी सकते हैं और नहीं भी आ सकते हैं। लेकिन दूसरी किताबों के कंटेंट को समझने के लिए, आपका एनसीईआरटी की किताबों को अच्छे से समझना जरूरी है। 

समय की रणनीति बनाएं:

UPSC Prelims 2021
आईएएस सृष्टि जयंत देशमुख

27 जून को होने वाली UPSC Prelims 2021 के लिए, उम्मीदवारों के पास तैयारी और रिवीजन के लिए लगभग तीन महीने हैं। वह कहती हैं कि हर बीतते साल के साथ, प्रारंभिक परीक्षा के बारे में यह अंदाज़ लगाना मुश्किल हो रहा है कि इस बार, किस तरह के सवाल पूछे जा सकते हैं। ऐसे वक्त पर छात्रों को मुख्य परीक्षा के बारे में न सोचकर सिर्फ और सिर्फ प्रारंभिक परीक्षा पर ध्यान देना चाहिए। हालांकि, पढ़ने और रिवीजन करने पर ध्यान केंद्रित करना अच्छा है लेकिन, अब उम्मीदवारों को सक्रिय रूप से, मॉक टेस्ट भी हल करना शुरू कर देना चाहिये।

मात्र दो घंटों में, टेस्ट होगी एक साल की तैयारी:

वह कहती हैं, “छात्रों ने एक साल में जो भी तैयारी की है, उसका परीक्षण प्रारंभिक परीक्षा के मात्र दो घंटों में किया जायेगा।” इसलिए तैयारी के दौरान पढ़ी गयी चीजों को याद रखना और इन दो घंटों का अच्छे से प्रबंधन करना, सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है। जो केवल अभ्यास करने से ही संभव है। इसलिए हर हफ्ते, उम्मीदवारों को कम से कम एक मॉक पेपर हल करना चाहिए, जिसमें 100 प्रश्न हों।

पिछले एक साल के करंट अफेयर्स को दोहराएं:

अगर आप UPSC Prelims 2021 के लिए तैयारी करना चाहते हैं तो आप जनवरी 2020 तक के करंट अफेयर्स को दोहराना शुरू कर दें। हो सकता है कि आप कुछ महीनों के करंट अफेयर्स सेक्शन को पढ़ने से चूक गए हों लेकिन, इन्हें पढ़ने का यह सही समय है। साथ ही, प्रेस सूचना ब्यूरो (पीआईबी) और राज्यसभा टीवी जैसे ऑनलाइन संसाधनों को देखें और विज़न आईएएस, योजना और कुरुक्षेत्र जैसी पत्रिकाओं को भी पढ़ें।

एक स्पष्ट विश्लेषण रणनीति के साथ करें रिवीजन:

वैसे तो बहुत से छात्र मॉक टेस्ट देने में समय बिताते हैं लेकिन, उनमें से अधिकांश छात्र अपने उत्तरों का विश्लेषण नहीं करते हैं। सृष्टि कहती हैं, “अगर आप मॉक टेस्ट देने में दो घंटे का समय लगाते हैं तो मैं कहूँगी कि जवाबों का विश्लेषण करने में, उससे दुगुना समय लगाएं। विश्लेषण करते समय, आपको अपनी ताकत और कमजोरियों का अंदाजा होगा और फिर आपको उसी के अनुसार काम करना होगा।”

UPSC Prelims 2021

अपनी गलतियों को छांटे:

वह कहती हैं, “छात्रों को प्रारंभिक परीक्षा पास करने के लिए 110 से ज्यादा अंक लाने का लक्ष्य रखना चाहिए।” इसलिए, अगर आप अपनी गलतियों को समझेंगे तो आपको काफी मदद मिलेगी। उदाहरण के लिए अगर आपके 20 सवाल गलत हुए हैं तो देखिये कि ये सवाल क्यों गलत हुए हैं? क्या आपको कोई कॉन्सेप्ट (विषय का सन्दर्भ) समझ नहीं आया? यह समझने की कोशिश करें कि क्या आपने गलत अवधारणा लगाई या फिर आपने महज अनुमान लगाया या फिर आपने सवाल को गलत पढ़ा। वह कहती हैं जब आप अपनी गलतियों को समझेंगे तो तैयारी और अच्छे से कर पाएंगे। ज्ञान की इस कमी को पूरा करने से, आपको अच्छे अंक लाने में मदद मिलेगी। 

परीक्षा के हिसाब से ढालें अपने शरीर को:

UPSC Prelims 2021 के लिए कुछ ही महीने रह गए हैं। इसलिए, आपको अपने शरीर को भी उसी हिसाब से ढालना चाहिए। वह कहती हैं, “अगर आप अब तक, देर रात तक पढ़कर तैयारी कर रहे हैं तो आपको यह बदलना होगा ताकि आप परीक्षा अच्छे से दे पाएं।” मॉक टेस्ट भी उस समय के हिसाब से दें, जो समय आपको असल परीक्षा में मिलेगा और टेस्ट देते समय माहौल भी उसी हिसाब से बनाएं। 

किताबों की सूची:

जरूरी बात: नयी किताबें तभी शुरू करें, अगर आप अभी से अपनी तैयारी शुरू कर रहे हैं। लेकिन, अगर आप पहले से तैयारी कर रहे हैं तो अपनी पुरानी किताबों को ही पढ़ें। पढ़ाई के लिए अलग-अलग स्रोतों पर न जाएं बल्कि उन स्रोतों से ही पढ़ाई करें, जिनसे आप सहज हों। 

NCERT टेक्स्ट-बुक्स – अपनी मूल किताबों के रूप में कक्षा 6 से 12 की सामाजिक अध्ययन टेक्स्ट-बुक्स का उपयोग करें।

इतिहास

प्राचीन भारत – तमिलनाडु टेक्स्ट-बुक (कक्षा 11)

मध्यकालीन भारत – तमिलनाडु टेक्स्ट-बुक (कक्षा 11)

आधुनिक भारत – राजीव अहीर (स्पेक्ट्रम)

विश्व इतिहास – नॉर्मन लोवे (प्रथम और द्वितीय विश्व युद्ध)

संस्कृति नितिन सिंघानिया

भूगोल जीसी लेओंग

राजनीति लक्ष्मीकांत एम और डीडी बसु

अर्थशास्त्र रमेश सिंह

नीतिशास्त्र टर्म्स के अध्ययन के लिए लेक्सिकन और केस स्टडीज के लिए आर. राजगोपालन की किताब।

मूल लेख: विद्या राजा 

संपादन- जी एन झा

यह भी पढ़ें: बच्चों की कोचिंग क्लास से हैं नाखुश? जानिए कैसे इन अभिभावकों ने पाया रिफंड

यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें।

UPSC Prelims 2021 UPSC Prelims 2021 UPSC Prelims 2021 UPSC Prelims 2021

पूजा दास

पूजा दास पिछले दस वर्षों से मीडिया से जुड़ी हैं। स्वास्थ्य और फैशन से जुड़े मुद्दों पर नियमित तौर पर लिखती रही हैं। पूजा ने माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय से मास्टर्स किया है और नेकवर्क 18 के हिंदी चैनल, आईबीएन7, प्रज्ञा टीवी, इंडियास्पेंड.कॉम में सक्रिय योगदान दिया है। लेखन के अलावा पूजा की दिलचस्पी यात्रा करने और खाना बनाने में है।
Let’s be friends :)
सब्सक्राइब करिए और पाइए ये मुफ्त उपहार
  • देश भर से जुड़ी अच्छी ख़बरें सीधे आपके ईमेल में
  • देश में हो रहे अच्छे बदलावों की खबर सबसे पहले आप तक पहुंचेगी
  • जुड़िए उन हज़ारों भारतीयों से, जो रख रहे हैं बदलाव की नींव