in

डॉ भारत वातवानी और सोनम वांगचुक को किया जायेगा मैगसेसे अवार्ड 2018 से सम्मानित!

डॉ भरत वातवानी और सोनम वांगचुक को इस वर्ष रमन मैगसेसे पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा। उन्हें 31 अगस्त को फिलीपींस के सांस्कृतिक केंद्र में एक समारोह पर औपचारिक रूप से पुरस्कार दिया जाएगा।

डॉ भरत वातवानी मुंबई से एक मनोचिकित्सक हैं। उन्होंने महाराष्ट्र के करजत में श्रद्धा पुनर्वास फाउंडेशन की स्थापना की। जहां उनका उद्देश्य मानसिक रूप से बीमार लोगों को ठीक कर उनके परिवारों से फिर से मिलाना है।

फाउंडेशन ने कहा, “भारत में मंज़िल पीड़ितों के लिए डॉ भरत के काम को देखते हुए, उन्हें सम्मानित किया जा रहा है। वे अपने कार्य के प्रति दृढ़ निश्चयी हैं। और हर हाल में मानवीय सम्मान को सहेजने की कोशिश कर रहे हैं।”

इसके अलावा सोनम वांगचुक एक इंजीनियर, इन्नोवेटर और शिक्षा सुधारवादी हैं। फिल्म ‘थ्री इडियट्स’ में आमिर खान का किरदार वांगचुक के जीवन पर ही आधारित था। वे स्टूडेंट्स एजुकेशनल एंड कल्चरल मूवमेंट ऑफ लद्दाख (एसईसीओएमएल) के संस्थापक-निदेशक भी हैं।

Promotion

सोनम वांगचुक ने सरकारी स्कूल व्यवस्था में सुधार लाने के लिए सरकार, ग्रामीण समुदायों और नागरिक समाज के सहयोग से 1994 में ऑपरेशन न्यू होप भी शुरू किया था। फाउंडेशन ने कहा,

“उनके कार्यों के चलते लद्दाखी युवाओं के जीवन में सुधार आया है। अब उनके पास बहुत से अवसर हैं। उन्होंने अपनी संस्था से दुनिया में अल्पसंख्यक लोगों के लिए एक उदाहरण स्थापित किया है।”

यक़ीनन यह देश के लिए गर्व की बात है कि हमारे यहां से दो भारतियों को यह सम्मान मिलने जा रहा है।


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे। आप हमें किसी भी प्रेरणात्मक ख़बर का वीडियो 7337854222 पर भेज सकते हैं।

 

Promotion

देश में हो रही हर अच्छी ख़बर को द बेटर इंडिया आप तक पहुँचाना चाहता है। सकारात्मक पत्रकारिता के ज़रिए हम भारत को बेहतर बनाना चाहते हैं, जो आपके साथ के बिना मुमकिन नहीं है। यदि आप द बेटर इंडिया पर छपी इन अच्छी ख़बरों को पढ़ते हैं, पसंद करते हैं और इन्हें पढ़कर अपने देश पर गर्व महसूस करते हैं, तो इस मुहिम को आगे बढ़ाने में हमारा साथ दें। नीचे दिए बटन पर क्लिक करें -

₹   999 ₹   2999

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है.

द बेटर इंडिया बुलेटिन – 27 जुलाई 2018

छत्तीसगढ़ : जिमीकंद की खेती कर महिलाओं ने किया 2 करोड़ का व्यवसाय!