Search Icon
Nav Arrow

न बिजली चाहिए, न गैस; चूल्हा, ओवन और हीटर भी है यह ‘रॉकेट स्टोव’

‘रॉकेट स्टोव’ पर आप न सिर्फ खाना बना सकते हैं बल्कि इसमें एक इन-बिल्ट ओवन भी है और पानी गर्म करने के लिए हीटर भी!

Advertisement

क्या अपने कभी सोचा है कि अगर बिजली और गैस हमारे लिए न रहे तो? सोचिए तब हमारी जिंदगी कैसी रहेगी। दरअसल इन चीजों पर हम सभी पूरी तरह आश्रित हो गए हैं इसलिए इसके बिना जीवन हो भी सकता है, इसकी हम कल्पना भी नहीं कर सकते। लेकिन आज हम आपको जिस शख्स की कहानी सुनाने जा रहे हैं, उसने एक ऐसा अनोखा स्टोव तैयार किया, जिस पर आप न सिर्फ खाना बना सकते हैं बल्कि इसमें एक इन-बिल्ट ओवन भी है और साथ ही इसमें पानी गर्म करने के लिए हीटर भी लगा है। आपको यह जानकर ताज्जुब होगा कि इन सब काम के लिए आपको न गैस की जरूरत होगी और न ही बिजली की।

यह कहानी केरल के एर्नाकुलम में रहने वाले 57 वर्षीय अब्दुल करीम की है। अब्दुल ने द बेटर इंडिया को बताया, “पारंपरिक चूल्हे अभी भी बाज़ारों में उपलब्ध हैं लेकिन इनमें धुएं की समस्या के कारण लोग इस्तेमाल करने से कतराते हैं। इसलिए मैंने अपने ‘रॉकेट स्टोव’ पर काम करना शुरू किया।”

करीम ने मार्च 2020 में एक ऐसा अनोखा स्टोव तैयार किया, जिस पर आप न सिर्फ खाना बना सकते हैं बल्कि इसमें एक इन-बिल्ट ओवन है और पानी गर्म करने के लिए हीटर भी। वह बताते हैं कि इस स्टोव को लकड़ी के अलावा, बेकार कागज़ और नारियल की छाल से भी जलाया जा सकता है। 

उनका यह रॉकेट स्टोव, साल 1850 के आस-पास बनाए गए ब्रिटिश स्टोव के आईडिया से प्रेरित है। वह बताते हैं, “ब्रिटिश वर्जन में एक इंसुलेटेड वर्टीकल चिमनी होती थी। मैंने यह कोडैकनाल और मुन्नार के कई होटलों में देखी है।”

3 in 1 Stove
Abdul Kareem

उन्होंने अपने स्टोव पर काम करने से पहले ब्रिटिश स्टोव के बारे में ढेर सारी जानकारी इकट्ठा की। वह बताते हैं, “कोच्ची में अपनी एक कंपनी है, एक्सीलेंट इंजीनियरिंग, जहाँ हम पिछले 40 बरसों से बॉयलर और अन्य इंडस्ट्रियल मेटेरियल बना रहे हैं। लगातार रिसर्च करते हुए अपने 5 कर्मचारियों की मदद से मैंने स्टोव का नया मॉडल तैयार किया।” 

करीम ने स्टोव को बनाने के लिए 4 मिमी माइल्ड स्टील शीट और इसमें ओवन को बनाने के लिए स्टेनलेस स्टील शीट का प्रयोग किया है। इसे बनाने का सभी रॉ मटेरियल उन्होंने अपनी कंपनी से ही लिया और यह बाजार में भी उपलब्ध है। इसके बारे में उन्होंने बताया, “जब हमने स्टोव बना लिया तो इसे अपने घर के पास टेस्ट किया। आग के लिए लकड़ी का इस्तेमाल किया और कुकिंग स्टोव पर चावल बनाए। ओवन में चिकन बनाया गया और साथ ही, हीटर से पानी गर्म किया गया। मुझे बहुत ख़ुशी हुई कि यह स्टोव वैसे ही काम करता है जैसे मैंने सोचा था। बाद में आस-पड़ोस के लोगों से हमें स्टोव के लिए ऑर्डर मिलने लगा। इसके बाद, मैंने अपनी कंपनी के कर्मचारियों की मदद से रॉकेट स्टोव का प्रॉडक्शन शुरू किया।”

इस स्टोव में एक कुकिंग स्टोव, ओवन, वाटर हीटर और धुएं के निकलने के लिए एक लंबा पाइप है। अब्दुल कहते हैं कि उनका यह प्रोडक्ट, सिर्फ एक बार की इंवेस्टमेंट है। “बहुत से प्रोडक्ट्स आपको 2-3 साल की वारंटी के साथ मिलते हैं, लेकिन हम आपको लाइफ-टाइम वारंटी दे रहे हैं,” उन्होंने आगे कहा। 

Kerala Man Innovation
One of the models of Rocket Stove

उनके मुताबिक, लोग किसी भी तरह का सूखा कचरा ईंधन के तौर पर इस्तेमाल कर सकते हैं जो हानिकारक न हो। सभी तरह के बर्तन जैसे मिट्टी के घड़े और नॉन-स्टिक बर्तन भी इस पर आप इस्तेमाल कर सकते हैं। 

Advertisement

अब्दुल की स्टोव चार मॉडल में उपलब्ध हैं और इन्हें आसानी से इधर से उधर ले जाया जा सकता है। उनके प्रीमियम मॉडल की कीमत 20,000 रुपये हैं और इसका वजन 60 किलो है। रेग्युलर मॉडल में कुकिंग और ग्रिल्लिंग के लिए दो विकल्प हैं। इस मॉडल की कीमत साढ़े छह हज़ार रुपये है और वजन 35 किलो है। बेसिक मॉडल में सिर्फ कुकिंग का विकल्प है जो 5000 रुपये का है और 30 किलो इसका वजन है। 

उनके पास एक और मॉडल है जो ‘टूर पैकेज मॉडल’ है। इस पोर्टेबल स्टोव की कीमत 7000 रुपये है और इसका वजन है 20 किलो। 

Innovative Stove

अब्दुल का यह राकेट स्टोव लॉन्च होने से पहले कई तरह के परीक्षण से गुजरा है। वह बताते हैं कि उन्होंने पिछले 6 महीनों में कई सारे क्वालिटी टेस्ट किए हैं ताकि सुरक्षा के सभी मानकों पर खरा उतरा जा सके। उनके इस स्टोव के लिए उन्हें फ़िलहाल सिर्फ केरल से आर्डर मिल रहे हैं। लेकिन उनकी कोशिश है कि इसका प्रोडक्ट्स और बड़े स्तर पर हो। 

अब तक उन्हें 100 से ज़्यादा स्टोव के आर्डर मिल चुके हैं। अंत में वह कहते हैं कि वह केरल के बाहर भी स्टोव डिलीवर करने में सक्षम हैं। अगर आप भी उनसे यह स्टोव मंगवाना चाहते हैं तो 95624 02265 पर कॉल कर सकते हैं!

मूल लेख: संजना संतोष

संपादन – जी. एन झा

यह भी पढ़ें: केरल: चलाते हैं इलेक्ट्रिक कार, फिर भी 96% कम हुआ बिजली बिल, जानिए कैसे

यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है, या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ साझा करना चाहते हो, तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखें, या Facebook और Twitter पर संपर्क करें।

Kerala Man Innovation, Kerala Man Innovation, Kerala Man Innovation

Advertisement
close-icon
_tbi-social-media__share-icon