ऑफर सिर्फ पाठकों के लिए: पाएं रू. 200 की अतिरिक्त छूट ' द बेटर होम ' पावरफुल नेचुरल क्लीनर्स पे।अभी खरीदें
X
मिलिए राजस्थान के कारपेंटर राजू से, जिनकी लिखीं जानकारी पढ़ते हैं आप विकिपीडिया पर

मिलिए राजस्थान के कारपेंटर राजू से, जिनकी लिखीं जानकारी पढ़ते हैं आप विकिपीडिया पर

57 हज़ार एडिट्स कर चुके राजू जांगिड़ दुनिया के 11 हिंदी विकिपीडिया योगदानकर्ताओं में से एक, जिनके लेखों को पढ़ते हैं लाखों भारतीय

जोधपुर के राजू जांगिड़, वर्ष 2011 में आठवीं कक्षा के छात्र थे। एक दिन वह इंटरनेट पर बॉलीवुड अभिनेता मिथुन चक्रवर्ती के बारे में जानकारी खोज रहे थे। उनकी तलाश उन्हें अभिनेता के विकिपीडिया (Wikipedia) पेज पर ले आई। Wikipedia, जिसे दुनिया का सबसे बड़ा मुक्त विश्वकोश भी माना जाता है। इसके बाद उन्होंने नोटिस किया कि वह जो कुछ भी इंटरनेट पर ढूंढते हैं, तकरीबन हर खोज के लिए उन्हें एक Wikipedia पेज देखने को मिलता है। 

उन्होंने बताया, “साइट पर मेरे द्वारा खोजे गए हर विषय के बारे में जानकारी थी। इस तरह जानकारीयां अर्जित करने में मेरी रुचि बढ़ती गई, और मैं उन्हें खोजने के क्रम में वेबसाइट ब्राउज़ करता रहा।” 

अगले कुछ महीनों में, राजू ने Wikipedia के बारे में समझा तथा पेज बनाने वालों, योगदानकर्ताओं, संपादकों और इस संगठन के बारे में अधिक जानकारी एकत्रित की। अपनी कमजोर वित्तीय स्थिति के कारण, ठाडिया गाँव के इस युवा के पास स्मार्टफोन नहीं था। वह अपने सभी शोधों के लिए एक ‘कीपैड हैंडसेट’ का इस्तेमाल करते थे।

वह बताते हैं, “वेबसाइट पर मौजूद सदस्यों के बीच चर्चा होती थी तथा मैं अपने हर प्रश्न का उत्तर पाने के लिए उन सदस्यों से सम्पर्क करने लगा। मुझे पता चला कि, यह प्लेटफ़ॉर्म अपने योगदानकर्ताओं को पेमेंट नहीं देता है। इसके अतिरिक्त, कोई भी इस पेज पर कंटेंट को ‘लिख’ या ‘संपादित’ कर सकता है।”

यह बात सुनने या दिखने में सरल लगती है लेकिन, राजू को अपने लेखों को मंजूर करवाने के लिए उतना ही संघर्ष करना पड़ा। शुरूआती दौर में ‘कीपैड हैंडसेट’ से लिखना आसान नहीं था लेकिन, उन्होंने हार नहीं मानी और आज, वह हिंदी Wikipedia के समीक्षकों में से एक हैं। उन्होंने 1,880 लेखों में अपना योगदान तथा 57,000 से अधिक लेखों का हिंदी में संपादन भी किया है। 

मुश्किल थी शुरुआत:

Wikipedia Page
Hindi Wikipedia Page

राजू अब 22 साल के हैं। उनका मानना है कि उनका सफर व्यक्तिगत और प्रोफेशनल दोनों ही स्तर पर काफी संघर्ष भरा रहा है। उन्हें अपने किसान माता-पिता की मदद करने के लिए अपनी शिक्षा छोड़नी पड़ी। उनके परिवार के पास लगभग 7.5 एकड़ जमीन थी तथा खेती द्वारा, बड़ी मुश्किल से घर चल पाता था। इस कारणवश घरवालों ने उनसे कमाने का आग्रह किया। 

उन्होंने बताया, “मैंने दसवीं कक्षा के बाद स्कूल छोड़ दिया, और गाँव में एक कारपेंटर के रूप में काम करना शुरू कर दिया। जिससे मुझे हर महीने 7,000 रुपये मिलते थे।” 

इसके साथ-साथ Wikipedia में भी उनकी रुचि बनी रही। उन्होंने हिंदी लेखन के माध्यम से, Wikipedia को योगदान देने का निर्णय लिया। उन्होंने अपने और अपने भाई के लिए एक पेज बनाकर इसकी शुरुआत की, जिसमें अपने गाँव के बारे में भी कुछ जरुरी तथ्य लिखे। हालाँकि, अगले दिन ये सब गायब हो गया। तथ्यों का समर्थन करने हेतू, सम्बंधित ‘संदर्भ’ की अनुपस्थिति के कारण, संपादकों ने लेख को हटा दिया।

राजू ने द बेटर इंडिया को बताया, “मैंने लेखों को अपलोड करने के लिए दो वर्षों तक लगातार प्रयास किए लेकिन, असफल रहा। इस दौरान मुझे 2013 तथा 2014 में उनके द्वारा तीन बार ब्लॉक किया गया। इसके फलस्वरूप, मैंने सीखा कि सभी लेखों को निष्पक्ष और तटस्थ होने की काफी आवश्यकता होती है। साथ ही यह भी जाना कि, वे किसी व्यक्ति या सेलिब्रिटी का प्रचार नहीं कर सकते तथा लेखों की विश्वसनियता के लिए उद्धरणों और संदर्भों के समर्थन की आवश्यकता होती है।” 

उन्होंने 2015 में एक नया अकाउंट बनाया और सभी सामुदायिक दिशा-निर्देशों का पालन करने का निर्णय लिया। वह आगे कहते हैं, “मैंने अपने गाँव और पड़ोसी क्षेत्रों के तथ्यों को लिखना शुरू किया। उन्हें मंजूरी मिलने के बाद, मैंने क्रिकेट के बारे में लिखा। क्योंकि खेल में मुझे काफी दिलचस्पी थी। आखिरकार, मैंने भूगोल, इतिहास और मनोरंजन पर लेख लिखने शुरू किये।’’

Wikipedia
Raju has closely worked to encourage more members to contribute for Wikipedia Hindi.

लिखने की क्षमता और आत्मविश्वास के बावजूद, राजू को तकनीकी बाधाओं का सामना करना पड़ा। उन्होंने बताया, “मेरे पास स्मार्टफोन नहीं था, इसलिए मैं 150-200 शब्दों से ज़्यादा कोई लेख नहीं लिख सकता था। इस हैंडसेट में सॉफ्टवेयर क्रैश हो जाता था, जिससे सभी तथ्य मिट जाते थे। मैंने आखिरकार एक स्मार्टफोन खरीदा, लेकिन यह समस्या बनी रही। नए डिवाइस से मुझे लगभग 400 शब्द के लंबे लेख लिखने में मदद मिली। लेकिन, मुझे संदर्भों और उद्धरणों के लिए टैब स्विच करना पड़ता था। जिससे संपादन पृष्ठ रिफ्रेश होते रहने के कारण पूर्व-लिखित तथ्य मिट जाया करते थे।

इस बीच, कारपेंटर के रूप में राजू का वेतन 14,000 रुपये हो गया था। वह अपने माता-पिता को 10,000 रुपये दे देते, और शेष व्यक्तिगत खर्चे के लिए रखते थे। इस आय से उन्हें बारहवीं कक्षा की परीक्षा देने में मदद मिली। उन्होंने कहा, “मैं हर दिन सुबह 9 से 12 घंटे की शिफ्ट में काम करता था और काम के बीच में अपने लेखन के लिए समय निकालता था। फिर देर रात तक भी लिखता था।” 

लाखों लोगों तक पहुंचे:

2016 के मध्य में, राजू को पुणे, महाराष्ट्र में एक हिंदी विकिपीडिया सम्मेलन में भाग लेने का अवसर मिला। “मुझे समुदाय के सदस्यों द्वारा तकनीकी चुनौतियों के बारे में पता चला, जिनका सामना संपादकों को करना पड़ता था। इसलिए मैंने उनकी मदद करने का फैसला किया। दो सदस्यों को मेरी कमजोर आर्थिक हालातों के बारे में पता चला और उन्होंने दूसरे सदस्यों के साथ इस मुद्दे पर चर्चा की। उन्होंने मुझे एक लैपटॉप और इंटरनेट कनेक्शन देने के लिए एक ‘डोनेशन कैम्पेन’ करने का सुझाव दिया। यह एक लंबी प्रक्रिया थी, क्योंकि सभी नए तथा वरिष्ट सदस्यों को हार्डवेयर दान के पक्ष में नामांकित और वोट करने की आवश्यकता थी। उन्होंने बताया कि 6 महीने बाद दिसंबर माह में, उन्हें दोनों डिवाइस मिल गए। तब से, राजू ने हिंदी विकिपीडिया पर लंबे लेखों के लिए योगदान दिया और संपादक से लेकर एक समीक्षक तक के रूप में काफी प्रगति की है। 

2017 में, राजू ने अपनी शिक्षा को आगे बढ़ाने के लिए कारपेंटर की नौकरी छोड़ दी और कंटेंट राइटिंग में अपना कैरियर बनाया। उन्होंने कहा, “मैं विकिपीडिया पर लिखने से कमा नहीं रहा, लेकिन फिर भी मेरी इसमें रूचि है। मुझे इस बात की तसल्ली है कि लाखों लोग मेरे द्वारा लिखी गई जानकारी तक पहुँच रहे हैं। इस मंच ने मुझे पाठकों को सटीक और उपयोगी जानकारी प्रदान करने की अनुमति दी। मुझे दुनिया में सबसे अधिक एक्सेस की जाने वाली वेबसाइटों में से एक ‘Wikipedia’ के लिए लिखने पर काफी गर्व है। इसके अलावा, मुझे इसमें कोई पैसा भी नहीं लगाना पड़ता।” 

उनका एक वीडियो आप यहाँ देख सकते हैं:

राजू ने सैकड़ों लेखों में योगदान देते हुए 2018 में आर्ट्स में स्नातक की पढ़ाई पूरी की। उन्हें जोधपुर में एक कंटेंट राइटिंग कंपनी में नौकरी भी मिल गई तथा विकिपीडिया समुदाय ने भी अंततः उन्हें समीक्षक बनने के लिए नामांकित किया। उन्होंने बताया, “मेरी ज़िम्मेदारियाँ बढ़ गई हैं – मैं अब तथ्य-जाँच और लेखों को सही और उनकी समग्र गुणवत्ता में सुधार करने का कार्य करता हूँ। कई अवसरों पर, लेखकों के बीच तथ्यों की विश्वसनीयता को लेकर विवाद होते हैं तथा मेरा काम इस तरह के विवादों को हल करना और पाठकों तक विश्वसनीय जानकारी पहुंचाना है।” 

राजू के असाधारण योगदान को ध्यान में रखते हुए, समुदाय के सदस्यों ने, उन्हें तीन बार ‘एडमिनिस्ट्रेटर’ की जिम्मेदारी के लिए नामित किया है। हालाँकि, उन्होंने अब तक इस पद को स्वीकार नहीं किया है। वह कहते हैं, “मैं अभी अतिरिक्त जिम्मेदारी लेने के लिए पूर्णतः आश्वस्त नहीं हूँ, लेकिन अगला मौका आने पर मैं अपने फैसले पर फिर से विचार करूंगा।”

निष्पक्ष कंटेंट की ज़रुरत:

Hindi Wikipedia
Raju with founder and director of Wikipedia Hindi, Abhishek Suryawanshi.

राजू के काम की सराहना करते हुए, हिंदी विकिपीडिया के संस्थापक और निदेशक अभिषेक सूर्यवंशी कहते हैं, “भाषा के प्रति उनका योगदान बहुत अधिक रहा है। भारत में इस अनुभाग के लिए केवल 11 सक्रिय योगदानकर्ता हैं। क्षेत्रीय भाषाओं में जानकारी देने में उनका काम सराहनीय रहा है। राजू के काम को पूरे भारत में लाखों लोग पढ़ते हैं। लेख लिखने के अलावा, उन्होंने अधिकाधिक लेखकों को योगदान देने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए, विभिन्न आउटरीच कार्यक्रमों में भी भाग लिया है।”

अभिषेक आगे कहते हैं, “हाल ही में, राजू ने SWASTHA – ‘स्पेशल विकिपीडिया अवेयरनेस स्कीम फॉर हेल्थकेयर एफलिएट्स’ में भी योगदान दिया है, जो हिंदी में COVID-19 पर ‘इंटरनेट समुदाय’ को महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करता है।

राजू का मानना है कि, वेबसाइट में और अधिक योगदानकर्ता शामिल हों। उन्होंने अंत में कहा, “विभिन्न क्षेत्रों में इंटरनेट उपयोगकर्ता जो पढ़ना चाहते हैं, उन टॉपिक्स पर जानकारी के लिए हजारों पृष्ठ हैं। लेकिन, कोई भी जानकारी हिंदी में उपलब्ध नहीं है। तत्कालीन समय में निष्पक्ष और गैर-विवादास्पद जानकारी की आवश्यकता है, और हमारे जैसे आम लोग इसे प्रदान करने में मदद कर सकते हैं।”

संपादन – प्रीति महावर

मूल लेख: हिमांशु निंतावरे

यह भी पढ़ें: 16 वर्षीय छात्र का अनोखा आविष्कार, घर में गैस लीक होने पर यह डिवाइस आपको करेगा फोन

यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें।

Wikipedia, Wikipedia, Wikipedia, Wikipedia

निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है.
Let’s be friends :)
सब्सक्राइब करिए और पाइए ये मुफ्त उपहार
  • देश भर से जुड़ी अच्छी ख़बरें सीधे आपके ईमेल में
  • देश में हो रहे अच्छे बदलावों की खबर सबसे पहले आप तक पहुंचेगी
  • जुड़िए उन हज़ारों भारतीयों से, जो रख रहे हैं बदलाव की नींव