in

कैंटीन चलाने वाले ‘मिलन दा’, जिनकी मृत्यु पर दुनियाभर से आए श्रद्धांजलि के सन्देश!

भारत के सबसे प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयों में से एक जादवपुर यूनिवर्सिटी है। इसी यूनिवर्सिटी में एक बहुत पुरानी कैंटीन को चलाने वाले मिलन कांति डे का हाल ही में लंग कैंसर के चलते निधन हो गया। उन्हें सब लोग प्यार से ‘मिलन दा’ कहकर बुलाते थे।

जादवपुर यूनिवर्सिटी में न जाने कितनी पीढ़ियों के छात्र मिलन दा को जानते हैं। उनकी कैंटीन चार दशकों से विश्वविद्यालय की संस्कृति का एक अभिन्न हिस्सा रही है। जेयू में छात्रों का कोई ‘अड्डा’ सेशन मिलन दा के कैंटीन से कुछ खाये बिना पूरा नहीं हुआ।

मिलन दा ने जादवपुर विश्वविद्यालय के गेट 4 के पास एक कैंटीन शुरू किया था। उनकी कैंटीन एक खास पकवान ‘धोपेर चोप’ के लिए प्रसिद्द थी।

‘धोपेर चोप’ के पीछे की कहानी बड़ी ही दिलचस्प है। ‘धोप’ शब्द का मतलब बंगाली में ‘झूठ’ होता है। जो की गुस्से से भरे यूनिवर्सिटी के बुद्धिजीवियों ने बिडम्वना को दर्शाने के लिए रखा था।

यह कुरकुरा स्नैक और मिलन दा की स्पेशल चाय, इन दोनों के बिना कैंटीन में विद्यार्थियों के बीच होने वाली कोई भी राजनैतिक, सांस्कृतिक बहस पूरी नहीं होती थी।

मिलन दा का स्वभाव बहुत ही शांत था। वे तो बस चुप्पी के साथ ट्रे में चाय और धोपेर चोप परोसकर बच्चों के लिए विचार-विमर्श का माहौल बनाते थे।

हालांकि, जीवन उनके लिए इतना आसान नहीं रहा। मिलन दा, लिबरेशन युद्ध के दौरान बांग्लादेश से भागकर कोलकाता, भारत आये। यहां उन्होंने 1972 में इस कैंटीन की शुरुआत की। दिन के दौरान कॉलेज परिसर में चाय बेचते और रात में गेट के बाहर फुटपाथ पर सो जाते। मिलन दा ने संघर्ष किया और धीरे-धीरे अपना कारोबार बढ़ाया, कोलकाता में जमीन खरीदी, और अपने माता-पिता को अपने साथ रहने के लिए ले आये।

मिलन दा ने कैंसर के साथ लंबी लड़ाई के बाद 23 जुलाई को अपना आखिरी सांस ली। परिवार में उनकी पत्नी और दो बेटे हैं।

जादवपुर विश्वविद्यालय के छात्रों के सोशल मीडिया अकाउंट्स मिलन दा के किस्सों से भरे हुए हैं। कई छात्रों ने कोलकाता में इस प्रतिष्ठित कैंटीन में बिताए गए अनमोल क्षणों को याद किया। अब, यह देखना है कि क्या उनकी पत्नी और बेटे मिलन दा की इस विरासत को आगे बढ़ाएंगे?


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर भेज सकते हैं।

 

 

शेयर करे

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है. निशा की कविताएँ आप https://kahakasha.blogspot.com/ पर पढ़ सकते हैं!

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

कैसे कर सकते हैं पीरियड्स का दर्द कम, जानिए सेलिब्रिटी नूट्रिशनिस्ट रुजुता दिवेकर से!

बेटी की याद में कर्नाटक के स्कूल क्लर्क की पहल, उठा रहे हैं गरीब लड़कियों की शिक्षा का खर्च!