in ,

पुणे: आईपीएस अफ़सर की अनोखी पहल; गुलदस्तों की जगह मांगी किताबें!

हाल ही में, महाराष्ट्र के पुणे ग्रामीण क्षेत्र में संदीप पाटिल को नए पुलिस अधीक्षक के रूप में नियुक्त किया गया है। इस मौके पर बहुत से लोग उन्हें फूलों के गुलदस्तों के साथ बधाई देने पहुंचें। यह देखकर पाटिल ने सभी लोगों से एक बहुत ही अनोखी और प्यारी मांग की।

दरअसल, उन्होंने सभी नागरिकों और अधिकारियों से अपील की है कि यदि कोई भी उन्हें उनकी नियुक्ति पर बधाई देने जाता है तो वह उनके लिए फूलों के गुलदस्ते की बजाय कोई भी ज्ञानवर्धक किताब उपहार स्वरूप लाये। वे इन सभी किताबों को इकट्ठा कर नक्सल प्रभावित क्षेत्र गडचिरोली के बच्चों और युवाओं के लिए भेजना चाहते हैं।

पाटिल (39 वर्षीय) को गडचिरोली में माओवादियों के विरुद्ध कई अभियानों के लिए जाना जाता है। इसके साथ ही उन्होंने इन क्षेत्रों के बच्चों और युवाओं के लिए भी कई योजनाएं चलायीं हैं। जैसे कि अग्निपंख, जिसके तहत यहां के अनाथ बच्चों को शिक्षा प्रदान की जाती है।

Promotion

पाटिल ने पुलिस स्टेशनों में लाइब्रेरी खोलने पर भी जोर दिया है। पिछले दो सालों में किताबों के जरिये उन्होंने नक्सल प्रभावित क्षेत्रों के लोगों और पुलिस के बीच के फासले को भरने की कोशिश की है।

पाटिल ने कहा, “मैंने अपने जीवन में दूसरी बार ऐसी कोई अपील की है। साल 2016 में जब मुझे सतारा का एसपी नियुक्त किया गया था, तब भी मैंने लोगों से फूलों के बदले किताबों की मांग की थी। उन सभी किताबों को हमने गडचिरोली के बच्चों और युवाओं के लिए भेज दिया था।”

हम पाटिल की इस पहल की सराहना करते हैं और उम्मीद करते हैं कि उनसे प्रेरित होकर और भी बहुत से लोग इस तरह के अभियानों से जुडेंगें।


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर भेज सकते हैं।

शेयर करे

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है. निशा की कविताएँ आप https://kahakasha.blogspot.com/ पर पढ़ सकते हैं!

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

यह अनोखा फैशन शो आपको बताएगा असली खूबसूरती के मायने!

अपने अधिकार के लिए महिला ने लड़ी कानूनी लड़ाई, बिना किसी संबंध के आर्मी अफ़सर को दी किडनी!