in

मुंबई की रफ़्तार को सलाम! ब्रिज टूटने के बावजूद प्रशासन ने तुरंत किये कई इंतजाम!

3 जुलाई की सुबह मुंबई में हुए अँधेरी ब्रिज हादसे के बाद, अँधेरी स्टेशन से गुजरने वाली लम्बे रूट की ट्रेन व लोकल ट्रेन के यात्रियों को परेशानी होना सामान्य है। लेकिन इस सबके बीच अच्छी खबर है यात्रियों की सुविधा को लेकर प्रशासन की पहल।

जी हाँ, यदि आप पश्चिम रेलवे का ट्विटर अकाउंट देखेंगें, तो आपको पता चलेगा कि किस तरह रेलवे प्रशासन इस आपातकालीन स्थिति में यात्रियों की देखभाल में लगा है। अँधेरी ब्रिज हादसे के कारण जिन भी ट्रेनों की आवाजाही में समस्या हो रही रही हैं, उन सभी ट्रेन के यात्रियों के लिए नाश्ता, खाना-पानी आदि का इंतजाम किया गया।

इसके अलावा लोकल ट्रेन के यात्रियों के लिए बस प्रशासन द्वारा बोरीवली-बांद्रा, बांद्रा-अँधेरी/गोरेगांव व दादर-गोरेगांव के रूट पर एक्स्ट्रा बस चलवाई गयी। ताकि रोजमर्रा के इन यात्रियों को यात्रा करने में असुविधा न हो।

इस मुश्किल समय में मुंबई के डिब्बावाले भी प्रशासन की मदद में जुटे हैं। वे जन-मानस को खाना प्रदान कर उनकी सुविधा निश्चित कर रहे हैं।

मुम्बई ब्रिज हादसा : महज़ 55 मीटर की दूरी पर ब्रेक लगा, ड्राइवर ने बचाई यात्रियों की जान!

इसके अलावा लगभग 500 रेलवे कर्मचारियों ने मिलकर अँधेरी स्टेशन ट्रैक को फिर से सामान्य करने का जिम्मा लिया। भारी बारिश के बीच भी ये कर्मचारी काम में जुटे रहे और कुछ घंटों बाद स्टेशन पर काम पूरा कर लिया गया।

ट्विटर पर प्रशासन के काम को सराहा जा रहा है। यक़ीनन, रेलवे प्रशासन की यह पहल कबील-ए-तारीफ़ है। हम उम्मीद करते हैं कि जल्द से जल्द गोखले ब्रिज की मरम्मत हो और मुंबईकरों को राहत मिले।

( संपादन – मानबी कटोच )


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे।

शेयर करे

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है. निशा की कविताएँ आप https://kahakasha.blogspot.com/ पर पढ़ सकते हैं!

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

खराब मौसम के बावजूद, यह डॉक्टर व उनके दो सहयोगी हर दिन कर रहे हैं 50 अमरनाथ यात्रियों का इलाज!

वैज्ञानिकों ने पाया चकोतरे में डायबिटीज़ से लड़ने की ताकत!