in

11 वर्षीय पाकिस्तानी बच्चे ने गलती से पार की सीमा, भारतीय सेना ने नए कपडे व मिठाई के साथ लौटाया!

फोटो: प्रतीकात्मक तस्वीर/न्यूज़ 18

पिछले हफ्ते, बुधवार को भारतीय सेना ने एक पाकिस्तानी बच्चे को पाकिस्तानी सेना को सौंपा। दरअसल, वह बच्चा गलती से सीमा पार भारत के जम्मू-कश्मीर के पुंछ जिले में प्रवेश कर गया था। पाकिस्तान द्वारा अधिकृत कश्मीर से ताल्लुक रखने वाले इस बच्चे को मिठाई और नए कपड़ों के साथ वापिस भेजा गया।

न्यूज़ 18 की रिपोर्ट के मुताबिक, इस बच्चे का नाम मोहम्मद अब्दुल्लाह है। 24 जून को यह बच्चा पूँछ ज़िले के देगवार इलाके में मिला था। जिसके बाद इसे जम्मू-कश्मीर पुलिस के सामने पेश किया गया।

एक सुरक्षा प्रवक्ता ने बताया कि बच्चे को मानवता के आधार पर छोड़ दिया गया। क्योंकि वह बहुत छोटा था। इसके अलावा दोनों देशों के बीच विश्वास-निर्माण को बढ़ावा देना भी एक उद्देशय है।

प्रवक्ता ने कहा, “भारतीय सेना मानवता के आधार पर खड़ी है। और निर्दोष नागरिकों के मामलों में संवेदनशीलता बरकरार रखती है।”

Promotion
Banner

भारत और पाकिस्तान के मध्य सभी तनावों के बावजूद, यह जानकर ख़ुशी होती है कि इंसानियत अभी भी बाकी है। भारतीय सेना का यह कदम यक़ीनन सराहनीय है।
हम उम्मीद करते हैं कि भविष्य में दोनों देशों की तरफ से शांति बनाये रखने पर जोर दिया जाये।


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे।

Promotion
Banner

देश में हो रही हर अच्छी ख़बर को द बेटर इंडिया आप तक पहुँचाना चाहता है। सकारात्मक पत्रकारिता के ज़रिए हम भारत को बेहतर बनाना चाहते हैं, जो आपके साथ के बिना मुमकिन नहीं है। यदि आप द बेटर इंडिया पर छपी इन अच्छी ख़बरों को पढ़ते हैं, पसंद करते हैं और इन्हें पढ़कर अपने देश पर गर्व महसूस करते हैं, तो इस मुहिम को आगे बढ़ाने में हमारा साथ दें। नीचे दिए बटन पर क्लिक करें -

₹   999 ₹   2999

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है.

आखिर क्यों जरूरी है दुर्घटना के तुरंत बाद मेडिकल चेकअप, जिसे अनदेखा करने से हुई पुणे के धीरेन तिवारी की मौत!

महाराष्ट्र की प्राजक्ता ने मल्टीनेशनल कंपनी की नौकरी छोड़ शुरू किया मधुमक्खी पालन, 7 लाख है सालाना कमाई!