ऑफर सिर्फ पाठकों के लिए: पाएं रू. 200 की अतिरिक्त छूट ' द बेटर होम ' पावरफुल नेचुरल क्लीनर्स पे।अभी खरीदें
X
Video: हादसे में दोनों पैर गंवाने के बाद भी, अफ्रीका की सबसे ऊंची चोटी पर लहराया तिरंगा

Video: हादसे में दोनों पैर गंवाने के बाद भी, अफ्रीका की सबसे ऊंची चोटी पर लहराया तिरंगा

छत्तीसगढ़ के रायपुर के रहने वाले चित्रसेन साहू ने एक ट्रेन हादसे में अपने दोनों पैर गंवाने के बाद भी हिम्मत नहीं हारी। इस वीडियो में देखिये उनकी कहानी उन्ही की ज़ुबानी।

“लहरों से डर कर नौका पार नहीं होती,

कोशिश करने वालों की हार नहीं होती,

नन्हीं चींटी जब दाना लेकर चलती है,

चढ़ती दीवारों पर, सौ बार फिसलती है,

मन का विश्वास रगों में साहस भरता है,

चढ़कर गिरना, गिरकर चढ़ना न अखरता है,

आखिर उसकी मेहनत बेकार नहीं होती,

कोशिश करने वालों की हार नहीं होती।।”

हिन्दी के विराट कवि सोहनलाल द्विवेदी की ये पंक्तियाँ छत्तीसगढ़ के रायपुर के रहने वाले चित्रसेन साहू पर बिल्कुल सटीक बैठती है। 

चित्रसेन के पैर नहीं हैं। जून 2014 में, एक ट्रेन हादसे में उन्होंने अपने दोनों पैर गँवा दिए थे। लेकिन, यह उनकी सफलता के आड़े नहीं आया और उन्होंने अपने मजबूत इरादों से अफ्रीका के सबसे ऊँचे किलिमंजारो पर्वत पर फतह करने से लेकर, 14 हजार फीट स्काई डाइविंग करने और राष्ट्रीय स्तर पर व्हीलचेयर-बास्केटबॉल खेलने जैसे कई साहसी काम किए हैं।

उनका मानना है कि दिव्यांगजनों के साथ लोगों को कोई भेदभाव नहीं करना चाहिए। उन्हें दया की नहीं, बल्कि एक समान जिंदगी जीने का हक चाहिए। अपने इसी विचार के तहत, उन्होंने ‘Mission Inclusion’ पहल की नींव रखी, जिसके ज़रिये वह अपनी तरह अनेक दिव्यांगजनों को एक नई राह दिखा रहे हैं।

देखें वीडियो –

यह भी पढ़ें – ठंड में ठिठुरने को मजबूर थे इस गाँव के लोग, इन युवाओं ने पॉकेट मनी बचाकर बिखेरी मुस्कान

यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें।

Inspirational story, Inspirational story, Inspirational story, Inspirational story

कुमार देवांशु देव

राजनीतिक और सामाजिक मामलों में गहरी रुचि रखनेवाले देवांशु, शोध और हिन्दी लेखन में दक्ष हैं। इसके अलावा, उन्हें घूमने-फिरने का भी काफी शौक है।
Let’s be friends :)
सब्सक्राइब करिए और पाइए ये मुफ्त उपहार
  • देश भर से जुड़ी अच्छी ख़बरें सीधे आपके ईमेल में
  • देश में हो रहे अच्छे बदलावों की खबर सबसे पहले आप तक पहुंचेगी
  • जुड़िए उन हज़ारों भारतीयों से, जो रख रहे हैं बदलाव की नींव