ऑफर सिर्फ पाठकों के लिए: पाएं रू. 200 की अतिरिक्त छूट ' द बेटर होम ' पावरफुल नेचुरल क्लीनर्स पे।अभी खरीदें
X
हरियाणा की गोदिकां पंचायत का फैसला, ‘बेटी वहीं ब्याहेंगें, जिस घर शौचालय पायेंगें’!
फोटो: pinkvilla.com/दैनिक जागरण

हरियाणा की गोदिकां पंचायत का फैसला, ‘बेटी वहीं ब्याहेंगें, जिस घर शौचालय पायेंगें’!

रियाणा की गोदिकां पंचायत ने फैसला किया है कि जिस भी घर में शौचालय नहीं होगा वहां वे अपनी बेटियों की शादी नहीं करेंगें। अभिनेता अक्षय कुमार और भूमि पेडनेकर की फिल्म, टॉयलेट: एक प्रेम कथा से प्रभावित गांव के सरपंच धर्मपाल ने यह प्रस्ताव पारित किया।

सरपंच ने कहा, “हमारे गांव के हर घर में शौचालय हैं। यह गलत होगा, अगर हम अपनी बेटियों की शादी उन घरों में करते हैं जिनके यहां शौचालय नहीं हैं। अगर लड़कियों को शौच के लिए अपने घरों से बाहर जाना पड़े, तो यह सुरक्षित नहीं है। इसलिए, हमने फैसला किया है कि हम उन लोगों यहाँ अपनी बेटियों की शादी नहीं करेंगे जिनके घरों में शौचालय नहीं हैं।”

गोदिकां पंचायत को पहले ही खुला-शौच मुक्त घोषित किया जा चूका है। इस तरह के प्रस्ताव को पारित करने वाली गोदिकां पंचायत देश की पहली पंचायत है।

“अगर मैं शादी करूंगी तो पहले देखूंगी की उस घर में शौचलय है या नहीं। परिवार ऐसा होना चाहिए जो लड़कियों की इज़्ज़त करे और उन्हें पढ़ाएं न कि बेटियों को बोझ समझे,” यह कहना है गांव की एक लड़की का।

जिला विकास और पंचायत अधिकारी प्रितपाल सिंह ने कहा कि जिला प्रशासन ने क्षेत्र के सभी सरपंचों को अक्षय कुमार और भूमि पेडनेकर अभिनीत फिल्म दिखाई थी। यहीं से धर्मपाल इस प्रस्ताव के लिए प्रेरित हुए।

इसके अलावा, “बेटी वही ब्याहेंगें, जिस घर में शौचालय पायेंगें” नारे के साथ पोस्टर और बैनर भी जल्द ही लगवाएं जायेंगें। हम गोदिकां पंचायत के इस फैसले की सरहाना करते हैं और उम्मीद करते हैं कि देश की बाकी पंचायते भी महिलाओं की सुरक्षा और स्वच्छता संबंधित इस तरह के कदम उठाएंगे।

( संपादन – मानबी कटोच )


यदि आपको इस कहानी से प्रेरणा मिली है या आप अपने किसी अनुभव को हमारे साथ बांटना चाहते हो तो हमें hindi@thebetterindia.com पर लिखे, या Facebook और Twitter पर संपर्क करे।

निशा डागर

बातें करने और लिखने की शौक़ीन निशा डागर हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं. निशा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन और हैदराबाद विश्वविद्यालय से मास्टर्स की है. लेखन के अलावा निशा को 'डेवलपमेंट कम्युनिकेशन' और रिसर्च के क्षेत्र में दिलचस्पी है.
Let’s be friends :)
सब्सक्राइब करिए और पाइए ये मुफ्त उपहार
  • देश भर से जुड़ी अच्छी ख़बरें सीधे आपके ईमेल में
  • देश में हो रहे अच्छे बदलावों की खबर सबसे पहले आप तक पहुंचेगी
  • जुड़िए उन हज़ारों भारतीयों से, जो रख रहे हैं बदलाव की नींव