in

झारखंड: स्वयं सहायता समूह से दिहाड़ी-मजदूरी करने वाली महिलाओं ने इकट्ठे किये 96 करोड़ रूपये

भी बीमारी के इलाज के लिए भी इन मजदूर महिलाओं को साहूकारों से उधार मांगनी पड़ती थी। जिसका मनचाहा ब्याज साहूकार लेता था। लेकिन आज सखी मंडल के बचत बैंक से ये महिलाएं कम से कम ब्याज दर पर पैसे उधार ले सकती हैं।


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे।

शेयर करे

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है. निशा की कविताएँ आप https://kahakasha.blogspot.com/ पर पढ़ सकते हैं!

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

द बेटर इंडिया बुलेटिन – 23 जुलाई 2018

जानिए अपने अधिकार, 6 मुफ्त सेवाएं जो आप भारत के पेट्रोल पंप पर पा सकते हैं!