in

18 दिन बाद सही-सलामत गुफा से निकाली गयी थाई टीम; इन दो भारतीय इंजीनियरों ने की मदद!

फोटो: मुंबई मिरर

त्तर थाईलैंड की एक गुफा में फंसे ‘वाइल्ड बोअर्स’ टीम के 12 खिलाड़ी और उनके कोच को कल सही सलामत बाहर निकाल लिया गया। यह टीम अपने कोच के साथ 23 जून को इस गुफा में फंस गयी थी। जिसके बाद उन्हें 18 दिन के लम्बे रेस्क्यू मिशन के बाद निकाला गया।

दो भारतीय इंजीनियर, महाराष्ट्र के सांगली जिले के प्रसाद कुलकर्णी और पुणे के श्याम शुक्ला, थाईलैंड में इस रेस्क्यू टीम का हिस्सा थे। पूरी टीम में केवल वही दो भारतीय थे। यह मिशन किर्लोस्कर ब्रदर्स लिमिटेड कंपनी ने पूरा किया।

इस टीम को 5 जुलाई को बहुत ही खराब मौसम में उस 4 किलोमीटर की उबड़-खाबड़ गुफा से पानी बाहर निकालने का काम मिला। हालाँकि, इस गुफा से लोगों को निकालना बिल्कुल भी आसान नहीं था। लेकिन अपने हौंसले और हिम्मत के चलते इस टीम ने यह कर दिखाया।

किर्लोस्कर में प्रोडक्शन डिज़ाइनर हैड, कुलकर्णी ने बताया, “यह गुफा 20 वर्ग किलोमीटर की पहाड़ी में है। सब तरफ बस अँधेरा था। इसकी टोपोग्राफी के चलते स्कूबा डाइवर्स भी हमारी मदद नहीं कर सकते थे।”

कुलकर्णी पिछले 25 सालों से सांगली में किर्लोस्कर वाडी में काम कर रहे हैं।


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे।

शेयर करे

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है. निशा की कविताएँ आप https://kahakasha.blogspot.com/ पर पढ़ सकते हैं!

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

25 गरीब बच्चों के लिए उनकी माँ बनी यूपी के आईएएस अफ़सर की पत्नी, हिचकी फिल्म से मिली प्रेरणा!

मध्य-प्रदेश: लाखों की नौकरी छोड़ बने किसान; बिचौलियों से मुक्त करा रहे है किसानों को!