Search Icon
Nav Arrow

कम बजट में आपको आत्मनिर्भर बना सकता है दाल की बड़ी का बिजनेस

उड़द दाल और मूंग दाल की बड़ी का बिजनेस कर रहीं, दिल्ली की याचना बंसल बता रहीं हैं कि कैसे आप कम बजट में अपने घर से शुरू कर सकते हैं बिजनेस।

एक वक्त था जब हम सभी के घरों में अचार, मुरब्बा, पापड़, दाल की बड़ी (Business) और न जाने ऐसी कितनी ही चीज़ें बना करती थीं। दादी-नानी के हाथों से ऐसी कई स्वादिष्ट चीजें साल भर बनती रहती थी। वैसे आज भी कई घरों में अचार आदि बनाया जाता है। कई लोग न सिर्फ अपने परिवार के लिए, बल्कि गली-मोहल्लों और अपने रिश्तेदारों के लिए भी अचार, मुरब्बा आदि बनाते हैं। आज हम आपको जिस शख्सियत से रूबरू करवाने जा रहे हैं, उन्होंने इन घरेलू डिशेज को बाजार तक पहुँचाने का काम किया है। यह प्रेरक कहानी दिल्ली स्थित ‘जयनि पिकल्स’ की फाउंडर, याचना बंसल की है। 

एक प्राइवेट स्कूल में बतौर शिक्षिका काम करने वाली, 40 वर्षीय याचना ने द बेटर इंडिया को बताया, “मेरी सास के हाथों में मानो जादू है। वह बहुत ही स्वादिष्ट अचार और दाल बड़ी बनातीं हैं। हालांकि, ढाई साल पहले तक वह केवल अपने घर-परिवार के लिए ही अचार बनातीं थीं। एक बार मेरे पति के एक दोस्त खाने पर घर आए और उन्होंने यह अचार चखा। अचार खाते ही उन्होंने कहा कि आपको इसे दूसरों के लिए भी बनाना चाहिये। हमने उनकी बात को ज्यादा गंभीरता से नहीं लिया था। उसके बाद भी उन्होंने हमारे घर से अचार मंगवाए और उनके परिवार में जिसने भी वह अचार खाया, सबने काफी तारीफ की। इसलिए, उन्होंने दोबारा हमसे कहा कि इस बारे में सोचें। तब हमें लगा कि क्या किया जा सकता है?”

Business
याचना बंसल अपनी दाल बड़ी के साथ

इस घटना के बाद याचना ने अपना व्यवसाय घर से ही शुरू करने का फैसला किया। पहले वह सिर्फ अचार बना रहीं थीं, लेकिन अब उड़द दाल और मुंग दाल की बड़ी के साथ-साथ कई तरह के मुरब्बे भी उनके डिशेज में शामिल हो गए हैं। वह कहतीं हैं, “हमने छोटे-छोटे कदम बढ़ाए। शुरू के छह महीने, अपने डिशेज की रेसिपी बनाने और मार्किट पर लगाये। इसके बाद, हमने अपना काम शुरू किया और पिछले डेढ़ साल से हम लगातार आगे बढ़ रहे हैं। अचार और दाल की बड़ी हम खुद अपने घर में बनाते हैं। ये डिशेज पूरी तरह से ऑर्गेनिक हैं। हम जो भी बनाते हैं, वह पहले अपने घर में इस्तेमाल करके देखते हैं और फिर ग्राहकों तक पहुँचाते हैं।” 

याचना के परिवार के सभी लोग इस काम में उनकी मदद करते हैं। उनके पति, सास, और भाभी डिशेज बनाने में मदद करतीं हैं और उनके भाई गगन सिंघल, मार्केटिंग में उनकी सहायता करते हैं। वह कहतीं हैं कि अपने परिवार के सहयोग से ही वह इतना आगे बढ़ रही हैं।

Business
परिवार के साथ सफलता का सफर

उनकी बनाई दाल बड़ियां, अचार आदि, उनकी वेबसाइट तथा सोशल मीडिया पेज के साथ-साथ, अमेजन और फ्लिपकार्ट पर भी उपलब्ध हैं।

याचना आज हमें बता रही हैं कि अगर कोई घर से दाल बड़ी का व्यवसाय करना चाहता है तो इसकी शुरुआत कैसे करें- 

1. कैसे बनायें दाल बड़ी?

वह बतातीं हैं कि बहुत से घरों में, खासकर उत्तर भारत में कई तरह की दालों की बड़ी बनाई जाती हैं। अगर आपको सही तरीका पता है तो दाल बड़ी बनाना इतना मुश्किल नहीं है। इसके लिए, आपको जरूरत के हिसाब से दाल लेकर, उसे रातभर पानी में भिगोकर रखना होता है। सुबह इस दाल को धोकर मिक्सर ग्राइंडर में पीस लें और इसमें अपनी इच्छा अनुसार नमक तथा हींग आदि मसाले मिला सकते हैं। इसके बाद, आप इस दाल के पेस्ट को दो-तीन घंटों के लिए अलग ढककर रख दें। 

अब किसी साफ पॉलिथीन को बिछाएं और इस पर हाथ से दाल के पेस्ट की छोटी-छोटी बड़ियां तोड़ लें। वह कहतीं हैं, “बहुत से लोग पुरानी साड़ियों या दूसरे किसी कपडे पर बड़ी तोड़ते हैं। लेकिन इन्हें सुखाने के बाद, निकालते समय कई बार परेशानी हो जाती है। इसलिए, ध्यान रखें कि आप ऐसी किसी चीज पर इन्हें सुखायें, जिस पर ये चिपके नहीं और निकालते समय टूटे नहीं।”

अच्छी धूप हो तो बड़ियों को सूखने में दो दिन का समय लगता है। इसके बाद, आप इन्हें इकट्ठा करके किसी ‘एयरटाइट कंटेनर’ में रख सकते हैं। 

Business
उनकी देसी दाल बड़ी

2. दाल बड़ी का बिजनेस शुरू करने से पहले रखें किन बातों का ध्यान? 

वह कहतीं हैं कि कोई भी बिजनेस शुरू करने से पहले कुछ बातों का ध्यान रखना जरुरी होता है। जैसे कि आप अपना रॉ मटीरियल कहाँ से खरीदेंगे? दाल बड़ी के लिए पहले आपको यह देखना होगा कि आप अच्छी दाल या मसाले कहाँ से खरीद सकते हैं। अपने आस-पास किसी थोक बाजार को ढूंढें। साथ ही, अपनी रेसिपी और डिशेज पर काम कीजिए। 

सबसे पहले, अपनी डिशेज बनाकर अपने आस-पास के लोगों को खिलायें। उनका फीडबैक लें कि कैसा स्वाद है, क्या कमियां हैं, और आप ज्यादा बेहतर अचार कैसे बना सकते हैं? अगर आप इस तरह से कोशिश करेंगे तो एक अच्छी रेसिपी तैयार कर पाएंगे। साथ ही, आपको पता चलेगा कि क्या लोगों को आपकी डिशेज पसंद आ रही है और वे इसे खरीदना चाहेंगे या नहीं। 

बाजार में भी थोड़ा रिसर्च करें। देखें कि आप जो डिशेज बना रहे हैं, वह बाजार में कितनी उपलब्ध हैं? बाजार में इसकी मांग कितनी है और क्या आप ग्राहकों को कुछ नया दे सकते हैं? 

3. दाल बड़ी के बिजनेस के लिए कैसे करें इन्वेस्टमेंट?

इन्वेस्टमेंट के बारे में याचना कहतीं हैं, “आप किस लेवल पर अपना बिजनेस शुरू करना चाहते हैं, इन्वेस्टमेंट उसी हिसाब से होती है। अगर आप घर से ही अपना बिजनेस शुरू कर रहे हैं तो आपको बहुत ज्यादा खर्च करने की जरूरत नहीं है। दाल बड़ी के लिए हमने अपने घर में ही उपलब्ध चीजों से काम शुरू किया था। दाल भिगोने के लिए स्टील के भगोने और पीसने के लिए छोटे मिक्सर ग्राइंडर जैसी चीजें हमारे पास थीं। लेकिन जब मांग बढ़ी और खासकर उड़द दाल के लिए, बाद में हमें एक बड़ा मिक्सर ग्राइंडर लेना पड़ा। इसके अलावा और किसी चीज पर, कोई बड़ा खर्च नहीं हुआ।”

अगर कोई अपने घर से काम शुरू कर रहा है तो वह अपने घर में उपलब्ध साधनों को ही पहले इस्तेमाल में ले। अगर आपको कुछ खरीदना भी है तो अपना बजट तय करें। एक सीमित बजट में ही आप सभी साधन जुटाने की कोशिश करें। शुरू में, बहुत ज्यादा इन्वेस्टमेंट करना कई बार रिस्क का काम होता है। इसलिए, जहाँ तक संभव हो कम से कम पैसे में काम करने की कोशिश करें। 

इसके साथ ही, आपको  FSSAI सर्टिफिकेट और ब्रांड नाम रजिस्ट्रेशन के लिए भी शुरू में अप्लाई कर देना चाहिये। वह कहतीं हैं, “अगर आपको बिजनेस करना है तो शुरुआत में ही इससे संबंधित पेपरवर्क खत्म करने की कोशिश करें। बाद में, जब बिजनेस बढ़ता है तो आपकी जिम्मेदारियाँ भी बढ़ जाती हैं और आपके पास समय की कमी बनी रहती है। साथ ही, ब्रांड नाम भी आप अच्छे से जांच कर रखें ताकि यह किसी और ब्रांड नाम से मेल ना खाए।”

4. दाल बड़ी बनाते समय रखें इन बातों का ध्यान

फूड बिजनेस में कई डिशेज के लिए आपको मौसम का भी विशेष ध्यान रखना होता है। जैसे दाल बड़ी के बारे में याचना कहतीं हैं कि आप बड़ी तभी बना सकते हैं, जब मौसम में नमी बिल्कुल भी न हो। इसलिए, अक्सर होली के बाद ही लोग दाल की बड़ी बनाना शुरू करते हैं। इस समय धूप अच्छी होती है और नमी भी नहीं होती। 

दूसरी जरुरी बात है कि आप इन्हें कैसे स्टोर करके रखते हैं। दाल की बड़ियों को किसी एयरटाइट कंटेनर में स्टोर करें। ऐसी कोई चीज, जिसमें नमी बिल्कुल भी न हो। इसके अलावा, काफी समय से स्टोर की गई बड़ियों के डब्बे को जब आप फिर से खोलें तो इन्हें एक बार धूप जरूर दिखा दें। 

5. कैसे तय करें मूल्य और कैसे करें पैकेजिंग?

घर से बिजनेस करते समय, लोग अक्सर अपने डिशेज का मूल्य तय करने में कुछ गलतियां करते हैं। जब भी हम किसी डिश का मूल्य तय करते हैं तो हमें अपने रॉ मटीरियल और पैकेजिंग की लागत के साथ-साथ, अपनी मेहनत और बड़ी बनाते समय इस्तेमाल हुए पानी, जगह और बिजली का भी मूल्य इसमें जोड़ना चाहिये। इन सबको जोड़ने के बाद, आप इसमें अपने हिसाब से अपना प्रॉफिट मार्जिन रख सकते हैं। हालांकि, शुरुआत में कोशिश करें कि आप मार्जिन बहुत ज्यादा न रखें। लेकिन मूल्य, आपकी डिशेज की गुणवत्ता के हिसाब से होना चाहिये। 

वह कहतीं हैं, “हमने जब मूल्य तय किये तो हमारी अपनी मेहनत का मार्जिन जोड़ना हम भूल गए थे। हमें यह गलती तब समझ में आई, जब हमने अपने बिजनेस के लिए एक सहायक रखा और उसकी सैलरी देनी थी। इसलिए, हमेशा यह सोचकर चलें कि भविष्य में जब आपका बिजनेस बढ़ेगा तो आपको इसमें से अपने कर्मचारियों की सैलरी भी निकालनी होगी। इसलिए अपनी डिशेज का शुरू से ही सही मूल्य रखें।”

पैकेजिंग की बात करें तो दाल की बड़ी के लिए ऐसी पैकेजिंग चाहिये, जिसमें नमी बिल्कुल न हो। अगर आप इनके लिए एयरटाइट कंटेनर लेंगे तो शुरुआत में आपके लिए ऐसा करना काफी महंगा हो जाएगा। इसलिए, याचना ‘फूडग्रेड प्लास्टिक’ की पैकेजिंग इस्तेमाल करने की सलाह देती हैं। 

6. कैसे करें मार्केटिंग?

Business
फेसबुक पेज इमेज

किसी भी बिजनेस को शुरू करते समय मार्केटिंग पर भी खासा ध्यान देना चाहिये। वह कहतीं हैं कि आपके डिशेज ही आपके लिए सबसे अच्छी मार्केटिंग करते हैं। अगर आपकी डिशेज स्वाद और गुणवत्ता में बेहतर हैं तो लोग खुद आपके पास आयेंगे। लेकिन, इसके लिए जरुरी है कि पहले आप खुद कुछ लोगों तक पहुंचे। आज के समय में ऑनलाइन मार्केटिंग एक अच्छा तरीका है। अगर आप अपनी वेबसाइट भी नहीं बना सकते हैं तो सोशल मीडिया से शुरुआत करें। फेसबुक, इंस्टाग्राम, और व्हाट्सएप का इस्तेमाल करें। 

फेसबुक और इंस्टाग्राम पर अपने पेज बनायें और यहाँ अपनी डिशेज की तस्वीरें नियमित रूप से पोस्ट करें। याचना कहतीं हैं, “सोशल मीडिया पर पोस्ट करते समय, अक्सर हम इंटरनेट से खोजकर सुंदर तस्वीरें लगा देते हैं। हमें लगता है कि लोग आकर्षित होंगे। लेकिन यह तरीका बिल्कुल गलत है क्योंकि इससे आप ग्राहकों के साथ ईमानदार नहीं रह जाते। आप अपनी डिशेज की तस्वीरें लगाइये ताकि ग्राहक आपकी बनाई डिशेज के लिए आपसे सम्पर्क करें। इसके अलावा, बीच-बीच में यह भी पोस्ट करें कि आप अपनी डिश कैसे बनाते हैं? इससे ग्राहकों को पता चलता है कि आप स्वच्छता का कितना ध्यान रखते हैं।”

फेसबुक पर बहुत से ग्रुप्स भी होते हैं, जिन्हें आप ज्वॉइन करके अपने डिशेज के बारे में पोस्ट कर सकते हैं। इसी तरह, आप अपने व्हाट्सएप ग्रुप्स में अपनी डिशेज के बारे में पोस्ट कर सकते हैं। जब आपकी थोड़ी बिक्री बढ़ने लगे तो आप अमेज़न और फ्लिपकार्ट जैसे प्लेटफॉर्म के बारे में भी सोच सकते हैं। 

ऑफलाइन मार्केटिंग के लिए आप अपने पास के बाज़ारों में, स्टोर्स पर अपनी डिशेज रख सकते हैं। अगर हो सके तो आप अपना भी ऑफलाइन स्टोर खोल सकते हैं। लेकिन, कम लागत में ऑनलाइन मार्केटिंग का तरीका सबसे बेहतर है। जब एक बार आपको बिजनेस से कमाई होने लगे, तब आप दूसरी चीजों के बारे में सोचें। 

7. आगे बढ़ने के लिए रखें इन बातों का ख्याल

याचना कहतीं हैं कि आगे बढ़ने के दो ही तरीके हैं- सच्चाई और मेहनत। अगर आप अपनी डिशेज और काम के प्रति सच्चे हैं, सही दिशा में मेहनत कर रहे हैं तो आपको आगे बढ़ने से कोई नहीं रोक सकता है। धीरे-धीरे आपके 100 ग्राहक भी होंगे, बस आपको अपनी डिशेज के स्वाद और गुणवत्ता को बरकरार रखना है। 

*हमेशा अपने ग्राहकों के फीडबैक से सीखते रहें। हर एक फीडबैक को गंभीरता से लें और इस पर काम करें। 

*एक साथ कई सारी डिशेज लॉन्च करने से बेहतर है कि आप अपने सबसे अच्छे दो-तीन डिशेज से शुरुआत करें। फिर धीरे-धीरे ग्राहकों की मांग के हिसाब से अपनी डिशेज बढ़ाएं। 

*जब भी कोई नई डिश बनायें तो सबसे पहले अपने घर में इसे इस्तेमाल करके देखें। अगर आप इस डिश से पूरी तरह से संतुष्ट हैं, तभी ग्राहकों के लिए इसे बनायें। वह बतातीं हैं, “पिछली बार हमने, उड़द और मुंग की ‘छोटी’ बड़ी के अलावा, मसाला बड़ी बनाने के लिये भी ट्राई किया। लेकिन जब हमने घर में इन्हें बनाया तो ये ठीक से नहीं बनी थीं। इसलिए हमने तय किया कि सबसे पहले हम खुद मसाला बड़ी बनाना सीखेंगे और फिर ग्राहकों के लिए बनायेंगे। अगर हम बिना चेक किये ही ये मसाला बड़ी ग्राहकों को दे देते तो यह हमारे बिजनेस के लिए बुरा होता।”

*टाइम-मैनेजमेंट अच्छे से करें। छोटी-बड़ी समस्याएं आती रहेंगी, लेकिन हार न माने। अपना हौसला बनाए रखें और आगे बढ़ते रहें। एकदम से सफलता किसी को नहीं मिलती है। व्यवसाय में कई बार नुकसान भी होगा, लेकिन आपको असफलता से डरना नहीं है। हर एक असफलता आपके लिए सीखने का मौका हो सकती है, इसलिए सीखते रहें और आगे बढ़ें। 

अंत में, याचना सिर्फ यही कहतीं हैं कि अगर आपको बिजनेस करना है तो ज्यादा सोचे नहीं। एक बार खुद को मौका दें और शुरुआत करें। 

याचना बंसल से सम्पर्क करने के लिए या उनकी डिशेज के बारे में अधिक जानकारी के लिए, आप उनके फेसबुक पेज पर मैसेज कर सकते हैं। 

संपादन- जी एन झा

यह भी पढ़ें: महिला किसान से जानिए कैसे कच्ची हल्दी की प्रोसेसिंग से कर सकते हैं बिज़नेस

यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें।

Business Business Business Business Business Business Business Business Business Business Business Business Business Business Business Business Business Business Business Business Business

close-icon
_tbi-social-media__share-icon