Search Icon
Nav Arrow
फोटो: फेसबुक/ऐ. जोशेफ

सलाम! मुंबई के विरार में बच्चों को बहने से बचाने के लिए एक वैन ड्राइवर ने अपनी जान दे दी!

मुंबई के विरार में कल एक नाले में बहने से एक वैन ड्राइवर की मौत हो गयी। दरअसल, 40 वर्षीय प्रकाश बालू पाटिल ने हाल ही में स्कूल के बच्चों को लाने-ले जाने के लिए वैन चलाना शुरू किया था। मुंबई में भारी बारिश के चलते विरार में स्कूल जल्दी बंद हो गए।

स्कूल से बच्चों को वापिस लाते समय वैन नारंगी गांव के पास एक नाले में फंस गयी। पानी के बहाव के कारण ड्राइवर और बच्चे बाहर निकलने के लिए कुछ नहीं कर पा रहे थे।

अर्नाला पुलिस स्टेशन के एक अधिकारी ने बताया कि जब वैन में बैठे दो बच्चे पानी में बहने लगे तो पाटिल बिना अपनी परवाह किये, अपनी सीट छोड़ बच्चों को बचाने की कोशिश में जुट गया। हालाँकि, दोनों बच्चे तो बच गए लेकिन इस सब में पाटिल ने अपना संतुलन खो दिया और पानी के साथ बह गए।

पाटिल के पीछे उनके परिवार में उनकी पत्नी, तीन बच्चे और माता-पिता रह गए हैं। उनके मृत शरीर को बाद में फायर फाइटर द्वारा ढूंढा गया।

पुलिस ने दुर्घटनात्मक मौत की रिपोर्ट दायर की है और आवश्यक जांच चल रही है। वैन में विरार के ग्लोबल सिटी निवासी और रुस्तमजी स्कूल के सात से आठ बच्चे थे।

निस्संदेह, पाटिल के बलिदान को शब्दों में नहीं बयान किया जा सकता है। लेकिन हम उम्मीद करते हैं कि उनके परिवार को इस मुश्किल घड़ी से लड़ने की ताकत मिले। इस दुनिया में पाटिल जैसे लोग हैं जो बार-बार साबित करते हैं कि इंसानियत से बड़ा कुछ नहीं होता।

हम पाटिल को सलाम करते हैं जिन्होंने दो नन्हीं ज़िंदगियाँ बचाने के लिए खुद को न्योछावर कर दिया।


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे।

 

 

_tbi-social-media__share-icon