in

मुंबई: मात्र 13 साल के व्यवसायी तिलक मेहता ने साबित किया कि ‘उम्र महज़ एक नंबर है’!

मिलिए मात्र 13 साल के व्यवसायी तिलक मेहता से, जो अपने व्यवसाय ‘पेपर्स एंड पार्सल्स’ सर्विस से मुंबई के डिब्बावालों को जोड़ रहें हैं। साल 2020 तक उनकी कंपनी का टर्नओवर लगभग 100 करोड़ होगा।


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे।

शेयर करे

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है. निशा की कविताएँ आप https://kahakasha.blogspot.com/ पर पढ़ सकते हैं!

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

न बरखा, न खेती, बिन पानी सब सून… – किसान गिरीन्द्र नाथ झा की पाती आप सभी के नाम!

महाराष्ट्र: स्कूलों का बिजली बिल भरने के लिए बिजली विभाग के कर्मचारियों ने दान दिया एक दिन का वेतन!