ऑफर सिर्फ पाठकों के लिए: पाएं रू. 200 की अतिरिक्त छूट ' द बेटर होम ' पावरफुल नेचुरल क्लीनर्स पे।अभी खरीदें
X
कभी भरते थे 9 हजार का बिजली बिल, आज सरकार को बेचते हैं बिजली

कभी भरते थे 9 हजार का बिजली बिल, आज सरकार को बेचते हैं बिजली

बेंगलुरु के रहने वाले पृथ्वी ने अपने घर की छत पर 5 किलोवाट का सोलर पैनल लगाया है। अब वह न सिर्फ उनका बिजली बिल ज़ीरो हो गया है, बल्कि उल्टा वह सरकार को बिजली बेच रहे हैं।

बेंगलुरु इलेक्ट्रिसिटी सप्लाई कंपनी लिमिटेड (BESCOM) की सोलर नीति को अपनाने वाले शुरुआती लोगों में, पृथ्वी मंगीरी शामिल हैं। पृथ्वी ने बेंगलुरु में अपने घर की छत पर ‘सोलर पैनल’ स्थापित (Solar Panel Installation) किया है। इस पैनल से, वह न केवल अपने घर की बिजली की जरूरतों को पूरा कर रहे हैं बल्कि सरकार को भी बिजली बेच रहे हैं। आज हम, आपको इस शख्स के सौर ऊर्जा उत्पादक बनने की कहानी सुनाने जा रहे हैं। साथ ही, हम यह भी बताएंगे कि किस तरह आप भी अपनी छत पर सोलर पैनल सेटअप कर सकते हैं।

बेंगलुरु के रहने वाले पृथ्वी मंगीरी संगीत निर्माता हैं और ड्रम भी बजाते हैं। वह ब्रैड ऐंड जैम स्टूडियो के मालिक हैं। संगीत से जुड़े पृथ्वी, रोज़ाना ड्रम बजाने का अभ्यास करते हैं। लेकिन ड्रम की आवाज़ के कारण वह अपने पड़ोसियों के लिए चर्चा का विषय बन गए। ड्रम की आवाज़ पड़ोस के घरों तक जाती और अक्सर वे इसकी शिकायत करते। यहाँ तक कि आवाज़ से परेशान पड़ोसियों ने, पुलिस में भी शिकायत करना शुरु कर दिया था।

पृथ्वी ने द बेटर इंडिया को बताया, “मैं समझता था कि इसे रोकना होगा और मुझे यह भी पता था कि मैं अपना संगीत अभ्यास बंद नहीं कर सकता।”

पृथ्वी बताते हैं कि उन्होंने अपने कमरे को साउंडप्रूफ कराने के बारे में सोचा और इस पर उन्होंने ज़रुरत से ज़्यादा खर्च भी किया। लेकिन यह, केवल एक बार ही किया जाने वाले खर्च नहीं था। वह बताते हैं, “जल्द ही हमने महसूस किया कि बिजली बिल पर काफी ज़्यादा आ रहा है। एयर कंडीशनर सहित तमाम लाइट और उपकरण ज़्यादा समय तक चलते थे, जिस कारण बिल ज़्यादा आता था। पहले बिजली बिल हर महीने करीब 1,500 रुपये का आता था, जो बढ़ कर लगभग नौ हजार रुपये प्रति माह हो गया। तभी हमारे परिवार ने फैसला किया कि इस समस्या का हल खोजना होगा।”

सौर ऊर्जा को काम में लाना

Solar Panel Installation
सोलर पैनल

पृथ्वी, बिजली बिल पर बढ़ने वाली लागत कम करना चाहते थे। इसी मकसद को पूरा करने के लिए, उन्होंने सोलर पैनल के बारे में जानकारी हासिल करना शुरु किया। पृथ्वी बताते हैं, “हमने विभिन्न विकल्पों की खोज की और फिर लगभग डेढ़ साल पहले अपनी छत पर पांच किलोवाट का सोलर पैनल स्थापित किया। वहाँ 15 पैनल लगाए गए हैं और इसमें करीब पांच लाख रुपये का खर्च आया है। पृथ्वी का कहना है कि इन पैनलों को स्थापित करने से, पिछले डेढ़ साल में 1 लाख रुपये से अधिक की बिजली बिल की बचत हुई है।

पृथ्वी बताते हैं, “सबसे अच्छी बात यह है कि, जब बिजली हमारे घर के इस्तेमाल से ज़्यादा हो जाती है तब बिजली को BESCOM द्वारा लगाये गए एक अलग मीटर के माध्यम से, नजदीकी ट्रांसफार्मर में ले जाया जाता है।”

BESCOM द्वारा जितनी भी यूनिट खपत की जाती है, उसके लिए पृथ्वी के परिवार को BESCOM के माध्यम से भुगतान किया जाता है।

अपने घर में सोलर पैनल कैसे लगायें

Solar Panel Installation
पृथ्वी का घर

हम आपको बेंगलुरू में पांच किलोवाट से 10 किलोवाट के सोलर यूनिट स्थापित करने की प्रक्रिया के बारे में बताने जा रहे हैं। हालांकि, अन्य राज्यों में भी काफी हद तक इसी प्रक्रिया को अपनाया जाता है। पाठकों को सलाह दी जाती है कि इस संबंध में, अपने राज्य बिजली आपूर्ति बोर्ड से संपर्क करें।

  1. सबसे पहले, आपको अपने घर के रेवेन्यु रजिस्टर (RR) नंबर का उपयोग करके, BESCOM वेबसाइट पर ऑनलाइन पंजीकरण करना होगा।
  2. BESCOM द्वारा आपको आवंटित किये जाने वाले RR नंबर अल्फ़ान्यूमेरिक (जिसमें अक्षर और अंक दोनों) कैरेक्टर होते हैं।
  3. अपना RR नंबर पता करने के लिए, उपभोक्ता का मोबाइल नंबर दर्ज करें, ड्रॉप-डाउन सूची से सब-डिविजन का चयन करें और BESCOM डेटाबेस से विवरण प्राप्त करने के लिए ‘सर्च’ टैब पर क्लिक करें।
  4. ऐसा करने के बाद, घरेलू उद्देश्यों के लिए आपकी छत के आकार के अनुसार, सहायक इंजीनियरिंग अधिकारी (AEO) द्वारा एक ‘फिजिबिलिटी टेस्ट’ किया जाता है। जिसके तहत, यह देखा जाता है कि इसे आपकी छत पर लगाना संभव है या नहीं।
  5. यदि फिजिबिलिटी टेस्ट पॉजिटिव है और निकटतम ट्रांसफार्मर से कनेक्शन है तो AEO एक फिजिबिलिटी रिपोर्ट जारी करते हैं।
  6. इसके बाद BESCOM और घर के मालिकों के बीच, स्टाम्प पेपर पर ‘पावर परचेज एग्रीमेंट’ (PPA) साइन किया जाता है।
  7.  पैनल इंस्टॉलेशन की आखिरी मंजूरी BESCOM की ओर से दी जाती है।
  8. ट्रांसफार्मर के साथ कनेक्शन के लिए BESCOM को एक ‘वर्क इंस्टॉलेशन’ रिपोर्ट दी जाती है। AEO अधिकारी उसी का निरीक्षण करने के लिए आते हैं और सभी सुरक्षा सावधानियों की जाँच करने के बाद मंजूरी देते हैं।
  9. यह देखते हुए कि उत्पन्न बिजली पृथ्वी के परिवार द्वारा होने वाली खपत से अधिक है, अतिरिक्त बिजली को पास के ग्रिड में स्थानांतरित (ट्रान्सफर) कर दिया जाता है। जिसके लिए घर के मालिक को BESCOM, प्रति यूनिट 7 रुपये का भुगतान करता है।
  10. हर महीने एक बिल जारी किया जाता है और अगर कोई देय राशि हो तो हर 15 दिन में BESCOM द्वारा घर के मालिक को वह राशि, क्रेडिट कर दी जाती है। यदि कोई देय राशि नहीं होती है तो यह आपके बिजली के उपयोग के हिसाब से एडजस्ट कर दिया जाता है।
Solar Panel Installation
म्यूजिक स्टूडियो

कुछ महत्वपूर्ण बातें

  • सोलर पैनल के सेटअप के लिए अच्छी छत होना बहुत जरूरी है।
  • छत की मजबूती और वह कितनी पुरानी है, इन बिन्दुओं पर भी ध्यान दिया जाता है।
  • अगर छत को किसी तरह की मरम्मत कार्य की आवश्यकता है तो इसे सोलर पैनलों को स्थापित करने से पहले किया जाना चाहिए।
  • यह जरूरी है कि सोलर पैनल को जिस क्षेत्र में स्थापित किया जा रहा है, वहाँ उन पैनलों को साल में हर दिन पर्याप्त धूप मिलती हो।
  • छत को सीधी धूप मिलनी चाहिए।
  • सोलर पैनल के लिए ढलान वाली छत सबसे उपयुक्त मानी जाती है और यदि ढलान दक्षिण दिशा की तरफ रहे तो और भी बढ़िया माना जाता है।
  • यदि आप अपनी छत पर सोलर पैनल सेटअप कर लेते हैं तो यह 25 साल तक ऊर्जा उत्पन्न करता रहेगा।

बिजली बिल को कम करने के मकसद से, अपनी छत पर सोलर पैनल लगाने वाला पृथ्वी का परिवार, अब किचन गार्डनिंग और रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम को भी अपना रहा है।

मूल लेख- विद्या राजा

संपादन- जी एन झा

इसे भी पढ़ें: इस एक शख्स ने व्हाट्सएप और ट्विटर पर, 23 लाख किसानों की उपज बेचने में की मदद, जानिए कैसे

यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें।

Solar Panel Installation Solar Panel Installation Solar Panel Installation Solar Panel Installation Solar Panel Installation Solar Panel Installation

पूजा दास

पूजा दास पिछले दस वर्षों से मीडिया से जुड़ी हैं। स्वास्थ्य और फैशन से जुड़े मुद्दों पर नियमित तौर पर लिखती रही हैं। पूजा ने माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय से मास्टर्स किया है और नेकवर्क 18 के हिंदी चैनल, आईबीएन7, प्रज्ञा टीवी, इंडियास्पेंड.कॉम में सक्रिय योगदान दिया है। लेखन के अलावा पूजा की दिलचस्पी यात्रा करने और खाना बनाने में है।
Let’s be friends :)
सब्सक्राइब करिए और पाइए ये मुफ्त उपहार
  • देश भर से जुड़ी अच्छी ख़बरें सीधे आपके ईमेल में
  • देश में हो रहे अच्छे बदलावों की खबर सबसे पहले आप तक पहुंचेगी
  • जुड़िए उन हज़ारों भारतीयों से, जो रख रहे हैं बदलाव की नींव