in

बेटियों के प्रोत्साहन पर राजस्थान के इस विधायक ने 40 साल बाद फिर से शुरू की पढ़ाई!

फोटो: हिंदुस्तान टाइम्स

राजस्थान में उदयपुर के एमएलए फूल सिंह मीणा ने लगभग 40 वर्ष बाद फिर से अपनी पढ़ाई शुरू की है। 17 जुलाई को उन्होंने अपने बी. ए प्रथम वर्ष की परीक्षा दी।

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक फूल सिंह ने सातवीं कक्षा के बाद पढ़ाई छोड़ दी थी। उन्होंने बताया, “मेरे पिताजी का सेना में देहांत होने के बाद मुझे पढ़ाई छोड़नी पड़ी। घर चलाने के लिए मैंने खेती करना शुरू कर दिया था।”

मीणा ने बताया कि उन्हें आगे पढ़ने के लिए उनकी बेटियों ने प्रोत्साहित किया। “उन्होंने मुझे कहा कि मैं बहुत से अधिकारी और राजनेताओं से मिलता हूँ तो शिक्षा मेरे लिए बहुत जरूरी है। लेकिन मैं अपनी उम्र को लेकर थोड़ा हिचक रहा था,” मीणा ने कहा।

मीणा ने बताया कि धीरे-धीरे मुझे एहसास हुआ कि शिक्षा मेरे लिए वाकई बहुत जरूरी है। “एक पार्षद के रूप में अगर मैं शिक्षा के महत्व को लोगों को समझाना चाहता हूँ तो मेरा हर एक भाषण खोखला लगेगा; यदि मैं खुद पढ़ा-लिखा हुआ नहीं हूँ तो।”

दिलचस्प बात यह है कि मीणा ने व्हाट्सएप की मदद से पढ़ाई कर रहे हैं। उनके टीचर संजय लुनावत हैं, जो उदयपुर के पास मनवखेड़ा में सरकारी वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय के प्रिंसिपल हैं। संजय लुनावत ने बताया, “हालाँकि हम क्षेत्र में एक यात्रा कर रहे होते हैं, फिर भी मैं उन्हें पढ़ाता हूँ। या फिर मैं उन्हें विषय के बारे में ऑडियो क्लिप बनाकर व्हाट्सएप पर भेज देता हूँ। जिसे वे यात्रा लके दौरान सुनते हैं।”

मीणा ने इतने वर्षों बाद पढाई शुरू की है, लेकिन वे शिक्षा के प्रति समर्पित हैं। मीणा हर सम्भव प्रयास से पढ़ाई करते हैं। तकनीक का भी वे भरपूर इस्तेमाल कर रहे हैं।

लुनावत ने बताया कि बी.ए के बाद मीणा एम. ए और पी.एचडी भी करना चाहते हैं।


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे।

 

 

शेयर करे

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है. निशा की कविताएँ आप https://kahakasha.blogspot.com/ पर पढ़ सकते हैं!

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

विश्व स्तर पर स्वर्ण पदक जीतने वाली हिमा दास के लिए फ़िनलैंड में रहनेवाले भारतियों ने मिलकर भेजे 1 लाख रूपये!

न बरखा, न खेती, बिन पानी सब सून… – किसान गिरीन्द्र नाथ झा की पाती आप सभी के नाम!