in

पैरों से ब्रश पकड़ पेंटिंग करने वाले ऋतिक को दिल्ली हाई कोर्ट का तोहफ़ा है कृत्रिम हाथ!

फोटो: द लॉजिकल इंडियन

दिल्ली के 16 वर्षीय ऋतिक के लिए पेंटिंग करना उनका जूनून रहा है। जन्म से ऋतिक के दोनों हाथ खराब हैं लेकिन फिर भी वे पैर से पेंटिंग करते हैं। 12वीं कक्षा के छात्र ऋतिक ने अपने स्कूल में कई प्रतियोगिताओं में पुरस्कार जीते है।

हाल ही में, वे भारतीय संविधान के शिक्षा के अधिकार, 2009 के अंतर्गत कृत्रिम हाथ प्राप्त करने वाले पहले छात्र बने हैं। उनका पांच सदस्यीय परिवार पुरानी दिल्ली के सदर बाज़ार में रहता है। चूंकि उनके पिता महेंद्र, एक छोटे से कैटरर हैं. तो परिवार की आय बहुत ज्यादा नहीं है। इसलिए उनके परिवार के लिए उनका ऑपरेशन कराना संभव नहीं था।

फोटो: द इंडियन एक्सप्रेस

लेकिन, ऋतिक की माँ उषा ने ठाना कि वे ऋतिक का इलाज़ जरूर कराएंगी। इसके लिए उन्होंने बहुत से सरकारी अस्पतालों का दरवाजा खटखटाया। लेकिन उन्हें कहीं से भी कोई मदद नहीं मिली।

“दो साल पहले मैंने पहली बार कृत्रिम हाथों के बारे में सुना था। जब मैंने अस्पताल में पता किया, तो उन्होंने दोनों अंगों के लिए 10 लाख रुपये की मांग की। मेरा दिल टूट गया था क्योंकि हमारे लिए इतनी राशि इकट्ठा करना असंभव था,”  उषा ने बताया

ऐसे में एक वकील व सामाजिक कार्यकर्ता अशोक अग्रवाल उनके लिए उम्मीद की किरण बनकर उभरे।

Promotion

अग्रवाल ने दिल्ली उच्च न्यायालय में एक पीआईएल दायर की जिसके बाद दिल्ली सरकार को बच्चे के कृत्रिम हाथ के लिए ऑपरेशन कराने का आदेश दिया गया। अग्रवाल ने अदालत में तर्क दिया कि विकलांग व्यक्ति अधिनियम, 2016 के अधिकारों के अनुसार, कोई भी सरकार विकलांग छात्र को जरूरी सहायक उपकरण उपलब्ध कराने के लिए बाध्य है। जब तक कि छात्र 18 वर्ष का न हो जाये।

इसके बाद दिल्ली उच्च न्यायालय ने दिल्ली सरकार को नोटिस जारी किया। नोटिस के जवाब में, लोक नायक अस्पताल के मेडिकल डायरेक्टर ने अदालत को बताया कि बच्चा गंभीर अक्षमता से पीड़ित है और कृत्रिम अंग के लिए धन दिल्ली आरोग्य कोष के माध्यम से आयोजित किया जाएगा। इस सब में लगभग दो महीने के अंदर बच्चे को कृत्रिम हाथ प्रदान किये जा सकेंगें।

हालाँकि, दिल्ली सरकार को फंड देने में छह महीने लग गए। लेकिन ख़ुशी इस बात की है कि ऋतिक के दाएं हाथ का ऑपरेशन हो चूका है और जल्द ही उनके बाएं हाथ का ऑपरेशन भी करवाया जायेगा।

( संपादन – मानबी कटोच )

मूल लेख: जोविटा अरान्हा


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे।

Promotion

देश में हो रही हर अच्छी ख़बर को द बेटर इंडिया आप तक पहुँचाना चाहता है। सकारात्मक पत्रकारिता के ज़रिए हम भारत को बेहतर बनाना चाहते हैं, जो आपके साथ के बिना मुमकिन नहीं है। यदि आप द बेटर इंडिया पर छपी इन अच्छी ख़बरों को पढ़ते हैं, पसंद करते हैं और इन्हें पढ़कर अपने देश पर गर्व महसूस करते हैं, तो इस मुहिम को आगे बढ़ाने में हमारा साथ दें। नीचे दिए बटन पर क्लिक करें -

₹   999 ₹   2999

Written by निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है.

मुम्बई ब्रिज हादसा : महज़ 55 मीटर की दूरी पर ब्रेक लगा, ड्राइवर ने बचाई यात्रियों की जान!

आईपीएस संतोष निम्बालकर की तस्वीर ट्विटर पर शेयर हो रही है, वजह बहुत ही प्यारी है!