ऑफर सिर्फ पाठकों के लिए: पाएं रू. 200 की अतिरिक्त छूट ' द बेटर होम ' पावरफुल नेचुरल क्लीनर्स पे।अभी खरीदें
X
धान की पराली से आलू की खेती कर पर्यावरण, पानी और पैसे, तीनों बचा रहे यह किसान, जानिए कैसे

धान की पराली से आलू की खेती कर पर्यावरण, पानी और पैसे, तीनों बचा रहे यह किसान, जानिए कैसे

ओडिशा के रेसिंगा गाँव के रहने वाले दिलीप बराल पहले पराली को खेतों में ही जला देते थे, लेकिन अब वह इससे आलू की खेती कर, बड़े पैमाने पर पानी और पैसों की बचत कर रहे हैं।

दिलीप बराल ओडिशा के रेसिंगा गाँव के रहने वाले हैं। देश के अधिकांश किसानों की तरह, वह भी धान की कटाई के बाद, रबी की फसल लगाने के लिए, पराली (Paddy Straw) को खेतों में ही जला देते थे।

यह खेतों को खाली करने के लिए सबसे आसान और सस्ता तरीका था। लेकिन, उन्हें इससे पर्यावरण को हो रहे नुकसान का अंदाजा नहीं था। इस दौरान, अंतर्राष्ट्रीय आलू केंद्र ने उनके गाँव के कुछ दिग्गज किसानों को धान की पराली यानि Paddy Straw से आलू की खेती करने की तकनीक के बारे में बताया। 

दिलीप इस उन्नत तकनीक के बारे में जानकर आश्चर्यचकित थे। क्योंकि यह कुछ ऐसा था जिससे पानी और पैसे, दोनों की बचत हो सकती थी। इसके बाद दिलीप ने बिना कोई देर किए इस तकनीक को अपनाने का फैसला कर लिया। इसके लिए उन्होंने, सबसे पहले दो साल की ट्रेनिंग ली तथा अपने खेतों में पराली जलाना बंद कर दिया, और 1.4 एकड़ जमीन पर 20 क्विंटल आलू उगाए।

paddy straw

दिलीप कहते हैं, “इस तकनीक के कारण मुझे और गाँव के अन्य किसानों को काफी मदद मिली। मेरी आशंकाओं के विपरीत, आलू की गुणवत्ता पहले की तरह ही है, और मैं इसे उसी दर पर बेच रहा हूँ। साथ ही, इससे मुझे पानी और मजदूरी की भी बचत होती है। इस तरह, यह किसानों के लिए हर तरह से फायदेमंद है।”

क्या है तकनीक

पारंपरिक तरीके से, आलू की खेती के लिए सबसे मुश्किल काम है, जमीन को तैयार करना। इसके लिए किसानों को भूमि को अनुकूल बनाने के लिए, अपने खेतों की कई बार जुताई करनी पड़ती है तथा जल-निकासी वगैरह का भी काफी ध्यान रखना पड़ता है। क्योंकि, थोड़ी सी चूक, पूरी फसल को बर्बाद कर सकती है।

लेकिन, इस विधि में खेतों की जुताई की कोई जरुरत नहीं होती है। इसमें आलू को, एक पंक्ति में 10 इंच की दूरी पर लगाया जाता है। जबकि, दो पंक्तियों के बीच की दूरी 1.5 फीट होती है।

दिलीप बताते हैं, “खेतों में आलू लगाने के बाद, इसे गोबर या किचन वेस्ट से ढक दिया जाता है। इसके चारों ओर खाद छिड़ककर, उसके ऊपर धान की की परत बिछाई जाती है। फिर, 7 दिनों के बाद, खेत की सिंचाई की जाती है।”

paddy straw

वह आगे बताते हैं कि इसके रखरखाव के लिए, हर 20-25 दिन में खेत की सिंचाई की जाती है। आलू का पौधा कम से कम 15 इंच लंबा होता है। जिसे पूरी तरह से तैयार होने में, करीब 75 दिन लगते हैं।

क्या हैं लाभ

दिलीप बताते हैं कि इसका सबसे बड़ा लाभ यह है कि, इससे 80 फीसदी तक पानी की बचत होती है। 

वह आगे कहते हैं, “धान की पराली में अधिक समय के लिए नमी बनी रहती है। जिससे पानी की जरुरत कम होती है। ऐसे में, मैं अपनी खेती के लिए काफी पानी बचा सकता हूँ, ताकि अनियमित बारिश से राहत मिले। साथ ही, पराली खेतों में खरपतवार को भी बढ़ने से रोकती हैं, जो आलू की खेती में सबसे बड़ी समस्या है।”

वह बताते हैं, “खरपतवार से आलू के उत्पादन में 30-40 फीसदी तक की कमी हो सकती है। आम तौर पर, किसान इसे खत्म करने के लिए मजदूरों को काम पर लगाते हैं। लेकिन, इस तकनीक से, इस समस्या से भी निपटा जा सकता है।”

paddy straw

दिलीप की इस सफलता को देख कर, उनके गाँव के सैकड़ों किसानों को भी इस तकनीक को अपनाने की प्रेरणा मिली।

ऐसे ही एक किसान हैं, दीपक कुमार बराल। दीपक और उनके पिता ने, आलू की खेती में हो रहे नुकसान के कारण, इसकी खेती करना छोड़ दिया था। लेकन, इस विधि के बारे में जानने के बाद, उन्होंने आलू की खेती फिर से शुरू कर दी।

वह कहते हैं, “इस तकनीक के जरिए, हमने पिछले महीने आलू लगाया था। यह एक आसान प्रक्रिया थी। इससे हमें 2000 रुपए की बचत हुई। धान की पराली हमारे खेतों में लगी थी, और हमें पानी खरीदने की जरूरत नहीं थी। अब तक, फसल की वृद्धि अच्छी है। यदि उत्पादन अच्छा होता है, तो हम इसका दायरा और बढ़ाएंगे।”

आज जब किसानों के लिए ‘पराली प्रबंधन’ और ‘पानी की कमी’, दो बड़ी चुनौतियाँ हैं। ऐसे में, आलू की खेती का यह तरीका, देश के किसानों के लिए एक वरदान साबित हो सकता है।

संपादन – जी. एन. झा 

मूल लेख – GOPI KARELIA

यह भी पढ़ें – चावल की बेकार भूसी को बना दिया ‘काला सोना’, एक साल में कमाए 20 लाख रूपये, जानिए कैसे!

यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें।

Paddy Straw, Paddy Straw

कुमार देवांशु देव

राजनीतिक और सामाजिक मामलों में गहरी रुचि रखनेवाले देवांशु, शोध और हिन्दी लेखन में दक्ष हैं। इसके अलावा, उन्हें घूमने-फिरने का भी काफी शौक है।
Let’s be friends :)
सब्सक्राइब करिए और पाइए ये मुफ्त उपहार
  • देश भर से जुड़ी अच्छी ख़बरें सीधे आपके ईमेल में
  • देश में हो रहे अच्छे बदलावों की खबर सबसे पहले आप तक पहुंचेगी
  • जुड़िए उन हज़ारों भारतीयों से, जो रख रहे हैं बदलाव की नींव