in

भारतीय मूल के गणितज्ञ अक्षय वेंकटेश ने जीता फील्ड पदक, ‘गणित का नोबेल पुरुस्कार’!

फोटो: द फाइनेंसियल एक्सप्रेस/विकिपीडिया

भारतीय-ऑस्ट्रेलियाई गणितज्ञ अक्षय वेंकटेश, इस साल के फील्ड मेडल के चार विजेताओं में से एक है। इस फील्ड मेडल को गणित में नोबेल पुरस्कार माना जाता है।

नई दिल्ली में जन्में 36 वर्षीय वेंकटेश ने बुधवार को “असाधारण रूप से गणित में विषयों की विस्तृत श्रृंखला का योगदान” के लिए यह सम्मान जीता है।

एएफपी ने बताया कि वेंकटेश ने मात्र 13 साल की उम्र में पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया विश्वविद्यालय में गणित और भौतिकी में अपनी स्नातक की डिग्री शुरू की थी। संयुक्त राज्य अमेरिका के स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय से वेंकटेश ने नंबर थ्योरी में स्पेशलाइजेशन किया।

रियो डी जेनेरो में गणितज्ञों की अंतर्राष्ट्रीय कांग्रेस में उन्हें इस सम्मान से नवाज़ा गया।

हर चार साल में 40 साल से कम उम्र वाले 4 बेहतरीन गणितज्ञों को उनके काम के लिए फील्ड मेडल दिया जाता है। प्रत्येक विजेता को 15,000 कैनेडियन डॉलर का नकद पुरस्कार भी प्राप्त होता है।

इस पुरस्कार की शुरुआत कनाड़ा के गणितज्ञ जॉन चार्ल्स फील्ड के अनुरोध पर साल 1932 में की गयी थी। उन्होंने वर्ष 1924 में टोरंटो गणित कांग्रेस में अहम भूमिका निभाई थी।

इस साल के अन्य तीन विजेता कैंब्रिज यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर कौचर बिरकर, जर्मनी के पीटर स्कॉलेज (जो बॉन विश्वविद्यालय में पढ़ाते हैं), और इतालियन गणितज्ञ एलेसियो फिगल्ली हैं।


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर भेज सकते हैं।

 

शेयर करे

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है. निशा की कविताएँ आप https://kahakasha.blogspot.com/ पर पढ़ सकते हैं!

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

सेंट्रल रेलवे कर्मचारी सुनील बिहारी की सूझ-बूझ से टला बड़ा ट्रेन हादसा!

गरीबी के कारण कभी स्कूल से कटने वाला था नाम; आज है भारत के सबसे कम उम्र के आईएएस!