in

अपने अधिकार के लिए महिला ने लड़ी कानूनी लड़ाई, बिना किसी संबंध के आर्मी अफ़सर को दी किडनी!

प्रतीकात्मक तस्वीर

राजस्थान की 48 वर्षीय वर्षा शर्मा अपने एक दोस्त को किडनी दान करना चाहती थी। पर उनका परिवार इसके सख्त खिलाफ था। उनका दोस्त भारतीय सेना में अफ़सर है, जिनका नाम कर्नल पंकज भार्गव है।

परिवार के विरोध के बाद जब सरकार ने भी वर्षा की मदद नहीं की तो उन्होंने कर्नाटक हाई कोर्ट में याचिका दायर की।

नियमों के अनुसार किसी भी अंगदान की प्रक्रिया में केवल कोई करीबी रिश्तेदार (जिनसे पीड़ित का खून का रिश्ता हो) ही अंग दान कर सकता है। लेकिन हाल ही में, कर्नाटक हाई कोर्ट ने वर्षा को ऐसा करने की इजाजत दे दी है।

दरअसल, वर्षा कर्नल भार्गव के भाई की सहपाठी रही थीं। इसलिए जब कर्नल भार्गव के बारे में उन्हें पता चला तो उन्होंने स्वयं उन्हें किड़नी दान करने की इच्छा जताई। इसके लिए वर्षा ने खुद को अक्टूबर, 2017 से तैयार करना शुरू किया और लगभग 21 किलो वजन भी घटाया।

उन्होंने इस केस में सबसे पहले अनिल श्रीवास्तव से संपर्क किया था, जो खुद एक किडनी डोनर हैं साथ ही ‘गिफ्ट ऑफ लाइफ एडवेंचर फाउंडेशन’ के फाउंडर हैं। वे शुरू से ही इस लड़ाई में वर्षा के साथ रहे।

हालांकि, कोर्ट ने लम्बे इंतज़ार के बाद वर्षा को मंजूरी दे दी और बीती 27 जुलाई को सर्जरी भी बिना किसी समस्या के कोलम्बिया एशिया हॉस्पिटल में हो गयी। कर्नल भार्गव और वर्षा, दोनों ही अभी अस्पताल में हैं। अस्पताल के ट्रांसप्लांट सर्जन डॉ. एस सुधाकर ने कहा कि यह मामला बहुत ही अलग था। वर्षा ने अपने परिवार और अधिकारियों, दोनों से विरोध का सामना करने के बाद कोर्ट में पेटिशन फाइल किया। उन्होंने अपने अधिकार की लड़ाई लड़ी है।

अब यह तो नहीं पता कि इस केस के बाद बिना किसी संबंध के अंगदान करने के मामलों में क्या फैसला होगा। लेकिन यक़ीनन इस केस से इस तरह के मामलों को देखने का नजरिया अवश्य बदलेगा।

हम वर्षा के दृढ निश्चय और हौंसले की सराहना करते हैं। उम्मीद है कि वर्षा और कर्नल भार्गव जल्द ही स्वस्थ होकर घर लौटें।


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर भेज सकते हैं।

 

शेयर करे

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है. निशा की कविताएँ आप https://kahakasha.blogspot.com/ पर पढ़ सकते हैं!

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

पुणे: आईपीएस अफ़सर की अनोखी पहल; गुलदस्तों की जगह मांगी किताबें!

सेंट्रल रेलवे कर्मचारी सुनील बिहारी की सूझ-बूझ से टला बड़ा ट्रेन हादसा!