in

जानिए कौन है मुंबई की सडकों पर पंखा बेचने वाला लड़का, जिसे ढूंढ रहे थे आनंद महिंद्रा!

फोटो: एशियानेट न्यूज़

बिजनेस टाइकून आनंद महिंद्रा अपने बिजनेस के साथ-साथ ट्विटर पर उनके द्वारा ट्वीट किये गए फोटो और वीडियो के लिए भी प्रसिद्द हैं। जी हाँ, अक्सर वे ऐसे साधारण लोगों के बारे में ट्वीट करते हैं जिनमें कोई हुनर हो। वे न केवल इन हुनरमंद लोगों के बारे में ट्वीट करते हैं बल्कि उनकी मदद भी करते हैं। हाल ही में उनकी इस दरियादिली का एक और उदाहरण सामने आया।

दरअसल, 2 जुलाई 2018 को एक ट्विटर यूजर ऑस्टिन स्कारिआ ने एक बच्चे की वीडियो पोस्ट की। इस पोस्ट में उन्होंने आनंद महिंद्रा व रतन टाटा को टैग करते हुए एक बच्चे के बारे में बताया जो अलग-अलग भाषाएँ बोलकर मुंबई की सड़कों पर पंखा बेचता है।

इस वीडियो को जब आनंद महिंद्रा ने देखा तो वे इस बच्चे की काबिलियत से बहुत प्रभावित हुए। उन्होंने ऑस्टिन के ट्वीट को रीट्वीट किया और लोगों से इस बच्चे के बारे में पता लगाने की अपील की।

उनका पोस्ट ट्विटर पर वायरल हो गया। बहुत लोगों ने कमेंट कर बताया कि यह वीडियो पुरानी है और हो सकता है अभी यह बच्चा काफी बड़ा हो गया हो।

इसके एक हफ्ते बाद 9 जुलाई को आनंद महिंद्रा ने एक और ट्वीट किया, जिसमें उन्होंने बताया कि इस बच्चे को ढूंढ़ लिया गया है। “उसका नाम रवि चेकल्या है और वह अब शादीशुदा है। उसके बच्चे भी हैं। अभी भी वह पंखा बेचता है,”  महिंद्रा ने अपने ट्वीट में लिखा।

Promotion

साथ ही उन्होंने कहा कि उनकी टीम रवि को एक अच्छा जीवन प्रदान करने के लिए काम कर रही है। इससे पहले आनंद महिंद्रा ने एक मोची की मार्केटिंग स्किल से प्रभवित हो, उसकी भी मदद की है।


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे।

Promotion

देश में हो रही हर अच्छी ख़बर को द बेटर इंडिया आप तक पहुँचाना चाहता है। सकारात्मक पत्रकारिता के ज़रिए हम भारत को बेहतर बनाना चाहते हैं, जो आपके साथ के बिना मुमकिन नहीं है। यदि आप द बेटर इंडिया पर छपी इन अच्छी ख़बरों को पढ़ते हैं, पसंद करते हैं और इन्हें पढ़कर अपने देश पर गर्व महसूस करते हैं, तो इस मुहिम को आगे बढ़ाने में हमारा साथ दें। नीचे दिए बटन पर क्लिक करें -

₹   999 ₹   2999

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है.

कभी एक हॉल में चलाये जा रहे इस स्कूल को गुजरात के इस आईपीएस अफ़सर ने तिमंजिली ईमारत में बदल दिया!

कान्हा की भक्ति में लीन, हाशिम ने मीरा बाई के 209 पदों को 1494 अशआर की शायरी में पिरोया!