in

मात्र 50 रूपये में घर बैठे बनवा पायेंगें जन्म प्रमाण पत्र जैसे सरकारी कागजात, दिल्ली सरकार की ‘डोरस्टेप सर्विस’!

फोटो: हिंदुस्तान टाइम्स

गस्त के महीने से दिल्ली निवासी लगभग 100 सार्वजानिक सेवाओं का घर बैठे केवल 50 रूपये में लाभ उठा पायेंगें। हाल ही में हुई दिल्ली सरकार की कैबिनेट मीटिंग में इस प्रस्ताव को पास कर दिया गया है। इस प्रस्ताव में जन्म प्रमाण पत्र, जाति प्रमाण पत्र, ड्राइविंग लाइसेंस और राशन कार्ड जैसी सेवाएं शामिल हैं।

मंत्रिमंडल की बैठक में, एक मध्यवर्ती एजेंसी द्वारा “प्रत्येक सफल लेनदेन” के लिए नागरिकों से 50 रुपये का एक सुविधाजनक शुल्क चार्ज करने के लिए प्रशासनिक सुधार विभाग के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी गई है।

इस ‘डोरस्टेप सर्विस’ को अगस्त में शुरू किया जायेगा। इस स्कीम का उद्देशय विभिन्न विभागों द्वारा की जाने वाली इन सार्वजनिक सेवाओं के लिए लगने वाली कतारों को खत्म करना है। इस योजना में जाती प्रमाण पत्र, नए जल कनेक्शन, आय, ड्राइविंग लाइसेंस, राशन कार्ड, निवास प्रमाण पत्र, शादी पंजीकरण, डुप्लीकेट आरसी और आरसी के पते में परिवर्तन जैसे विभिन्न दस्तावेज शामिल हैं।

Promotion

पहले ही सरकार एक फर्म को यह काम सौंपने का फैसला कर चुकी है जो इस प्रोजेक्ट के लिए एजेंसी के रूप में काम करेगी। इसके लिए कॉल सेंटर खोले जायेंगे और यह एजेंसी मोबाइल सहायकों की नियुक्ति करेगी। कोई भी व्यक्ति जो ड्राइविंग लाइसेंस के लिए आवेदन करना चाहता है उसे अपने क्षेत्र के कॉल सेंटर पर कॉल कर सभी जानकारी उपलब्ध करानी होगी।

जिसके बाद एक मोबाइल सहायक व्यक्ति के घर जाकर बाकी कागजात की जाँच कर तुरंत उनके आवेदन पर कार्य करेगा।

दिल्ली सरकार की यह पहल नागरिकों की सुविधा की दिशा में उठाया गया एक कदम है। जिसकी हम सराहना करते हैं।


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे।

शेयर करे

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है. निशा की कविताएँ आप https://kahakasha.blogspot.com/ पर पढ़ सकते हैं!

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

वीडियो: कैसे मुंबईकरों ने बचायी पानी में डूबते परिवार की जान!

क्यूँ है ‘दिनकर’ की यह कविता आज भी प्रासंगिक? कौन है ज़िम्मेदार?